ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : जासूसी करते हुए पकड़े गए पाक हाई कमीशन के दो अधिकारी, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया         POK के सभी टेरर कैंपों में भरे पड़े हैं आतंकवादी : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : बख्तरबंद वाहन में घुसे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने घेर कर मारा         BIG NEWS : अब 30 जून तक बंद रहेंगे झारखंड के स्कूल ं         BIG BRAKING : पुलिस को घेरकर नक्‍सलियों ने बरसाई गोली, डीएसपी का बॉडीगार्ड शहीद         सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच अनंतनाग में मुठभेड़, 2 से 3 आतंकी घिरे         सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के 3 OGWs गिरफ्तार, हथियार बरामद         ..कृषि के साथ न्याय हुआ होता तो मजदूरों की यह स्थिति नहीं होती         कालापानी' क्या है, जिसे लेकर भारत से नाराज़ हो गया है नेपाल !         BIG NEWS : आंख में आंख डाल कर बात करने वाली रक्षा प्रणाली तैनात         CORONA BURST : झारखंड में 1 दिन में 72 पॉजिटिव, हालात चिंताजनक         जब पाक ने भारत संग रक्षा गुट बनाना चाहा...         UNLOCK : तीन चरणों में खुलेगा लॉकडाउन, 8 जून से खुलेंगे मंदिर, रेस्टोरेंट, मॉल         BIG NEWS : दामोदर नदी पर पुल बना रही कंपनी के दो कर्मचारियों को लेवी के लिए टीपीसी ने किया अगवा         कुलगाम एनकाउंटर में हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : अमेरिकी ने WHO से तोड़ा रिश्ता; चीन पर लगाई पाबंदियां         TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई         BIG NEWS : लद्दाख पर इंडियन आर्मी की पैनी नजर, पेट्रोलिंग जारी         BIG NEWS : डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा, चीन से सीमा विवाद पर मोदी अच्छे मूड में नहीं         BIG STORY : धरती की बढ़ती उदासी में चमक गये अरबपति         समाजवादी का कम्युनिस्ट होना जरूरी नहीं...         चीन और हम !         BIG NEWS : CRPF जवानों को निशाना बनाने के लिए जैश ने रची थी बारूदी साजिश !         BIG NEWS : अमेरिका का मुस्लिम कार्ड : चीन के खिलाफ बिल पास, अब पाक भी नहीं बचेगा         एयर एशिया की फ्लाइट से रांची उतरते ही श्रमिकों ने कहा थैंक्यू सीएम !         वियतनाम : मंदिर की खुदाई के दौरान 1100 साल पुराना शिवलिंग मिला         BIG NEWS : पुलवामा में एक और बड़े आतंकी हमले की साजिश नाकाम, आईईडी से भरी कार बरामद, निष्क्रिय         झारखंड के चाईबासा में पुलिस और नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़, 3 उग्रवादी ढेर 1 घायल         भारतीय वायु सेना की बढ़ी ताकत, सियाचिन बॉर्डर इलाके में चिनूक हैलीकॉप्टर किए तैनात          क्या किसी ने ड्रैगन को म्याऊं म्याऊं करते सुना है ?        

आगे क्या...

Bhola Tiwari Jan 14, 2020, 6:51 AM IST कॉलमलिस्ट
img


कबीर संजय

नई दिल्ली : धरती की जिंदगी के हिसाब से वर्ष 2019 बेहद मनहूस साबित हुआ है। इस साल ने धरती को ऐसे बहुत सारे घाव दिए हैं, जिन्हें भूल पाना संभव नहीं। इसी साल ने एमेजॉन के जंगलों में अब तक की सबसे भयंकर आग देखी। तो इसी साल ने ऑस्ट्रेलिया के जंगलों को धू-धू करके जलते देखा। दोनों घटनाओं के कारकों में यूं तो थोड़ा अंतर है। लेकिन, इनके परिणाम ऐसे हैं, जिन्हें हमारी आगे की कई पीढ़ियों को भुगतना पड़ेगा। 

पृथ्वी पर जीवन कई संयोगों से पैदा हुआ है। अगर उनमें से एक भी संयोग अनुपस्थित होता तो शायद जीवन नहीं पनपता। हर कारक ने अपनी बराबर की भूमिका निभाई है। अभी भी इनमें से किसी एक के कम होने का मतलब सर्वनाश के अलावा कुछ नहीं है। धरती जब से बनी है, तब से उसका कुछ खास तापमान रहा है। रोज सुबह से सूरज धरती को गरम करने लगता है। रोज रात उसे ठंडा करती रहती है। जहां कहीं भी सूरज की रोशनी सीधी नहीं पड़ती, वहां पर तापमान कम होता है। जहां कहीं भी धरती की सतह एक खास ऊंचाई तक पहुंच जाती है, वहां पर बर्फ जम जाती है। यही जमा बर्फ धीरे-धीरे रिस-रिस कर न जाने कितनी नदियों को जन्म देता है। यही नदियां जब लहराते-बलखाते हुए चलती हैं तो न जाने कितनी संस्कृतियों-सभ्यताओं को जन्म देती हैं, पैदा करती हैं। 

थोड़े बहुत हेर-फेर के साथ धरती का क्रम लगभग सामान्य ही चलता रहा है। परिवर्तन आए भी तो धीरे-धीरे उसके अनुसार जीवन ने भी बदलाव कर लिया। लेकिन, बीते तीन सौ सालों में धरती ने कुछ ऐसे परिवर्तन देखे हैं, जिसकी मिसाल शायद ही पहले कहीं मिली हो। 

इंसान पहला जीव है जिसने आग पर नियंत्रण रखना सीखा। आग ने ही इंसान को इंसान बनाया है। लेकिन, आज इतनी ज्यादा आग जलाई जा रही है, ईंधन जलाया जा रहा है कि धरती का तापमान लगातार गरम होता जा रहा है। एमेजॉन के जंगलों को साफ करके ब्राजील वहां से डॉलर पैदा करना चाहता है। पूरे साल ब्राजील के जंगल धधकते रहे। यहां तक कि उसके धुएं से आसमान काला हो गया। ऑस्ट्रेलिया में पिछले कई सालों से बारिश नहीं होने के चलते नमी की मात्रा लगातार कम होती जा रही है। सूखे का शिकार होने वाले जंगल झाड़ों में लगी आग इस कदर बेकाबू हुई कि उसे बुझाने मे इंसानी प्रयास छोटे पड़ गए। माना जाता है कि इस आग में करोड़ों पशु-पक्षियों की मौत हो गई। यहां तक कि कुछ की प्रजाति के समाप्त होने का भी संकट पैदा हो गया है। यही वो साल है जब ग्लैशियरों के गायब होने की बाकायदा घोषणा हुई और कुछ के तो अंतिम संस्कार भी लोग जुटे। 

यही वह वर्ष है जिसने यूरोप में लू चलते हुए देखा। यही वो वर्ष है जब हमारे यहां लोगों को लू से बचाने के लिए धारा 144 तक लगानी लड़ी। यही वह वर्ष है जिसने पहले तो भीषण गर्मी झेली फिर भयंकर सर्दियों का सामना किया। लोगों की जान लेने वाला सूखा आया तो लोगों को डुबाने वाली बाढ़ भी आई। 

पूरे साल में प्रकृति का कहर ऐसे ही अचानक से टूटता रहा। 

हालांकि, यह साल कई शुभ संकेत भी ले आया है। वर्ष 2019 का साल ही ऐसा है जब पूरी दुनिया में क्लाईमेट क्राइसिस को इतनी गंभीरता से समझा जाने लगा है। इस पूरे साल में अगर पूरी दुनिया के अलग-अलग देशों में एक साथ चलने वाला कोई आंदोलन हुआ है तो वह है क्लाईमेट क्राइसिस का आंदोलन। इस आंदोलन में अलग-अलग देशों के अलग-अलग शहरों में लोगों ने प्रदर्शन किया। इस समस्या ने लोगों को एकजुट किया है। नए तरीके से सोचने के लिए बाध्य किया है। 

इसे एक नई शुरुआत कहा जा सकता है। धरती बार-बार चीख-चीख कर संकेत कर रही है। अच्छी बात यह है कि आम लोगों द्वारा इस संकट को समझने की शुरुआत की जा रही है। जबकि, सरकारें अभी भी पूंजीपतियों के मुनाफे के जाल से निकलने को तैयार नहीं हैं। 

नोटः ऑस्ट्रेलिया में लगी आग को लेकर कुछ गलत रुख भी देखने को मिले। ऑस्ट्रेलिया में बसे कुछ भारतीय जहां इस मामले में सरकार का बचाव करते दिखे। वहीं, ऑस्ट्रेलिया में ऐसे लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है जो आग पर काबू नहीं पाने और क्लाईमेट क्राइसिस को लेकर पर्याप्त कदम नहीं उठाने को लेकर अपनी सरकार से इस्तीफा भी मांग रहे हैं। 

(तस्वीर ऑस्ट्रेलिया में लगी आग की है और इंटरनेट से ली गई है।)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links