ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार में चंद्रशेखर और यशवंत सिन्हा भी रणवीर सेना के साथ!!

Bhola Tiwari Dec 02, 2019, 7:08 PM IST टॉप न्यूज़
img


राजीव मित्तल

नई दिल्ली : लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार के आरोपितों का कहना है कि पूर्व प्रधानमन्त्री चंद्रशेखर की मदद से उन्हें हथियार मिले थे और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने उनकी राजनीतिक और आर्थिक मदद की थी..


खोजी पत्रकारिता के लिए मशहूर वेबसाइट 'कोबरापोस्ट' का एक नया स्टिंग ऑपरेशन सामने आया है. इस स्टिंग ऑपरेशन में 'रणबीर सेना' के कई पूर्व कमांडर दलितों की हत्या करने की बात स्वीकारने के साथ ही कई सनसनीखेज खुलासे करते दिख रहे हैं. इसके अनुसार मुरली मनोहर जोशी, सीपी ठाकुर और सुशील मोदी जैसे बड़े राजनेताओं के साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर भी रणवीर सेना की प्रत्यक्ष या परोक्ष तरीके से मदद कर चुके हैं. यह आजाद भारत का सबसे बड़ा और क्रूरतम जातीय नरसंहार माना जाता है..

रणबीर सेना बिहार के सवर्ण जातियों से जुड़े जमींदारों का बनाया गया एक संगठन था. इस संगठन पर बिहार में सैकड़ों दलितों के नरसंहार का आरोप है. इनमें बथानी टोला, शंकर बिगहा, सरथुआ, इकवारी, मियांपुर और लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार प्रमुख हैं. इन्हीं नरसंहारों के आरोपितों में शामिल रणबीर सेना के छह पूर्व कमांडरों का कोबरापोस्ट ने स्टिंग किया है.


एक दिसंबर 1997 जहानाबाद जिले का लक्ष्मणपुर बाथे गांव में हुए इस नरसंहार में कुल 58 लोगों की हत्या कर दी गई थी. इस मामले में कुल 46 लोगों को आरोपित बनाया गया था. इनमें से 19 लोगों को निचली अदालत ने ही बरी कर दिया था जबकि एक व्यक्ति सरकारी गवाह बन गया था. बाकी आरोपितों में से 16 को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई थी और 10 को उम्रकैद हुई थी. 

लेकिन 2013 के अंत में पटना उच्च न्यायालय ने सबूतों के अभाव में सभी आरोपितों को बरी कर दिया था. इसी तरह शंकर बिगहा में हुई 23 दलितों की हत्या के सभी आरोपित भी न्यायालय द्वारा बरी किये जा चुके हैं. बथानी टोला और मियांपुर नरसंहार में भी रणबीर सेना के सभी आरोपित सदस्यों को न्यायालय बरी कर चुका है.

कोबरापोस्ट ने अपने हालिया स्टिंग ऑपरेशन 'ब्लैक रेन' में रणबीर सेना के चंद्रकेश्वर सिंह, सिद्धनाथ राय, प्रमोद सिंह, रवींद्र चौधरी, भोला राय और अरविंद सिंह के बयानों को ख़ुफ़िया कैमरों में कैद किया है. इनमें से कुछ को न्यायालयों ने बरी कर दिया है जबकि कुछ आज भी जेल में कैद हैं. कोबरापोस्ट के कैमरों पर इन लोगों ने यह कबूल किया है कि इन्होंने ही दलितों के नरसंहार में मुख्य भूमिका निभाई थी. 

कुछ ने तो यहाँ तक बताया है कि धनबाद के बाहुबली नेता सूर्यदेव ने तत्कालीन प्रधानमन्त्री चंद्रशेखर से अपनी नजदीकियों के चलते भारतीय सेना के पुराने हो चुके हथियार रणबीर सेना को उपलब्ध करवा दिए थे. इसके साथ ही इन लोगों ने अटल बिहारी वाजपेयी के मंत्रिमंडल में शामिल रहे यशवंत सिन्हा का नाम लेते हुए यह भी कहा है कि उन्होंने रणबीर सेना की राजनीतिक मदद करने के साथ ही साढ़े पांच लाख रूपये की वित्तीय मदद भी की थी.

कोबरापोस्ट ने इस ऑपरेशन के दौरान जस्टिस अमीर दास से भी बात की है. जस्टिस दास पटना उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश रहने के साथ ही लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार की जांच के लिए बने आयोग के अध्यक्ष भी रहे हैं. वे कोबरापोस्ट को बताते हैं कि शिवानंद तिवारी, सीपी ठाकुर, मुरली मनोहर जोशी और सुशील कुमार मोदी जैसे नेताओं ने जांच को प्रभावित करने की कोशिश की थी.

बिहार में हुए इन दलित नरसंहारों के कई मामले आज भी विभिन्न न्यायालयों में लंबित हैं. माना जा रहा है कि कोबरापोस्ट के इस 'ऑपरेशन ब्लैक रेन' के बाद ऐसे मामलों की सुनवाई प्रभावित हो सकती है. कुछ लोगों का यह भी मानना है कि बिहार चुनाव से ठीक पहले आये इस स्टिंग ऑपरेशन के पीछे कुछ राजनीतिक ताकतें भी हो सकती हैं.

(1974 के बिहार आंदोलन और उसके बाद भी लोकनायक जय प्रकाश नारायण के निजी चिकित्सक रहे डॉ. सीपी ठाकुर को कालाजार पर अन्तरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त विशेषज्ञता का रुतबा हासिल है..कालाजार रोगियों के लिये भगवान से कम हैसियत नहीं रही है.. फिर वह सांसद बने, देश के स्वास्थ्य मंत्री भी बन गये..लेकिन तब तक उन्हें कालाजार से विरक्ति हो चुकी थी..हां, विश्व स्वास्थ्य संगठन से उन्हें कालाजार उन्मूलन के नाम पर डॉलरों की सौगात नियमित दी जाती रही..एक सरकारी आयोग की गैर सरकारी रिपोर्ट के अनुसार कई नरसंहारों की जनक रणवीर सेना के पदाधिकारी भी हैं डॉ. सीपी ठाकुर..1996-98 के दौरान हुए जहानाबाद के हैबसपुर और लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहारों में सीबीआई ने उनके खिलाफ चार्जशीट तैयार की थी.. कई दिन तक भूमिगत रहे, फिर सुन्दर सिंह भन्डारी के कार्यकाल में राज्यपाल भवन में काफी समय छुपे रहे.. उस समय राज्यपाल का ओएसडी डॉक्टर साहब का ही कोई रिश्तेदार था, उसी की बदौलत मामला सुलटा..केन्द्र में सत्ता बदली तो स्वास्थ्य मंत्री बने, रिश्वत के एक मामले में हटाये गये, फिर दूसरा मंत्रालय थमा दिया गया..)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links