ब्रेकिंग न्यूज़
ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है !         BIG NEWS : जनाज़े पर मेरे लिख देना यारों, मोहब्बत करने वाला जा रहा है...         BIG NEWS : दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन तैयार, पुतिन ने कोरोना वैक्सीन का टीका बेटी को लगवाया         BIG NEWS : मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन         BIG NEWS : प्रवर्तन निदेशालय ने जब्त किए रिया चक्रवर्ती के मोबाइल फोन और लैपटॉप         BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती करती थीं सुशांत के वित्तीय और प्रोफेशनल फैसले : श्रुति मोदी         BIG NEWS : राजस्थान की बदली सियासत, पायलट नाराज विधायकों के साथ आज करेंगे "घर" वापसी         BIG NEWS : बेटियों को भी पिता की संपत्ति में बराबरी का हक         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा शुरू करने की तैयारी, 15 अगस्त के बाद दो जिलों में होगा ट्रायल         BIG NEWS : कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बीजेपी नेता के घर ग्रेनेड हमला         जिसने अपने कालखंड को अपने इशारों पर नचाया...         जब मोहन ने पहली बार गोपिकाओ को किया परेशान         भगवान कृष्ण के जन्म लेते ही जेल की कोठरी में फैल गया प्रकाश ...         BIG BREAKING : रांची में सरेराह मार्बल दुकान में चली गोली, अपराधियों ने एक व्यक्ति को गोली मारी         BIG NEWS : झारखंड के शिक्षा मंत्री अब करेंगे इंटर की पढ़ाई...          BIG NEWS : सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेन 30 सितंबर तक रद्द         BIG NEWS : राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी की अटकलें तेज         BIG NEWS : आतंकी हमले में घायल बीजेपी नेता की मौत         आदिवासी विकास का फटा पोस्टर...         BIG NEWS : नक्सली राकेश मुंडा को लाखों का इनाम और पत्तल बेचती अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर संगीता सोरेन को दो हजार         पाखंड के सिपाही कम्युनिस्ट लेखक...         BIG NEWS : देवघर में सेप्टिक टैंक में दम घुटने से 6 लोगों की मौत         BIG NEWS : अब भाजपा गुजरात गए विधायकों को वापस बुला रही, सभी विधायक होटल जाएंगे         BIG NEWS : पालतू कुत्ते फज की बेल्ट से गला घोंटकर सुशांत सिंह राजपूत की, की गई थी हत्या : अंकित आचार्य          BIG NEWS : सरकार का 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक, इसके पीछे क्या है मकसद?          BIG NEWS : बडगाम में आतंकवादियों ने बीजेपी नेता को गोली मारी          BIG NEWS : कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 2 से 3 आतंकी घिरे         BIG NEWS : सुशांत सिंह केस का राजदार कौन !         BIG NEWS : फिल्म स्टार संजय दत्त लीलावती हॉस्पिटल में भर्ती          BIG NEWS : दिशा सलियान का निर्वस्त्र शव पोस्टमार्टम के लिए दो दिनों तक करता रहा इंतजार          BIG NEWS : टेरर फंडिंग मॉड्यूल का खुलासा, लश्कर-ए-तैयबा के 6 मददगार गिरफ्तार         BIG NEWS : एलएसी पर सेना और वायु सेना को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश         BIG NEWS : राजस्थान का सियासी जंग : कांग्रेस के बाद अब भाजपा विधायकों की घेराबंदी         BIG NEWS : देवेंद्र सिंह केस ! NIA की टीम ने घाटी में कई जगहों पर की छापेमारी         बाढ़ और संवाद हीनता          BIG NEWS : पटना एसआईटी टीम के साथ मीटिंग कर सबूतों और तथ्यों को खंगाल रही है CBI         BIG NEWS : सुशांत सिंह की मौत के बाद रिया चक्रवर्ती और बांद्रा डीसीपी मे गुफ्तगू         BIG NEWS : भारत और चीन के बीच आज मेजर जनरल स्तर की वार्ता, डिसएंगेजमेंट पर होगी चर्चा         BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार        

ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...

Bhola Tiwari Jan 18, 2020, 8:43 AM IST टॉप न्यूज़
img


कबीर संजय

नई दिल्ली : मैंने कहीं पढ़ा था कि उनसे ज्यादा बहरा कोई नहीं होता जो सुनना नहीं चाहता। हमारी दुनिया भी शायद आज इसी रास्ते पर चल पड़ी है। प्रकृति लगातार खतरे की घंटी बजा रही है। लेकिन, हम उसे सुनना ही नहीं चाहते। 

लगभग दस दिन पहले तक ऑस्ट्रेलिया भयंकर आग की चपेट में था। पूरे महाद्वीप का एक बड़ा हिस्सा जल रहा था। माना जाता है कि यहां पर बेल्जियम के आकार से बड़ा भी बड़ा हिस्सा जलकर खाक हो चुका है। एक अरब से भी ज्यादा पशु-पक्षी जलकर मारे गए। आग से झुलसे जानवरों की दिल तोड़ने वाली तमाम तस्वीरों में से कुछ आपकी आंखों से भी जरूर गुजरी होंगी। यह आग इतनी बड़ी थी कि इसका धुआं ब्राजील तक पहुंच गया। धुएं से ऑस्ट्रेलिया का आसमान भी काला हो गया और यहां के शहरों में लोगों के लिए सांस लेना भी मुहाल हो गया। 

ऐसे समय में हर किसी की उम्मीदें सिर्फ आसमान से बरसने वाली बूंदों पर टिकी हुई थीं। लंबे इंतजार के बाद बरसात शुरू हुई और आग से राहत मिली। लेकिन, आग बुझाने के लिए आई बरसात भी अब अनियंत्रित हो गई है। ऑस्ट्रेलिया के कुछ हिस्सों में इतनी ज्यादा बरसात हो रही है कि बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। दूर-दूर तक जमीन पानी में डूब गई है। दस हजार से ज्यादा लोगों को बाढ़ में निकाला गया है। दस दिन पहले तक आग बुझाने में जुटा ऑस्ट्रेलिया अब बाढ़ की मुसीबत से निकलने का उपाय ढूंढ रहा है। 

आखिर ऐसा क्यों है। इसमें ऐसा क्या खास है। दोस्तों, पर्यावरण संकट या जलवायु संकट का यह एक सबसे बड़ा संकेत है। मौसम चक्र बिगड़ने के चलते सर्दी-गर्मी और बरसात का चक्र भी बिगड़ जाता है। ठंड भी भीषण पड़ती है और गर्मियां भी भयंकर होती हैं। बरसात और हिमपात भी अपने साथ ऐसी मुसीबतें लेकर आती हैं जिनके बारे में पहले कभी सोचा भी नहीं गया होता। 


ऑस्ट्रेलिया ही नहीं दुनिया के तमाम हिस्से मौसम चक्र बिगड़ने के इन्हीं परिणामों को भुगत रहे हैं। लेकिन, इससे निपटने की किसी को फिक्र नहीं है। दुनिया भर की सरकारें पूंजीपतियों की गुलाम है और दिन रात इसी फिक्र में लगी रहती हैं कि कैसे उनका मुनाफा और बढ़े। उन्हें लोगों के जान-माल की कोई फिक्र नहीं है। पृथ्वी बरबाद होती है, तहस-नहस होती है तो उन्हें इससे कोई मतलब नहीं है। शायद वे सोचते होंगे कि सबकुछ बरबाद होने के बाद भी वे अपने लिए किसी न किसी स्वर्ग का निर्माण कर ही लेंगे। 

इसलिए उम्मीद अब जनता पर ही टिकी हुई है। पर्यावरण संकट के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना और अपनी सरकारों को इसके लिए कदम उठाने के लिए मजबूर करने का काम भी जनता की जिम्मेदारी है। वर्ष 2019 में दुनिया भर में एक ही उद्देश्य को लेकर किया जाने वाला अगर कोई आंदोलन था तो वह पर्यावरण संकट का आंदोलन ही था। इस आंदोलन ने दुनिया भर के लोगों को एकजुट किया है। इस साल भी ऐसा ही कुछ रहने की उम्मीद है।

(दोनों तस्वीरें ऑस्ट्रेलिया की हैं। एक में बाढ़ में डूबे अपने घर को देखता एक कोआला है तो दूसरी में आग में कालकवलित हुए जानवरों की तस्वीर है।)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links