ब्रेकिंग न्यूज़
भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

संयुक्त छात्र संघ ने सीएए ओर छात्रों के ऊपर हुए हमले पर निकाला विरोध मार्च

Bhola Tiwari Jan 21, 2020, 6:06 PM IST राज्य
img

● राष्ट्रपति के नाम एसडीपीओ को सौंपा ज्ञापन

● केंद्र सरकार ने अपनी जनविरोधी नीतियों से देश को जंग का मैदान बना दिया है : जफीर अहमद कुरैशी


जितेन्द्र कुमार

रामगढ़ : संयुक्त छात्र संघ के बैनर तले एआईएसएफ, एनएसयूआई, एआईएसए ने संयुक्त रूप से सीएए, एनआरसी, एनपीआर ओर देश के विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं में हो रहे छात्रों पर जानलेवा हमला के विरोध में मंगलवार को शहर में विरोध मार्च निकाला गया। यह विरोध मार्च शहर के मेन रोड स्थित सुभाष चौक से निकला जोकि ब्लॉक स्थित अनुमंडल कार्यालय में पहुच कर समाप्त हुआ। साथ ही रामगढ़ एडीओ अनंत कुमार को राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी सौंपा गया। इस मौके पर विरोध मार्च का नेतृत्व कर रहे एआईएसएफ के जिला सचिव जफीर अहमद कुरैशी ने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार के जनविरोधी नीतियों एव छात्रों पर हुए हमले के खिलाफ यह विरोध मार्च निकाला गया है।


कहां की भाजपा सरकार ने अपनी जन विरोधी नीतियों के कारण देश को जंग का मैदान बना दिया है। जिससे कि हर तबके के लोग महिला, बच्चे, छात्र, नौजवान, किसान, मजदूर सभी सड़क पर आ गए हैं। मोदी जी केवल वोट बैंक के लिए देश में सीएए लाना चाह रही है। साथ ही सीएए लाने के बाद एनआरसी को लागू करेगी, यह बात खुद गृह मंत्री अमित शाह ने सदन में कहा था। कहा कि हम छात्र हैं और यह हमारा कर्तव्य है कि सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ आवाज उठाएं। क्यों कि यह हमारा संवैधानिक अधिकार है, और इसे हम बार-बार कहेंगे। पूरी दुनिया ने देखा है कि किस प्रकार भाजपा की सरकार ने छात्रों के खिलाफ दमनकारी नीति अपनाया है, जैसे कि छात्र नहीं कोई अपराधी हो। साथ ही जिस तरह जेएनयू में पुलिस के सामने गुंडे घुसकर महिला छात्रों एवं शिक्षकों यहां तक कि विकलांगों को भी मारा पीठ और पुलिस उन अपराधियों को पकड़ने की जगह जाने दिया। दूसरी ओर सीएए, एनआरसी, एनपीआर जैसे काले कानून लाकर देश में स्थिरता ला दी है। देश मे जीडीपी गिरता जा रहा है, महंगाई चरम पर है, बेरोजगारी का तांडव मच रहा है। लेकिन सरकार को यह सब नहीं दिख रहा है, दिख रहा है, तो सिर्फ नागरिकता कानून यह सिर्फ वोट बैंक की राजनीतिक है, और कुछ नहीं है। जब तक यह कानून वापस नहीं होता है, हम विरोध प्रदर्शन करते रहेंगे। विरोध मार्च में मुख्य रूप से आशीष प्रकाश, वजाहत उल्लाह, मोहम्मद अख्तर, जमील अकर, साजिद कुरैशी, वाहिद कुरैशी, कैफ, प्रिंस, जीशान, अयान, बबीता कुमारी, इमरान अंसारी, कृष्णा मुर्मू सहित अन्य शामिल थे।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links