ब्रेकिंग न्यूज़
खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था         ..विधायक बंधू तिर्की और प्रदीप यादव आज विधिवत कांग्रेस के हुए         मरता क्या नहीं करता !          14 साल बाद बाबूलाल मरांडी की घर वापसी, जोरदार स्वागत         जेवीएम प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में हुए शामिल, अमित शाह ने माला पहनाकर स्वागत किया         भारत में महिला...भारत की जेलों में महिला....          अनब्याही माताएं : प्राण उसके साथ हर पल है,यादों में, ख्वाबों में         कराची में हिंदू लड़की को इंसाफ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरे लोग         बेतला राष्ट्रीय उद्यान में गर्भवती मादा बाघ की मौत !अफसरों में हड़कंप         बिहार की राजनीति में हलचल : शरद यादव की सक्रियता से लालू बेचैन          सीएम गहलोत की इच्छा, प्रियंका की हो राज्यसभा में एंट्री !         अनब्याही माताएं : गीता बिहार नहीं जायेगी          तेंतीस करोड़ देवी-देवताओं के देश में यही होना है...         केजरीवाल माँडल अपनाकर हीं सफलता प्राप्त कर सकतीं हैं ममता बनर्जी         28 फरवरी को रांची आएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद         सत्ता पर दबदबा रखनेवाले जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर से लेकर तमाम शंकराचार्यों की जमात कहां हैं?         

दान सिंह की चर्चा से यह फ़िल्मी कहानी फिर याद आयी

Bhola Tiwari Jan 14, 2020, 7:01 AM IST कॉलमलिस्ट
img


डॉ प्रवीण झा

(जाने-माने चिकित्सक नार्वे)

दान सिंह की चर्चा से यह फ़िल्मी कहानी फिर याद आयी। इसमें शंकर महादेवन ने मराठी ब्राह्मण गायक का अभिनय किया है, और सचिन पिलगाँवकर (‘नदिया के पार’ वाले) ने खाँ साहब उस्ताद का। अब उस जमाने में तो संगीत की रंजिश कैसी चलती थी, यह तो मेरी किताब के पहले पन्ने से है ही। खाँ साहब हार गए, तो ख़ुदकुशी करने चले गए। उनको बचा तो लिया गया, लेकिन वह हार से घुटते रहे। बदला लेने के लिए उनकी बेग़म (साक्षी तंवर अभिनीत) ने पंडित जी को लड्डू में सिंदूर मिला कर खिला दिया, और पंडित जी की आवाज ही चली गयी।

अब पंडित जी के एक शिष्य खाँ साहब से बदला लेने जाते हैं, लेकिन वह तैयार गायक तो होते नहीं हैं। हार जाते हैं और शर्त के अनुसार उनको खाँ साहब का ग़ुलाम बनना पड़ता है। वहाँ वह बर्तन माँजते हुए खाँ साहब को सुनते रहते हैं, लेकिन शर्त के अनुसार गा नहीं सकते। खाँ साहब को सुनते सुनते ही वह ऊँचे दर्जा का संगीत सीख जाते हैं। एक दिन आँगन में गाने लगते हैं और शर्त हार जाते हैं।

दरबार में उनका सर कलम करने के लिए बुलाया जाता है। वह कहते हैं कि मरने से पहले एक बार गाने दिया जाए। उनकी गायकी खत्म होते ही सब अभिभूत हो जाते हैं। एक आध्यात्मिक शांति पसर जाती है। उस्ताद के हाथ का खंजर रुक जाता है कि ऐसी रूहानी आवाज़ का भला कोई कैसे सर कलम करे?

यह तो थी मराठी फ़िल्म (काट्यार करजत घुसली) की कहानी। अब असल ज़िंदगी में लौटता हूँ। 

जयपुर के दान सिंह जब बच्चे थे, तो उनके पिता ऐसी ही एक महफ़िल में हार गए। दान सिंह 10-12 साल के थे, लेकिन हारे हुए पिता को देख क्रोधित हो गए, और मंच पर आ गए। कहा कि मैं गाऊँगा। मुझे हराइए! सब हँसने लगे कि यह बच्चा क्या हराएगा? 

फिर दान सिंह ने गाया और तालियों की गूँज से पूरी महफ़िल रौनक हुई। आखिर इस बच्चे को विजेता घोषित किया गया।

यही दान सिंह बाद में खेमचंद प्रकाश के शिष्य बने और साठ के दशक के फ़िल्मी संगीतकार भी। इन्हीं के संगीत में मुकेश का गाया गीत है, जो इनके जीवन पर भी सही बैठता है- ‘ज़िक्र होता है जब क़यामत का, तेरे ज़लवों की बात होती है’

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links