ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...        

कोहली सदर होते हुए भी धोनी के नायब है!

Bhola Tiwari Jan 15, 2020, 9:56 AM IST खेल
img

संकर्षण शुक्ला

तेज हुंकार और जोश-ओ-खरोश के साथ सेनापतियों को अपने सैनिकों को ऊर्जित करते हुए बहुत देखा-सुना है हम सबने। मगर एक सेनापति ऐसा भी है जो साइबेरिया की सर्द हवाओं से भी शीतलता से अपने सैनिकों को प्रेरित करता है। ऐसे सेनानायक है महेंद्र सिंह धोनी और ये मैदान जंग का नहीं क्रिकेट का खेल का मैदान है।

गांगुली ने भारतीय टीम को जीतना भले सिखाया, मगर कभी विश्व विजयी नहीं बना पाए। ये गांगुली के ही नेतृत्व का करिश्मा था जोकि सौम्यता से हार का वरण कर देने वाली टीम में भी किलर इंस्टिंक्ट विकसित हो गया था और वो दरेरा देती थीं मग़र विश्व विजय की इबारत दादा भी न लिख पाएं क्योंकि उससे पहले ही 'ग्रेग चैपल हादसा' हो गया था।

जैसे 17वीं-18वीं शताब्दी के दशक में ब्रिटेन के सूरज नहीं अस्त होता था, मगर स्पेन की नौसेना उन्हें अक्सर औकात दिखाया करती थी; वैसे ही भारतीय क्रिकेट टीम सबसे जीतकर अक्सर ऑस्ट्रेलिया से हार जाती थी और हार भी ज्यादातर वन साइडेड होती थी।

ऐसे में ग्रेग चैपल नाम का क्रूर फेनोमेना आया, जोकि गांगुली को हर कीमत टीम से बाहर करना चाहता था; इसलिए उसे ऐसे चेहरे के साथ कि तलाश थी जोकि नेतृत्व क्षमता में जाबड़ हो और ऐसा खिलाड़ी था धोनी। अब भारत को नया सदर मिला महेंद्र सिंह धोनी। कूलनेस को भीतर तक धारित किये और एडीसन के स्तर का प्रयोगधर्मी ये क्रिकेटर टीम को एक पारखी कुम्हार की तरह गढ़ने लगा। ये धोनी की ही मेहनत का नतीजा है जो आज अपने पास बेंच पे भी एक क्रिकेट टीम बैठी है, जो वर्तमान में खेल रहे ग्यारहों खिलाड़ी की अनुपस्थिति में भी शानदार खेल दिखा सकती है।

ऑस्ट्रेलिया नामक तिलिस्म का पटाक्षेप किया धोनी ने जब वीबी सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को उसी की धरती पे हराया, इसी सीरीज़ से हमें रोहित शर्मा की पोटेंशियल का वास्तव में पता चला, जो आज छक्के मारने में शिखर सम्राट है। इसके बाद तो धोनी जहाँ भी दौरा करने जाते, एक ट्रॉफी हाथ में ही ले आते। 

ट्वेंटी-ट्वेंटी वर्ल्डकप को जीतना उनके बारे में पूत के पाँव में पालने ही दिख जाना जैसा है, मने ये जीत ये बता रही थी कि अभी भारत के हिस्से और भी ट्राफियां थोंक के भाव आने वाली है। धोनी जैसा जजमेंट करना और परिस्थिति को स्वःस्थिति में बदलना और किसी के बूते की बात नहीं है। इसी वर्ल्डकप का लास्ट ओवर जोगिन्दर शर्मा को देना और फिर उस निर्णय का एकदम सटीक और निशाने पे बैठना धोनी की दूरदर्शिता और त्वरित निर्णयशीलता की थाती है।

इसके बाद 2011 के एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की वर्ल्डकप ट्रॉफी को टीम इंडिया की झोली में डालना धोनी की सर्वकालिक महान उपलब्धि थी। धोनी का सफर यही नहीं थमा, उन्होंने चैंपियंस ट्रॉफी में भी टीम को विजय दिलाई।

इसके अलावा उन्होंने टीम को टेस्ट में भी नंबर एक पायदान पे ला खड़ा किया। मने उन्होंने क्रिकेट के तीनों में टीम को सर्वश्रेष्ठ पायदान पर सुशोभित कर दिया। वो कहते है कि जब ऊंचाई एकदम अंतिम बिंदु पर आ जाती है तो फिर नीचे आने के सिवाय कोई चारा नहीं होता। अलबत्ता कई लोग पैराशूट लगाकर उतरते है तो कई लोग औंधे मुंह गिर जाते है। मगर धोनी जैसा समझदार आदमी पैराशूट तो रखता ही है।

दरअसल भारतीय टीम टेस्ट क्रिकेट में लगातार हारने लगी थी और धोनी की व्यक्तिगत परफॉमेंस भी नीचे गिरती जा रही थी। ऐसे में अचानक ही एक दिन धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का फैसला कर लिया और टेस्ट के नए सदर(कप्तान) बने कोहली, जो अभी तक नायब(उपकप्तान) थे। इसी बीच कोहली एकदिवसीय क्रिकेट में भी कप्तान बन गए।

लोगों को लगा कि धोनी युग का पटाक्षेप हो गया। मगर धोनी फोटॉन जैसे है, जो कभी ख़त्म नहीं होता। धोनी ने अपना खोया हुआ व्यक्तिगत प्रदर्शन हासिल कर लिया और इसी के साथ तख़्त-ए-ताउस के अभिलेखीय(रिकॉर्ड) न सही मगर वास्तविक सरताज भी बन गए।

कोहली टीम के कप्तान भले है, मगर वो कप्तानी नहीं करते। मैदान पर धोनी ही कप्तानी करते है। मुश्किल परिस्थितियों में फील्ड सेलेक्शन से लेकर गेंदबाजी चयन तक का सारा काम धोनी ही करते है। डेथ ओवरों में टीम का कप्तान थर्ड मैन पर लगता है मने तीस गज के दायरे में ऐसा जरूर कोई होता होगा जो टीम को गाइड करता होगा और वो कोई और नहीं धोनी होते है।

टीम के सार्वकालिक सदर महेंद्र सिंह धोनी है और जब तक क्रिकेट के मैदान पर वो रहेंगे, सदर बनकर ही रहेंगे। 

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links