ब्रेकिंग न्यूज़
केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...        

लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक

Bhola Tiwari Jan 15, 2020, 9:33 AM IST टॉप न्यूज़
img

● मणिशंकर अय्यर की करतूत : लाहौर से दिल्ली शाहीन बाग पहुंचे आंदोलनकारियों को देश के खिलाफ भड़काया

● मणिशंकर अय्यर ने लाहौर से दिल्ली तक फिर एक बार जहर उगला

● PoK पर भी सरकार के खिलाफ बोले कांग्रेस लीडर मणिशंकर अय्यर


सिद्धार्थ सौरभ

 नई दिल्ली : कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पहले तो पाकिस्तान के लाहौर में भारत सरकार का मजाक उड़ाया और फिर भारत लौटकर दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में प्रदर्शनकारियों को उकसाने का काम किया। यहां उन्होंने पीएम मोदी को बिना नाम लिए कातिल तक बता दिया। अय्यर ने कहा कि “जो भी कुर्बानियों देनी हों, उसमें मैं भी शामिल होने के लिए तैयार हूं। अब देखें कि किसका हाथ मजबूत है, हमारा या उस कातिल का।” 

मणिशंकर अय्यर ने कहा कि “इनका (सरकार का) मकसद है कि आप लोगों को तंग किया जाए। शहीन बाग के रहने वालों से सवाल पूछा जाएगा जो हिंदुओं से नहीं पूछा जाएगा। आपको मुबारक बाद देना चाहता हूं कि आपने इस बात को समझ लिया है कि इन नापाक लोगों का मकसद क्या है।”


वहीं, इससे पहले लाहौर में मणिशंकर अय्यर कहा कि “मैं अपन देश के माहौल को देखकर काफी निराश हूं। मुझे ऐसा नहीं लगता कि 2014 के बाद मैं उसी मुल्क में रह रहा हूं, जहां मैं 1941 में पैदा हुआ और 6 साल की उम्र में खुद को आजाद भारत का नागरिक महसूस किया।” अय्यर ने कहा कि “मैं काफी आशा के साथ आया हूं क्योंकि भारत में पिछले चार हफ्ते के दौरान जो कुछ हुआ उसमें वो पापुलर काउंटर रिवोल्यूशन है। उन्होंने कहा कि “अब देश को विचाराधार के नाम पर बांटा जा रहा है। उन्होंने कहा कि “भारत का जो विचार महात्मा गांधी और नेहरू ने आजादी के बाद सौंपा था। लेकिन, इसकी खोज काफी पहले हो चुकी थी। अब इसे हिंदुत्व के उस विचार से चुनौती मिल रही है, जो 100 साल पहले 1923 में पनपा था और इसे अचानक जीत मिली। वो भी तब, जब 90 साल तक जनता ने धर्म के आधार पर नागरिकता के इस विचार को स्वीकर नहीं किया। अय्यर ने कहा कि “पिछले तीन हफ्तों से सरकार के विरोध में जो क्रांति देखी जा रही है, उसमें साउथ वेस्ट दिल्ली के शाहीन बाग का प्रोटेस्ट काफी असरदार है। वहां महिलाएं पिछले तीन हफ्तों से लगातार 24 घंटे प्रदर्शन कर रही हैं।” 


अय्यर ने कहा कि “जब CAA (नागरिकता सशोधन कानून) लाया गया तो भाजपा की तरफ से कहा गया कि इसका किसी भारतीय से कोई लेना-देना नहीं है लेकिन एक्ट कहता है कि एक तरफ जहां पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भागकर आए धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिकता मिलेगी। वहीं, दूसरी तरफ कहा गया कि इसका किसी भारतीय से कोई लेना देना नहीं, लेकिन एक्ट कहता है कि मुस्लिम शरणार्थी शामिल नहीं होगा और रोहिंग्या इसका उदाहरण है। हमारे देश में 36 हजार से 40 हजार रोहिंग्या मुस्लिम हैं लेकिन उन्हें शरण नहीं मिलेगी।”

मणिशंकर अय्यर ने कहा कि “फिलहाल, ऐसा नहीं लगता कि भारत PoK के बारे में सोच रहा है क्योंकि मोदी के साथ काफी बुद्धिमान लोग मौजूद हैं। मुझे नहीं लगता कि कोई भी ये सुझाव देगा कि भारत की समस्याओं का हल चूंकी जनवरी-फरवरी के दौरान ऐसा लगता था कि जो नतीजे आए, उसके काफी अलग परिणा रहने वाला है। पुलवामा आतंकी हमले के दौरान और फिर डेवलपमेंट हुआ, उसके बाद तो मोदी के लिए सपोर्ट बढ़ता चला गया, इसलिए हम कन्फ्यूज थे ऐसे नतीजे कैसे आए गए।” ये सभी बातें अय्यर ने लाहौर में बोलीं।

 गौरतलब है कि विवादों में रहने वाले कांग्रेस के दिग्गज नेता मणिशंकर अय्यर ने पहली बार इस तरह के विवादित बयान नहीं दिए हैं। इससे पहले भी कई बार उन्होंने पाकिस्तान में और भारत के विभिन्न हिस्सों में विवादित बयान दिए हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links