ब्रेकिंग न्यूज़
बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप        

नागरिकता...

Bhola Tiwari Jan 09, 2020, 8:16 AM IST टॉप न्यूज़
img


कबीर संजय

नई दिल्ली : मेरी का मां को मेरा जनमदिन याद नहीं रहता था। बचपन में जब मैं उससे पूछा करता था अपने जनमदिन के बारे में। तो वह मुझे उस समय कि घटनाओं को याद करके मेरी उम्र बताती थी। वो कहती थी कि जिस साल ये सड़क बनी थी। उसी साल का तुम्हारा जनम है। दूसरी घटना जमीन अधिग्रहण की है। जिस समय तुम्हारी उम्र एक साल रही होगी, उसी समय इलाहाबाद विकास प्राधिकरण ने हमारी जमीन ले ली, खेत ले लिए। 

मेरा जनम उसे हमेशा ही ऐसी ही घटनाओं से याद रहा। आज की बात और है। आज बच्चों के फेसबुक पर पहले से मैसेज आ जाता है। वे जनमदिन की बधाई देते हैं तो मां भी मुझे उस दिन विशेष कर फोन करती है। जनमदिन की बधाई देती है। लेकिन, मैं सोचता हूं कि मेरी मां का जनमदिन क्या है। उसने किस दिन और किस साल जनम लिया। उसका जनमदिन कभी मना ही नहीं। कभी खयाल भी नहीं आया। उसे अपना जनमदिन याद नहीं। कहीं और लिखा नहीं। हम लोग अंदाजे से ही अपनी अम्मा की उम्र का पता लगाते हैं। मोटा-मोटी अंदाजा लगाते हैं कि इतनी उम्र तो होगी ही। इतने सारे भाई-बहन हैं। सबसे बड़े वाले भाई की उम्र इतनी है। तो मां की उम्र इतनी तो कम से कम होनी ही चाहिए। 

आज तक मुझसे कभी मेरी मां की जनमतिथि नहीं पूछी गई। मुझे याद भी नहीं। अम्मा को भी याद नहीं। अम्मा के बड़े भाईयों को भी याद नहीं। मां किसान परिवार में जन्मी थी। उसे पढ़ने का मौका नहीं मिला। तो उसके लिए कहीं किसी स्कूल के कागजात में फर्जी ही सही जनमदिन की तारीख नहीं लिखाई गई। 

सोचता हूं कि अब जब राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर बनेगा और मुझसे मेरी मां की जनमतिथि पूछी जाएगी, तब मैं क्या जवाब दूंगा। कहां से लाऊंगा वो कागज जो साबित कर सकें कि वो किस तारीख को पैदा हुई थी। 

तो क्या मेरी मां की नागरिकता छीन ली जाएगी। वो इस देश की नागरिक नहीं रहेगी। 

भारत माता का नारा लगाने वाले क्या मेरी माता को देश-बदर कर देंगे। मेरी मां के लिए डिटेंशन सेंटर तैयार करने वालों का समर्थन मैं तो नहीं करने वाला। मैं समझता हूं कि मेरे जैसे लाखों करोड़ लोग हैं, जिन्हें अपने माता-पिता के बारे में ऐसी ही चिंता करने की जरूरत है। 

(फोटो मैक्सिम गोर्की के प्रसिद्ध उपन्यास मदर के कवर की है। यह किताब मेरी पसंदीदगी की लिस्ट में बहुत ऊपर है। इसलिए यहां पर लगाई है। )

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links