ब्रेकिंग न्यूज़
संपादक को डिटेंशन कैंप में डालने की शुरुआत..         शाहीन बाग : कई लोगों की नौकरी गई, धरना जारी रहेगा         शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ़्तार         हेमंत सोरेन का पहला मंत्रिमंडल विस्तार : जेएमएम से 5 तो कांग्रेस के दो विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ         तामझाम के साथ अमित शाह के सामने बाबूलाल मरांडी की भाजपा में होगी एंट्री, जेपी नड्डा भी रहेंगे मौजूद         BJP सत्ता में आई तो एक घंटे में खाली होगा शाहीन बाग का प्रदर्शन : प्रवेश वर्मा         हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार : जेएमएम से 5 और कांग्रेस से 2 विधायक होंगे मंत्री         ...तो यह शाहीन चार दिन में गोरैया बन जाएगा         झारखंड: लालू यादव से जेल में मिलकर भावुक हुईं राबड़ी,बेटी मीसा भी रही मौजूद         हेमंत सोरेन का कैबिनेट विस्तार कल, 8 विधायक ले सकते हैं मंत्री पद की शपथ         चाईबासा नरसंहार : पत्‍थलगड़ी नेता समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, सभी को भेजा गया जेल         केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी        

आपको कुर्सी पर बैठने का अधिकार नहीं, विस्फोटकों से शहर को उड़ा दीजिए : सुप्रीम कोर्ट

Bhola Tiwari Nov 26, 2019, 7:15 AM IST टॉप न्यूज़
img


सिद्धार्थ सौरभ

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि लोगों को गैस चैंबरों में रहने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उन सभी को एक बार में मारना बेहतर है, एक बार में 15 बैग में विस्फोटक करके शहर को उड़ा दो। दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से यह सारी बातें कहीं। कोर्ट ने कहा कि गैस चैंबरों में लोगों को यह सब क्यों भुगतना चाहिए। खेल चल रहा है, मैं सचमुच हैरान हूं। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में जल प्रदूषण का गंभीरता से संज्ञान लिया और कहा कि लोगों को शुद्ध जल पाने का अधिकार है।

सोमवार को अदालत ने मामले पर संज्ञान लेते हुए पंजाब के मुख्य सचिव से कहा कि दिल्ली के लोगों को प्रदूषण की वजह से मरने के लिए नहीं छोड़ा जा सकता। अदालत ने कहा कि आप लोगों से इस तरीके से व्यवहार कर सकते हैं और उन्हें दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण से मरने के लिए कैसे छोड़ सकते हैं?

अदालत ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) से दिल्ली में चल रहे कारखानों के पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव पर रिपोर्ट दर्ज करने के लिए कहा है। जस्टिस अरुण मिश्रा के नेतृत्व वाली पीठ ने सीपीसीबी को राजधानी में चल रही फैक्ट्रियों की प्रकृति के बारे में विवरण दर्ज करने को कहा है।

अदालत ने पंजाब के मुख्य सचिव से पूछा कि पराली न जलाने को लेकर क्या कदम उठाए गए। उन्होंने कहा कि हमें बताएं कि आदेश के बावजूद क्यों पराली जलने के मामले बढ़े हैं। आप पराली जलाए जाने की जांच क्यों नहीं कर पा रहे हैं। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के कारण लाखों लोगों की आयु कम हो गई है और लोगों का दम घुंट रहा है।

शीर्ष अदालत ने कहा कि मुख्य सचिव हम राज्य के हर प्रशासन को इसके लिए जिम्मेदार ठहराते हैं। आप लोगों को इस तरह मरने के लिए नहीं छोड़ सकते। दिल्ली में लोगों का दम घुट रहा है क्योंकि आप उपायों को लागू करने में सक्षम नहीं हैं। इसका यह मतलब नहीं है कि दिल्ली-एनसीआर के लोग मरेंगे और कैंसर की चपेट में आएंगे।

अदालत ने हरियाणा सरकार से पूछा कि राज्य में पराली जलाए जाने की घटनाएं क्यों बढ़ रहे हैं। अदालत ने कहा, आपने पहले पराली जलाने को नियंत्रित करने के लिए अच्छा काम किया था लेकिन अब यह बढ़ गया है। पंजाब और हरियाणा ने कुछ नहीं किया। अदालत ने सॉलिसिटर जनरल तुसार मेहता से कहा कि क्यों लोगों को गैस चैंबर में रहने को मजबूर होना पड़ रहा है? इसे अच्छा होगा कि उन्हें एक साथ मार दिया जाए। 15 विस्फोटकों के बैग लाइए और उन्हें एक बार में मार दीजिए। लोगों को यह सब क्यों भुगतना चाहिए। दिल्ली में एक-दूसरे पर इल्जाम लगाया जा रहा है। मैं इससे हैरान हूं।

जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि लोग हमारे देश पर हंस रहे हैं कि हम पराली जलाए जाने को भी नियंत्रण नहीं कर सकते हैं। एक-दूसरे पर आरोप लगाकर दिल्ली के लोगों की सेवा नहीं की जा सकती। अदालत ने दिल्ली में जल प्रदूषण पर गंभीरता से संज्ञान लिया और कहा कि लोगों को शुद्ध जल पाने का अधिकार है। जस्टिस मिश्रा ने कहा कि दिल्ली की हालत नरक से भी बदतर है। भारत में जिंदगी इतनी सस्ती नहीं है और आपको इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। अदालत ने दिल्ली सरकार से कहा कि आपको कुर्सी पर रहने का कोई अधिकार नहीं है। प्रत्येक व्यक्ति को कितने लाख का भुगतान किया जाना चाहिए? आप किसी व्यक्ति के जीवन को कितना महत्व देते हैं?

दिल्ली के चीफ सेक्रेटरी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि दिल्ली 2 शक्ति केंद्रों दिल्ली सरकार और केंद्र के कारण ‘शासन समस्या’ का सामना कर रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली सरकार को ‘अपने मतभेदों को एक तरफ रखने’ का निर्देश दिया है और शहर के विभिन्न हिस्सों में एयर प्यूरीफायर टावरों की लगाने के लिए 10 दिनों के भीतर एक साथ बैठकर योजना को अंतिम रूप देने को कहा है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links