ब्रेकिंग न्यूज़
संपादक को डिटेंशन कैंप में डालने की शुरुआत..         शाहीन बाग : कई लोगों की नौकरी गई, धरना जारी रहेगा         शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ़्तार         हेमंत सोरेन का पहला मंत्रिमंडल विस्तार : जेएमएम से 5 तो कांग्रेस के दो विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ         तामझाम के साथ अमित शाह के सामने बाबूलाल मरांडी की भाजपा में होगी एंट्री, जेपी नड्डा भी रहेंगे मौजूद         BJP सत्ता में आई तो एक घंटे में खाली होगा शाहीन बाग का प्रदर्शन : प्रवेश वर्मा         हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार : जेएमएम से 5 और कांग्रेस से 2 विधायक होंगे मंत्री         ...तो यह शाहीन चार दिन में गोरैया बन जाएगा         झारखंड: लालू यादव से जेल में मिलकर भावुक हुईं राबड़ी,बेटी मीसा भी रही मौजूद         हेमंत सोरेन का कैबिनेट विस्तार कल, 8 विधायक ले सकते हैं मंत्री पद की शपथ         चाईबासा नरसंहार : पत्‍थलगड़ी नेता समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, सभी को भेजा गया जेल         केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी        

अकाल : गाँव में एक जगह बनती थीं रोटियाँ

Bhola Tiwari Dec 01, 2019, 10:01 AM IST टॉप न्यूज़
img


दिनेश मिश्रा

बाढ़, सुखाड़ और अकाल की तलाश मुझे 86 वर्षीय प्रो.शैलेन्द्र श्रीवास्तव तक ले गयी जो मेरे पुराने परिचित हैं और पटना में अर्चना निकेतन, मीठा पुर, पटना में रहते हैं. उन्होनें मेरा 1951 की अकाल जैसी स्थिति से परिचय करवाया.


"मेरा गाँव डीही सारण जिले के परसा थाने में पड़ता था और वह काफी फैल कर बसा था. एक घर के बाद एक गाछी थी वहां. गाँव के इर्द-गिर्द गंडक नदी का बाँध था जिमें से एक तो गाँव के पास ही था. एक फैला हुआ संकुल था हमारा गाँव. आजकल यह गाँव मकेर प्रखंड में आ गया है. इस गाँव में कभी डीह (टीला नुमा ऊंची जगह) रहा होगा जो मैंने कभी नहीं देखा. मेरे जन्म के समय भी वहाँ कोई डीह नहीं था. मेरे घर के सामने एक बहुत बड़ा मैदान था, शिवालय था और उससे लगा हुआ बाग़ था. हम लोग भी इस गाँव में बाहर से आये थे. गंडक नदी के उस पार मुज़फ्फरपुर जिले में रेवा घाट के पास एक शुभई गाँव है वही हम लोगों का मूल स्थान था. हमारे गाँव के एक बहुत बड़े विद्वान् थे अनिरुद्ध जी जो बाबा के मित्र थे और उन्हें भोजपुरी का वर्ड्सवर्थ कहा जाता था.

"उस वक़्त अकाल जैसी स्थिति तो हो गयी थी क्योंकि पानी लम्बे समय से बरसा ही नहीं था. अनाज लोगों के पास ख़त्म हो गया था तो सरकार को अमेरिका और दूसरे देशों से अनाज मंगाना पड़ गया था. उसके साथ खर-पतवार वाली घास भी आई. हम लोगों के यहाँ चावल गेहूं बाजरा आदि बहुत कुछ अनाज राहत में बांटने के लिया आया था. कहते हैं कि अन्य जगहों पर लोगों की पसंद चावल थी मगर हमारे यहाँ लोगों ने गेहूं लिया. गाँव में एक जगह रोटियाँ बनती थीं और वहीं से ज़्यादातर लोग ले जाया करते थे अगरचे यह काम किसी को पसंद नहीं था. बहुत से लोग अपनी मर्यादा का ख्याल करके रोटी लेने आते नहीं थे. इसे उनके घर पहुंचा दिया जाता था. जिसके पास थोड़ा बहुत अनाज बचा हुआ था वह लोग तो साफ़ मना कर देते थे कि जिसके पास नहीं है पहले उसको दो.

 "मैंने 1949 मैं मैट्रिक पास किया था और उसके बाद छपरा में रह कर राजेन्द्र कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था. बीच-बीच में गाँव आता था. मेरे बाबा उस समय जीवित थे. हमारी स्थिति ठीक थी इसलिए रोटियाँ कभी हमारे घर नहीं आयीं."

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links