ब्रेकिंग न्यूज़
आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

गौरव : भारत का संपूर्ण राजनैतिक मानचित्र जारी

Bhola Tiwari Nov 05, 2019, 7:52 AM IST टॉप न्यूज़
img

● जम्मू कश्मीर और लद्दाख का संपूर्ण मानचित्र जारी

● पाक अधिकृत और चीन अधिकृत हिस्से को खाली दिखाने की परंपरा खत्म


सिद्धार्थ सौरभ

नई दिल्ली : 31 अक्टूबर को नए जम्मू कश्मीर और लद्दाख़ संघ राज्य क्षेत्र के रूप में पुनर्गठन के बाद भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर, लद्दाख और संपूर्ण भारत का राजनैतिक मानचित्र जारी किया। क्योंकि भारत सरकार ने पहली बार जम्मू कश्मीर और लद्दाख का संपूर्ण मानचित्र जारी किया लिहाजा यह एक ऐतिहासिक घटना है। पहली बार पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर के मीरपुर मुजफ्फराबाद, पाकिस्तान अधिकृत लद्दाख के गिलगित-बल्तिस्तान और चीन अधिकृत लद्दाख के हिस्से को भी न सिर्फ संपूर्ण मानचित्र का हिस्सा बनाया, बल्कि इन हिस्सों के इलाकों को नाम के साथ चिन्हित कर आधिकारिक मानचित्र में दर्शाया गया है। सर्वेयर जनरल ऑफ इंडिया की ओर से जारी किए गए पुराने और नये दोनों मानचित्रों को ध्यान से देखिए।

 

पहले और नए नक्शे को गौर से देखा जाए तो पता चलता है कि पहले पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर के मीरपुर मुजफ्फराबाद, लद्दाख के गिलगित-बल्तिस्तान और चीन अधिकृत लद्दाख को खाली दिखाया जाता था। उनके क्षेत्रों को जम्मू कश्मीर राज्य के राजनीतिक मानचित्र में शामिल नहीं किया जाता था। लिहाजा ये स्पष्ट नहीं था कि पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर, लद्दाख के गिलगित-बल्तिस्तान और चीन अधिकृत लद्दाख का कौन सा हिस्सा किस जिले में है। इन इलाकों में कितने जिले हैं। अब तक पाकिस्तान अधिकृत लद्दाख के गिलगित-बल्तिस्तान को कश्मीर क्षेत्र का हिस्सा ही समझा जाता था। जबकि ये क्षेत्र भौगोलिक, सांस्कृतिक और प्रशासनिक इतिहास के हिसाब से लद्दाख का हिस्सा रहा है। नये मानचित्र में भारत सरकार ने भूल-सुधार कर इन अधिकृत इलाकों के लेह जिले में शामिल किया है।

 

 यहां तक कि पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर (Pakistan Occupied Jammu Kashmir) के मीरपुर मुजफ्फराबाद क्षेत्र को भी भारत सरकार ने पहली बार स्पष्ट कर संघ राज्य जम्मू कश्मीर में दिखाया है। बल्कि भारत सरकार ने इस जिलों की प्रशासनिक क्षेत्र सीमा को भी स्पष्ट किया है। ये स्पष्ट है कि भौगोलिक, सांस्कृतिक और प्रशासनिक तथ्यों के मुताबिक पीओके का मीरपुर-मुजफ्फराबाद इलाका भी जम्मू क्षेत्र का हिस्सा है, न कि कश्मीर घाटी का।

 स्पष्ट है कि संपूर्ण जम्मू कश्मीर और लद्दाख के मानचित्र में कश्मीर घाटी का हिस्सा (16,000 वर्ग किमी) सबसे छोटा है। कुल 2,22,236 वर्ग किमी में से मात्र 15,948 वर्ग किमी।

 अब ये समझना मुश्किल नहीं कि कैसे जम्मू कश्मीर और लद्दाख के सबसे छोटे हिस्से कश्मीर ने पूरे राज्य के नैरेटिव पर कब्ज़ा कर रखा था। कश्मीर हिस्से की समस्य़ाओं को पूरे जम्मू कश्मीर और लद्दाख की समस्या और नजरिये के तौर पर पेश किया था।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links