ब्रेकिंग न्यूज़
हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...

Bhola Tiwari Jan 19, 2020, 10:31 AM IST टॉप न्यूज़
img


राजीव मित्तल

नई दिल्ली  : बात को आगे बढ़ाने से पहले कुछ बताना चाहता हूं..जनसत्ता चंडीगढ़ में रहते संपादकीय में अनुज गुप्ता की आमद हुई..बंदा मध्यप्रदेश के नवभारत का दिल्ली संवाददाता रह कर आया था.. लेकिन ज़्यादा रुका नहीं और पुरानी जगह लौट गया..कुछ साल बाद मिला दिल्ली में, बड़े ठाठ के साथ..चकाचक गाड़ी, वसुंधरा में अपना फ्लैट..पता चला कि भाई ने नवभारत के अपने किसी मालिक को राज्यसभा की सांसदी दिलवा दी थी..सब उसी का प्रताप था..


हिंदी के बर्बाद ए गुलिस्तां टाइप पत्रकार और संपादक आलोक मेहता ने तो छजलानी की नईदुनिया की पैंसठ साल की विरासत को दिल्ली में प्रमुख संपादक रहते पूरी तरह नीलाम कर दिया..हां एक कमाल जरूर किया कि छजलानी को पद्मश्री दिलवाई और हाथोहाथ खुद को भी दिलवा दी..बस राज्यसभा की सांसदी हथियाने में मात खा गए हालांकि उसकी तैयारी पूरी थी यहां तक कि मालिकों को इस्तीफा भी सौंप दिया था..लेकिन राष्ट्रपति महोदया की पांव छुआई वक्त पर दगा दे गई..

राज्यसभा की सांसदी के लिए तो प्रभाष जी भी बेहद लालायित रहे..नानाजी देशमुख से उम्मीद भी खूब बांधी लेकिन जब नहीं मिली तो बाबरी मस्जिद के ढहने पर जोशी जी कागद कारे में पिल पड़े भाजपा पर...

बाकी तो चंदन मित्रा, रजत शर्मा जैसे न जाने कितने पत्रकार राज्यसभा की सांसदी भोग रहे..यहां तक कि प्रभात खबर के बीस साल संपादक रहे संतों के संत पत्रकार हरिवंश ने सारे जातीय प्रपंच चला कर नीतीश कुमार को साध लिया और राज्यसभा के उपसभापति तक बन गए..

लेकिन इन सबसे ऊपर निकल गए कनपुरिया चप्पल फटकारते रहे कनपुरिया पत्रकार राजीव शुक्ला, जो कांग्रेस ही नहीं, हर पार्टी को साध कर तीस साल से सत्ता की च्युंगम चबा रहे हैं और सांसदी के साथ साथ क्रिकेट की प्रशासकी कर रहे हैं और एक चैनल ग्रुप के मालिक तो हैं ही..

दिल्ली में अमर उजाला में रहते कुछ महीने आश्रम स्थित ऑफिस में अपने समय के बड़े पत्रकार उदयन शर्मा की संगत में गुजरे..तब तक वो अपने अंतिम दौर में चल रहे तो उनके पास अपन की बकवास सुनने के लिए समय समय ही था, जिसका खूब लाभ उठाया और हिंदी पत्रकारिता की बजाने के लिए उनके मुंह पर ही उन्हें और अन्य शूरवीरों को जम कर कोसा..

वहीं रहते अमर उजाला के तीन चार रिपोर्टरों के पास विदेशी गाड़ियों का कबाड़ संस्करण भी देखने को मिला..पता चला कि वे सब कांग्रेसी नेता जनार्दन द्विवेदी की लटक थे और वे कारें उन्हीं की देन थीं..एक रिपोर्टर तो द्विवेदी जी के इतने करीब थे कि कुछ साल बाद पत्रकारिता कर्म को धता बता कर रेलवे बोर्ड के मेंबर बन खूब मजे कर रहे हैं..

पत्रकारिता के दो धुरंधर राजेन्द्र माथुर और प्रभाष जोशी इंदौरी रहते शुरू से ही आपस में काफी जुड़े रहे..लेकिन दोनों का काम करने का तरीका बहुत अलग था..माथुर साहब के लिए पत्रकारिता मात्र एक कर्म थी और अपने साथ के लोगों से भी वो केवल अच्छे काम की अपेक्षा रखते थे, बदले में देने के लिए उनके पास कुछ नहीं था..जबकि प्रभाष जी की पत्रकारिता एक मिशन थी, तो उस मिशन में उनके आका रामनाथ गोयनका थे, जिनके वो अंधभक्त हनुमान थे और इसी भक्ति की अपेक्षा वो अपने भक्तों से करते थे..उनकी पत्रकारिता शिक्षित करने की नहीं दीक्षित करने की थी..जिसमें ब्राह्मण होना बहुत लाभकारी हुआ करता था..

जारी...

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links