ब्रेकिंग न्यूज़
लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक        

अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में

Bhola Tiwari Jan 14, 2020, 7:11 AM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव 

नई दिल्ली : एक समय प्रधानमंत्री पद के दावेदार नीतीश कुमार बिहार में बेहद अलोकप्रिय हो गयें हैं। सुशासन बाबू का सुशासन बिहार के हर जिले में पनाह मांग रहा है। लगातार अपराध और हत्या से बिहार की कानून व्यवस्था पर सवाल उठ रहें हैं।पटना में बाढ़ की विभीषिका हो या अन्य जगहों पर बिहार सरकार हर जगह नाकाम रही है। जब पटना डूब रहा था तब कुछ केन्द्रीय मंत्रियों ने दबीजुबान नीतीश सरकार को कटघरे में खडा भी किया था, यहाँ तक कि केन्द्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इशारों हीं इशारों में अपनी बेबसी की बात जाहिर कर दी थी।केन्द्रीय नेतृत्व के मना करने के बावजूद गाहेबगाहे विरोध के स्वर सुनाई दे हीं देते हैं।केन्द्रीय मंत्री अश्वनी चौबे और गिरीराज सिंह तो हमेशा नीतीश कुमार के सुशासन पर टिप्पणियां करते रहते हैं।अभी हाल में बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता संजय पासवान ने भाजपा को नीतीश कुमार से अलग रहकर विधानसभा चुनाव लड़ने की सलाह दी है।आपको बता दें ये सुझाव केवल संजय पासवान का नहीं है,बिहार के अधिकांश विधायक और सांसद चाहते हैं कि भारतीय जनता पार्टी अब बिहार में अकेले चुनाव लड़े,कारण वो नीतीश कुमार के खिलाफ बन रहे माहौल में भागीदार नहीं बनना चाहते हैं।

केन्द्रीय नेतृत्व भी इस बात को समझ रहा है इस वजह से उन्होंने झारखंड में अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया था, यद्यपि उसमें वे बुरी तरह असफल रहे मगर मंशा ये थी कि अगर वे इस प्रयोग में सफल हो जाते हैं तो इस माँडल को बिहार में भी आजमाया जाएगा।झारखंड चुनाव में बुरी तरह पराजय के बहुत से कारण थे,पहला महत्वपूर्ण कारण मुख्यमंत्री रघुवर दास के खिलाफ भारी असंतोष था।झारखंड के मूलनिवासी आदिवासी मुख्यमंत्री चाहते थे मगर केन्द्रीय नेतृत्व ने बेहद घमंडी और बदजुबान रघुवर दास को मुख्यमंत्री चुना जो केन्द्रीय योजनाओं को राज्य में लागू करने में बुरी तरह विफल रहे थे।दूसरा जो महत्वपूर्ण कारण रहा वो विकास कार्यो को करने में रघुवर दास सरकार पूर्णतया असफल रही थी।

झारखंड में करारी हार की दुर्गति झेलने के बाद केन्द्रीय नेतृत्व सकते में हैं,वो शायद ये प्रयोग बिहार में न करे मगर भाजपा को ये समझना होगा कि बिहार के लोग नीतीश कुमार के तथाकथित सुशासन से ऊब चूके हैं और वे बदलाव चाहते हैं।जमीनी हकीकत तो ये है कि अगर भाजपा गठबंधन में चुनाव लड़ी तो उसे बहुत से परपंरागत सीटों पर हार का सामना करना पड़ सकता है।भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को जनता के मूड को समझना होगा जो आज नीतीश कुमार की पार्टी के बिल्कुल खिलाफ है।

एनआरसी और सीएए पर एक कदम आगे तो दो कदम पीछे चलने की रणनीति को बिहार के मुसलमान अच्छी तरह समझ गए हैं, वे इस चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल के साथ जा रहें हैं ये तो तय मानिए।भाजपा के साथ गठबंधन सरकार चलाने के बावजूद जेडीयू को बडी संख्या में मुसलमान वोट करते थे, कारण उनकी छवि अच्छे प्रशासक और सभी को साथ लेकर चलने की थी मगर अब मुसलमानों का भी नीतीश से मोहभंग हो गया है।नीतीश कुमार भी भारी उहापोह में हैं वे तय नहीं कर पा रहे हैं कि वो किधर जाएं।एक तरफ लगातार दरकती जमीन है दूसरी तरफ हिंदू कार्ड्स खेलकर वैतरणी पार करने की लालसा।दो बार पलटते हुए आखिर नीतीश ने ये घोषणा कर दी है कि बिहार में एनआरसी और सीएए लागू नहीं होगा मगर सुशासन बाबू इतने समय में आपका तथाकथित सेक्यूलर चेहरा बेनकाब हो गया है।मुसलमानों ने आपके छिपे एजेंडा को समझ लिया है।

नीतीश कुमार बिहार में एनआरसी और सीएए न लागू करने की बात करके एक तीर से दो शिकार करना चाहते हैं।एक तरफ उनकी निगाह मुस्लिम वोटबैंक पर है तो दूसरी तरफ भाजपा पर दवाब बनाकर सीटों पर सौदेबाजी करना चाहते हैं।भाजपा के अंदर मांग उठ रही है कि इस बार बडे भाई की भूमिका उन्हें मिले और ये जायज भी है।हर पार्टी को अपना विस्तार करना हीं चाहिए और इसके लिए अधिक से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ना बेहद जरूरी है।

नीतीश कुमार के खिलाफ लोगों का आक्रोश इस बात से भी समझा जा सकता है कि उनकी जनसभाओं में भीड़ नदारद रहती है,बेहद शांत रहने वाले नीतीश बाबू अक्सर अपना आपा खो दे रहे हैं।उनके शासन के प्रति लोगों की प्रतिक्रिया बेहद निराशाजनक है।बिहार के निवासी बिगड़ती कानून व्यवस्था,राज्य की नौकरशाही और पुलिस के बारे में मुखर होकर बोल रहें हैं।लोगों का कहना है कि नीतीश कुमार की ताकत लालू यादव का डर था।यह धीरे धीरे काफी कम हो गया है।अब जनता जागरूक हो गई है और वो विकास के मुद्दे पर बात करना चाहती है, अब उन्हें इस बात से कोई सरोकार नहीं है कि अतीत में लालू यादव ने क्या किया था।जंगलराज वाला जुमला अब परवान नहीं चढ़ने वाला ये नीतीश कुमार भी अच्छी तरह समझ रहें हैं तभी वो एक साथ दो नावों में सवारी करने की दुविधा में हैं।नीतीश कुमार ने जो शराबबंदी लागू की थी उसका बिहार में खूलेआम माखौल बनाया जा रहा है।उ.प्र से तस्करी के द्वारा रोज शराब की भारी खेप बिहार पहुंच रही है।सीमावर्ती थानों के पुलिस और अधिकारी चाँदी काट रहे हैं।माफिया-पुलिस-नेताओं का सिंडिकेट चल रहा है वो भी सरकार की नाक के नीचे।फ्रूटी के पैकेट में शराब भरकर सरेआम बिक्री की जा रही है सरकार पंगु बनकर चुपचाप बैठी है।

नीतीश कुमार ने सड़क और बिजली के क्षेत्र में अच्छा काम किया है इसमें किसी को भी शंका नहीं है।अर्थव्यवस्था में भी सुधार है।2017-18 में विकास दर 11.3% था जो देश में सबसे बेहतर है।पिछले वर्ष यह 9.9% थी।2017-18 में राजस्व का अधिशेष बढ़कर 14,823 करोड़ रू हो गया, जो 2013-14 में 6,441 करोड़ रूपये था।इसमें कोई शंका नहीं है कि बिहार की अर्थव्यवस्था राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की तुलना में तेजी से बढ़ रही है,लेकिन इस वृद्धि का सामाजिक प्रभाव संतोषजनक नहीं है क्योंकि यह विकास शहर केंद्रित है।

लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार ने अपनी शर्तों पर सीटों का बंटवारा किया था और भाजपा को पाँच और सीट देने को मजबूर किया था जिसे भाजपा ने 2014 में जीता था।लोकसभा में नीतीश के हठ के कारण हीं दोनों को बराबर के सीट पर लड़ने को मजबूर किया था।अब भाजपा में सुगबुगाहट शुरू हो गई है कि विधानसभा चुनाव में भाजपा को बडे भाई की भूमिका मिलनी चाहिए जो पार्टी के विस्तार के लिए जरूरी भी है।

बिहार में इन दिनों स्लोगन पाँलटिक्स चल रही है,एक दूसरे को नीचा दिखाने के लिए तरह तरह के स्लोगन चलाए जा रहें हैं।कुछ समय से भाजपा के कुछ नेता और राष्ट्रीय जनतादल यूनाइटेड के नेताओं ने नीतीश कुमार को बदलने की मांग की है।उसके जवाब में सत्ताधारी पार्टी जेडीयू ने मुख्यालय पर बैनर लगाकर एक नया नारा दिया है "क्यों करें विचार, ठीके तो हैं नीतीश कुमार।"इसके जवाब में विपक्षी पार्टी राजद के मुख्यालय के सामने कार्यकर्ताओं ने एक। बैनर लगाकर जवाब दिया है,"क्यों न करें विचार ,बिहार जो है बीमार।"

राष्ट्रीय जनता दल ने इस बार ज्यादा सीटों पर लड़ने का मन बना लिया है।पार्टी लोकसभा चुनाव के परिणाम को देखकर इस बार ज्यादा सतर्क है और वे चाहते हैं कि पार्टी के विस्तार के लिए ज्यादा से ज्यादा सीटों पर मजबूती से लडा जाय।राजद के सूत्रों ने कहा है कि वे 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले की गई गलती को सुधारने के लिए तैयार है।राजद ने अपने सभी सहयोगी दलों कांग्रेस, आरएलएसपी, एचएएम,सीपीआई(एमएल)और विकासशील इंसान पार्टी से अधिक सीटें जीतीं थीं,जिसके वे हकदार थे।राजद ने ये तय कर लिया है कि वो 2020 के विधानसभा चुनाव में 243 सीटों में कम से कम 150 सीटों पर लड़ेगी।

झारखंड विधानसभा चुनाव में बुरी तरह पराजित होने के बाद भाजपा बैकफुट पर है। अब उसे हीं फैसला करना होगा कि वह अलोकप्रिय हो चुके मुख्यमंत्री को ढोएगी या अपना सफर अकेले तय करेगी।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links