ब्रेकिंग न्यूज़
अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप         BIG NEWS : कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से किया इनकार, पाकिस्तान ने दिया काउंसलर एक्सेस का प्रस्ताव         पुलिस पूछ रही है- कहां है दुबे         झारखंड मैट्रिक रिजल्ट : स्टेट टॉपर बने मनीष कुमार         झारखंड बोर्ड परीक्षा रिजल्ट : कोडरमा अव्वल और पाकुड़ फिसड्डी         BIG NEWS :  मैट्रिक का रिजल्ट जारी, 75 परसेंट पास हुए छात्र         पाकिस्तान की करतूत, बालाकोट सेक्टर के रिहायशी इलाकों में की गोलाबारी, एक महिला की मौत          BIG NEWS : होम क्वारंटाइन हो गए हैं सीएम हेमंत सोरेन, आज हो सकता है कोरोना टेस्ट !         BIG NEWS : मंत्री मिथिलेश, विधायक मथुरा समेत 165 नए कोरोना पॉजिटिव         BIG NEWS : उड़ी सेक्टर में भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लद्दाख में एलएसी पर सेना पूरी तरह से मुस्तैद         CBSE: नौवीं से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के सिलेबस में होगी 30 फीसदी कटौती         BIG NEWS : पुलवामा आतंकी हमले में शामिल एक और OGW को NIA ने किया गिरफ्तार         BIG NEWS : कल घोषित होगा मैट्रिक का रिजल्ट         BIG NEWS : POK में चीन और पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन         बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!        

इतिहास तो पूछेगा...

Bhola Tiwari Jan 20, 2020, 10:30 AM IST टॉप न्यूज़
img

● जनवरी की वह काली रात जिसे याद कर आज भी सिहर उठते हैं कश्मीरी हिन्दू ..


 रंजीत कुमार

पटना : इतिहास तो पूछेगा ही कि 19 जनवरी 1990 को दिल्ली में किसकी सरकार थी। क्या वह स्वतंत्र भारत की स्वतंत्र सरकार थी, क्या वह सेकुलर सरकार थी? या उस दिन दिल्ली के तख्त पर कोई सिकंदर लोदी विराजमान था। इतिहास तो पूछेगा ही तब देश में जो अखबार छपते थे, उसके संपादक कौन-कौन थे। कश्मीर के रिपोर्टरों का क्या नाम था... हिंदुओं के सामूहिक जेनोसाइड और बलात्कार की खबर को खा जाने वाले उन रिपोर्टरों के खिलाफ अखबार , टीवी और रेडियो (बीबीसी समेत) के सम्पादकों ने क्या कार्रवाई की? इस घटना को चुपचाप पचा जाने वाली राजनीतिक पार्टियों को पुनः जनता से वोट मांगने की हिम्मत कैसे हुई?

धर्म बदलो, मरो या पलायन करो, हमे कश्मीर चाहिए पंडिताइन सहित और पंडित रहित , आजादी का मतलब क्या .ला इलाही लिल्लिलाह जैसे इस्लामी नारों से कश्मीर घाटी थर्राने के साथ हिन्दू रक्त और बलात्कार से कराह उठी थी .....

करीब 30 साल पहले कश्मीर से अल्पसंख्यक कश्मीरी हिन्दुओ का पलायान हुआ। इस बीच कितनी ही सरकारें बदलीं, कितने मौसम आए...गए, पीढ़ियां तक बदल गईं, लेकिन कश्मीरी पंडितों की घर वापसी और न्याय के लिए लड़ाई जारी रही । पलायन की कहानी किसी से छिपी नहीं है। लेकिन भारत की मक्कार शेखुलर मीडिया , आज के विपक्षी नेताओं ,मानवाधिकार पर गला फाड़ने वाले NGO , महिला आयोग , शेष भारत के मुसलमानों ने कभी इसका संज्ञान नही लिया सन् 1989-1990 में जो हुआ, उसका उल्लेख करते-करते तीस साल बीत गए, लेकिन इस पीड़ित समुदाय के लिए कुछ नहीं बदला ।

लेकिन जो बदल रहा है उससे इस समुदाय के अस्तित्व, संस्कृति, रीति-रिवाज, भाषा, मंदिर और अन्य धार्मिक स्थल धीरे-धीरे समय चक्र के व्यूह में लुप्त होने के कगार पर है। जनवरी का महीना पूरी दुनिया में नए साल के लिए एक उम्मीद ले कर आता है, लेकिन कश्मीरी पंडितों के लिए यह महीना दुख, दर्द और निराशा से भरा है। 19 जनवरी प्रतीक बन चुका है उस त्रासदी का, जो कश्मीर में 1990 में घटित हुई। जिहादी इस्लामिक ताकतों ने कश्मीरी हिन्दुओ पर ऐसा कहर ढाया कि उनके लिए सिर्फ तीन ही विकल्प थे- या तो धर्म बदलो, मरो या पलायन करो।

मुसलमान आतंकवादियों ने सैकड़ों अल्पसंख्यक कश्मीरी हिन्दुओ को मौत के घाट उतार दिया था। कई महिलाओं के साथ सामूहिक दुष्कर्म कर उनकी हत्या कर दी गई। उन दिनों कितने ही लोगों की आए दिन अपहरण कर मार-पीट की जाती थी। हिन्दुओ के घरों पर पत्थरबाजी, मंदिरों पर हमले लगातार हो रहे थे।

घाटी में उस समय कश्मीरी हिन्दुओ की मदद के लिए कोई नहीं था, ना तो पुलिस, ना प्रशासन, ना कोई नेता और ना ही कोई मानवाधिकार के लोग। उस समय हालात इतने खराब थे कि अस्पतालों में भी समुदाय के लोगों के साथ भेदभाव हो रहा था। सड़कों पर चलना तक मुश्किल हो गया था। कश्मीरी पंडितों के साथ सड़क से लेकर स्कूल-कॉलेज, दफ्तरों में प्रताड़ना हो रही थी- मानसिक, शारीरिक और सांस्कृतिक।


19 जनवरी, 1990 की रात को अगर उस समय के नवनियुक्त राज्यपाल जगमोहन ने घाटी में सेना नहीं बुलाई होती, तो कश्मीरी हिन्दुओ का कत्लेआम व महिलाओं के साथ सामूहिक दुष्कर्म और ज्यादा होता। उस रात पूरी घाटी में मस्जिदों से लाउडस्पीकरों से ऐलान हो रहा था कि 'काफिरो को मारो, हमें कश्मीर चाहिए पंडित महिलाओं के साथ ना कि पंडित पुरुषों के साथ, यहां सिर्फ निजाम-ए-मुस्तफा चलेगा...।'

लाखों की तादाद में कश्मीरी मुसलमान सड़कों पर मौत के तांडव की तैयारी कर रहे थे। अंत में सेना कश्मीरी पंडितों के बचाव में आई। ना कोई पुलिसवाला, ना नेता और ना ही सिविल सोसाइटी के लोग। लाखों की तादाद में पीड़ित कश्मीरी हिंदू समुदाय के लोग जम्मू, दिल्ली और देश के अन्य शहरों में काफी दयनीय स्थिति में जीने लगे, लेकिन किसी सिविल सोसाइटी ने उनकी पीड़ा पर कुछ नहीं किया। उस समय की केंद्र सरकार ने भी कश्मीरी पंडितों के पलायन या उनके साथ हुई बर्बरता पर कुछ नहीं किया।

कश्मीरी हिन्दुओ के मुताबिक, 300 से ज्यादा लोगों को 1989-1990 में मारा गया। इसके बाद भी हिन्दुओ का नरसंहार जारी रहा। 26 जनवरी 1998 में वंदहामा में 24, 2003 में नदिमर्ग गांव में 23 कश्मीरी हिन्दुओ का कत्ल किया गया।  

हैरानी की बात यह कि सैकड़ों मामलों में तो पुलिस ने एफआईआर तक दर्ज नहीं की। पलायन के बाद, कश्मीरी हिन्दुओ के घरों की लूटापट की गई, कई मकान जलाए गए। कितने ही हिन्दुओ के मकानों, बाग-बगीचों पर कब्जे किए गए। कई मंदिरों को तोड़ा गया और जमीन भी हड़पी गई।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links