ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : जासूसी करते हुए पकड़े गए पाक हाई कमीशन के दो अधिकारी, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया         POK के सभी टेरर कैंपों में भरे पड़े हैं आतंकवादी : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : बख्तरबंद वाहन में घुसे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने घेर कर मारा         BIG NEWS : अब 30 जून तक बंद रहेंगे झारखंड के स्कूल ं         BIG BRAKING : पुलिस को घेरकर नक्‍सलियों ने बरसाई गोली, डीएसपी का बॉडीगार्ड शहीद         सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच अनंतनाग में मुठभेड़, 2 से 3 आतंकी घिरे         सोपोर में लश्कर-ए-तैयबा के 3 OGWs गिरफ्तार, हथियार बरामद         ..कृषि के साथ न्याय हुआ होता तो मजदूरों की यह स्थिति नहीं होती         कालापानी' क्या है, जिसे लेकर भारत से नाराज़ हो गया है नेपाल !         BIG NEWS : आंख में आंख डाल कर बात करने वाली रक्षा प्रणाली तैनात         CORONA BURST : झारखंड में 1 दिन में 72 पॉजिटिव, हालात चिंताजनक         जब पाक ने भारत संग रक्षा गुट बनाना चाहा...         UNLOCK : तीन चरणों में खुलेगा लॉकडाउन, 8 जून से खुलेंगे मंदिर, रेस्टोरेंट, मॉल         BIG NEWS : दामोदर नदी पर पुल बना रही कंपनी के दो कर्मचारियों को लेवी के लिए टीपीसी ने किया अगवा         कुलगाम एनकाउंटर में हिज़्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : अमेरिकी ने WHO से तोड़ा रिश्ता; चीन पर लगाई पाबंदियां         TIT FOR TAT : आंखों में आंख डालकर खड़ी है भारतीय सेना         BINDASH EXCLUSIVE : गिलगित-बाल्टिस्तान में बौद्ध स्थलों को मिटाकर इस्लामिक रूप दे रहा है पाकिस्तान         अब पाकिस्तान में भी सही इतिहास पढ़ने की ललक जाग रही है....         BIG NEWS : लेह से 60 मजदूर रांची पहुंचे, एयरपोर्ट पर अभिभावक की भूमिका में नजर आए सीएम हेमंत सोरेन         BIG NEWS : CM हेमंत सोरेन का संकेत, सूबे में बढ़ सकता है लॉकडाउन !         कश्मीर जा रहा एलपीजी सिलेंडर से भरा ट्रक बना आग का गोला, चिंगारी के साथ बम की तरह निकलने लगी आवाजें         BIG NEWS : मशहूर ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन, कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में थे भर्ती         नहीं रहे अजीत जोगी          BIG NRWS  : IED से भरी कार के मालिक की हुई शिनाख्त         SARMNAK : कोविड वार्ड में ड्यूटी पर तैनात जूनियर डॉक्टर से रेप की कोशिश         BIG NEWS : चीन बोला, मध्यस्थता की कोई जरूरत नहीं, भारत और चीन भाई भाई         BIG NEWS : लद्दाख पर इंडियन आर्मी की पैनी नजर, पेट्रोलिंग जारी         BIG NEWS : डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा, चीन से सीमा विवाद पर मोदी अच्छे मूड में नहीं         BIG STORY : धरती की बढ़ती उदासी में चमक गये अरबपति         समाजवादी का कम्युनिस्ट होना जरूरी नहीं...         चीन और हम !         BIG NEWS : CRPF जवानों को निशाना बनाने के लिए जैश ने रची थी बारूदी साजिश !         BIG NEWS : अमेरिका का मुस्लिम कार्ड : चीन के खिलाफ बिल पास, अब पाक भी नहीं बचेगा         एयर एशिया की फ्लाइट से रांची उतरते ही श्रमिकों ने कहा थैंक्यू सीएम !         वियतनाम : मंदिर की खुदाई के दौरान 1100 साल पुराना शिवलिंग मिला         BIG NEWS : पुलवामा में एक और बड़े आतंकी हमले की साजिश नाकाम, आईईडी से भरी कार बरामद, निष्क्रिय         झारखंड के चाईबासा में पुलिस और नक्सलियों के बीच भीषण मुठभेड़, 3 उग्रवादी ढेर 1 घायल         भारतीय वायु सेना की बढ़ी ताकत, सियाचिन बॉर्डर इलाके में चिनूक हैलीकॉप्टर किए तैनात          क्या किसी ने ड्रैगन को म्याऊं म्याऊं करते सुना है ?        

चीनी यात्री ह्वेनसांग की भारत यात्रा...

Bhola Tiwari Jan 14, 2020, 6:43 AM IST कॉलमलिस्ट
img

एसडी ओझा

 ह्वेनसांग का जन्म चीन के लुओयंग में सन् 602 ईश्वी में हुआ था . चार भाई बहनों में ह्वेनसांग सबसे छोटे थे . अपने प्रतिभा के बल पर ह्वेनसांग मात्र 13 साल की उम्र में मठाधीश बन गए थे . बौद्ध पाठ्यों में मतभेद व भ्रम होने के कारण वे भारत आकर मूल पाठों का अध्ययन करना चाहते थे . सन् 626 ईस्वी में ह्वेनसांग ने संस्कृत का गहन अध्ययन कर इस भाषा में पारंगत हुए थे .

सन् 630 ईश्वी में ह्वेनसांग भारतीय उप महाद्वीप में खैबर के दर्रे से होते हुए गांधार के पुरुषपुर (पेशावर) पहुँचे . उस समय भारत में हर्षवर्धन का शासन था .ह्वेनसांग ने अपनी पुस्तक सी - यू - की में हर्ष वर्धन कालीन सामजिक , आर्थिक , धार्मिक व सांस्कृतिक अवस्था विशद विवेचित वर्णन किया है .

यात्रा करते करते सन् 645 में ह्वेनसांग अपने अंतिम पड़ाव लुम्बिनी पहुँचे . वहाँ से वे 600 से अधिक हीन यान व महायान के ग्रन्थ , 7 मूर्ति व 100 से अधिक लेख अपने साथ ले जाने की तैयारी की . अबकी यात्रा समुद्र मार्ग से करने की सोची . एक बड़ी नाव में सारी किताबें मूर्तियाँ आदि लादकर ह्वेनसांग समुद्र मार्ग से चीन (अपने देश ) के वास्ते निकल पड़े .साथ में एक मदद के लिए बौद्ध भिक्षु भारतीय बालक भी था . बीच रास्ते में भार के कारण नाव डगमगाने लगी . ह्वेनसांग ने भार कम करने के लिए कुछ किताबें समंदर में फेकना चाहा , पर ऐसा करते हुए उन्हें बहुत दुःख हो रहा था . यह देख कर बौद्ध भिक्षु बालक खुद भार कम करने के लिए समन्दर में कूद पड़ा . भारतीय बौद्ध भिक्षु बालक का यह त्याग ह्वेनसांग को द्रवित कर गया . उन्होंने अपनी पुस्तक सी - यू- की में इस घटना का जिक्र कर उस बालक को श्रद्धांजलि अर्पित की है .

चीन पहुँच कर ह्वेनसांग ने सभी पुस्तकों का चीनी भाषा में अनुवाद किया . जब कुछ बौद्ध धर्म की पुस्तकें भारत में अनुपलब्ध हो गईं तो उसी अनुवाद के माध्यम से उन पुस्तकों का पुनर्लेखन किया गया .

5 फरवरी सन् 664 ईश्वी को ह्वेनसांग की मृत्यु हो गई . उनकी खोपड़ी को को सम्भाल कर रख लिया गया . जब दलाई लामा ने भारत में शरण ली तो वह खोपड़ी भी भारत लाए और भारत सरकार को उपहार स्वरूप भेंट कर दिया . आज भी उनकी वह खोपड़ी पटना के राष्ट्रीय संग्रहालय में सुरक्षित रखी गई है , जो अपनी विद्वता की कहानी कह रही है .

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links