ब्रेकिंग न्यूज़
मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप         BIG NEWS : कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से किया इनकार, पाकिस्तान ने दिया काउंसलर एक्सेस का प्रस्ताव        

क्यों न आपको, रंगा बिल्ला कहें..

Bhola Tiwari Jan 06, 2020, 4:15 PM IST टॉप न्यूज़
img


रमेश कुमार रिपु

रायपुर : फै़ज कम्युनिस्ट थे। वे कम्युनिस्ट इसलिए हो गये कि वे पाकिस्तान में थे। पाकिस्तान में फौज का शासन होता है। सरकार तो रबड़ स्टाम्प होती है। फैज़ सरकार से नाखुश थे। और सरकार विरोधी नज़्म लिख दिये। हम देखेंगे ..लाजिम है। फ़ैज की यह नज़्म एंटी इंडिया और हिन्दू विरोधी है। हमारे यहां विपक्ष और जनता बरसों से एक ही नारा लगाती आई है,जो सररकार निकम्मी है,वो सरकार बदलनी है। ताज्जुब होता है कि हमारे यहां के कथित कम्युनिस्ट भारत को पाकिस्तान बताने में लगे हैं। देश में जियाउलहक का शासन नहीं है। पर जियाउलहक के समर्थक हैं। जबकि सरकार की सोच न तो पाकिस्तानी है और न ही तालिबानी। कुछ कथित कम्युनिस्ट सरकार को पाकिस्तानी बताने और फ़ैज की नज़्म को हवा देने में लगे हैं। फै़ज से परेशानी नहीं है,परेशानी तो अहमद से है।

कथित कम्युनिस्ट में कितने लोगों ने अपना नाम रंगा बिल्ला रख लिया है? कोई बतायेगा? अपना पता बदल लिया है। तालिबान या फिर पाकिस्तान लिखा दिया है। जो हिन्दुस्तानी अहमद हैं, उन्हें तो कोई परेशानी नहीं है। परेशानी तो पाकिस्तानी अहमदों को है,और देश को उनसे है। जेएनयू हो या फिर जामिया हो। उनके नारे और उनकी हरकतें बताती हैं कि, वे पाकिस्तानी कम्युनिस्ट हैं। उनकी सोच में तालिबान है। उनके विचारों में पाकिस्तान है। नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन के नाम पर जिस तरह से इस्लामिक नारों का इस्तेमाल हो रहा है, खासकर अल्पसंख्यक संस्थानों में , ये न केवल चिंतनीय है बल्कि,जायज भी नहीं है। अरूंधति राॅय,जावेद अख्तर,और फरहान अख्तर जैसे लोग, शोहरत के नाम पर कलंकित हैं।

वे कौन लोग हैं जो देश की शिराओं में देश भक्ति का लहू नहीं बहने देना चाहते हैं?वो रंगा, बिल्ला ही हैं। देश के रंगा बिल्ला हैं। समाज के रंगा, बिल्ला हैं। विचारों के रंगा, बिल्ला हैं। सोच के रंगा, बिल्ला हैं। यह सवाल तब, तब उठेगा, जब, जब पाकिस्तानी अहमदों के खिलाफ सरकार अपनी आंखें तनेन करेगी। उन्हें डर लगने लगता है। अपने ही देश से। अपने ही लोगों से। अपने चाहने वालों से। लेकिन वे यह क्यों भूल जाते हैं कि, वे कितनी ही बार देश को डरा चुके हैं,अपनी हरकतों से। मुंबई ब्लास्ट हो या फिर संसद भवन कांड, अथवा पुलवामा कांड। तब तो कोई आमिर या फिर शाहरूख अथवा कथित समाजिक कार्य कर्ता अरूंधति राॅय जैसे आकर नहीं कहते कि ऐसे लोगों से डर लगता है। अपना नाम रंगा,बिल्ला बताएं और अपने घर का पता प्रधान मंत्री के घर का बतायें। व्यक्ति की गरिमा को भले नजरअंदाज करें लेकिन, प्रधान मंत्री के पद की गरिमा के साथ ऐसी भद्दी भाषा का इस्तेमाल करने वाले किस तरह के वामपंथी है? कोई कथित कम्युनिस्ट भी देश विरोधी भाषा के लिए रंगा, बिल्ला शब्द का चयन नहीं करता। 31 जनवरी 1982 को तिहाड़ जेल में रंगा, बिल्ला को फांसी दी गई थी। दो किशोर बच्चों की हत्या और लड़की गीता के साथ रेप ने पूरे भारत को हिला दिया था। सवाल यह है कि कथित कम्युनिस्ट का नकाब पहनकर कितने लोग फ़ैज अहमद फै़ज बनने की कतार में हैं? ऐसे लोग बतायें कि, क्या यह देश जियाउलहक का हैं?

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links