ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में        

भारत द्वारा जारी नए नक्शे पर पाकिस्तान के बाद नेपाल ने भी जताया विरोध

Bhola Tiwari Nov 07, 2019, 5:09 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

भारत ने शनिवार को दो नए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के गठन के बाद भारत का नया मानचित्र जारी किया था।इससे पहले भारत सरकार ने यूपी से उत्तराखंड बनने, बिहार से झारखंड बनने और मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ बनने पर भी देश का नया नक्शा जारी किया था।पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेश बनने पर एतराज है,क्योंकि वो पूरे जम्मू-कश्मीर को विवादित क्षेत्र मानता है और वो कहता है कि वहाँ जो कुछ भी नया होगा वो संयुक्त राष्ट्र की सहमति से होगा।

भारत के नए नक्शे में उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में कालापानी को शामिल किए जाने को लेकर नेपाल अपनी आपत्ति जताया रहा है।दरअसल नेपाल कालापानी को अपने मानचित्र में दारचूला जिले के हिस्से के तौर पर दिखाता है।

नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि कालापानी का इलाका उसकी सीमा में आता है।मंत्रालय के बयान के मुताबिक विदेश सचिव स्तर की संयुक्त बैठक में भारत और नेपाल की सीमा संबंधी मुद्दों को संबंधित विशेषज्ञों की मदद से सुलझाने की जिम्मेदारी दोनों देशों के विदेश सचिवों को दी गई है।दोनों देशों के बीच सीमा संबंधित लंबित सभी मुद्दों को आपसी समझ से सुलझाने की जरूरत है और कोई भी एकतरफा कार्रवाई नेपाल सरकार को अस्वीकार है।

भारत के विदेश मंत्रालय के अवर सचिव से जब इस मार्फत सवाल किया गया तो उन्होंने बताया कि मंत्रालय सच्चाई का पता लगाने की कोशिश कर रहा है।

आपको बता दें इन दिनों नई दिल्ली और काठमांडू के बीच सीमा विवाद को लेकर वार्ता चल रही है।भारत सरकार को अपने मित्रदेश की नाराजगी को समझना होगा नहीं तो नेपाल भी चीन और पाकिस्तान की राह पर चल पडेगा।

आपको बता दें भारत के नेपाल से बहुत पुराने संबंध हैं।मद्धेशी आंदोलन के दौरान भारत सरकार नेपाल का गुस्सा भांपने में नाकामयाब रही थी,तभी से दोनों देशों के संबंध थोडे कटु हुए हैं।मद्धेशियों की नाकेबंदी के समय भारत का रूख बेहद निंदनीय था।एक तरफ नेपाल भूकंप की त्रासदी से जूझ रहा था तो दूसरी तरफ मद्धेशियों के आर्थिक नाकेबंदी से।नरेंद्र मोदी सरकार बहुत दिनों तक ये निर्णय नहीं कर पाई थी कि वो किसका साथ दे।नेपाल ने भारत पर उसके आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप का आरोप लगाया था जो सही भी था।अनुभवहीन विदेश नीति ने नेपाल से भी संबंध खराब कर दिये थे।आज भारत को बडी समझदारी से निर्णय लेना है जिससे नेपाल संतुष्ट हो जाए।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links