ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

क्या ये पर्यावरण नस्लभेद है !!!

Bhola Tiwari Nov 04, 2019, 5:27 PM IST टॉप न्यूज़
img


 कबीर संजय

सम-विषम योजना को दिल्ली में तीसरी बार लागू किया जा रहा है। आज इसका पहला दिन है। सम-विषम यानी जिस दिन सम संख्या वाली तारीख होगी, उस दिन सम संख्या वाली कार को चलने की इजाजत होगी। जिस दिन विषम संख्या वाली तारीख होगी उस दिन विषम संख्या वाली कार को चलने की इजाजत होगी। 

यानी एक प्रकार से किसी एक दिन आधी कारों के चलने पर पाबंदी लगाई गई है। इस पाबंदी से पूरा का पूरा उच्च वर्ग और मध्य वर्ग का एक हिस्सा आहत हो गया है। उसे अपने वाहन पर लगी यह पाबंदी मंजूर नहीं है। वो इसके खिलाफ अपना गुस्सा निकाल रहा है। ट्विटर पर यह ट्रेंड कर रहा है। वहां पर तमाम तरह से इसके खिलाफ भड़ास निकाली जा रही है। अरविंद केजरीवाल को गालियां दी जा रही हैं। तमाम चैनल सम-विषम की खिलाफत से भरे पड़े हैं। 

तमाम विशेषज्ञ अपनी-अपनी कब्रों से बाहर निकल आए हैं। वो समझा रहे हैं कि सम-विषम जैसी योजनाएं बेकार हैं। इनसे कोई फायदा नहीं होने वाला है। ये बात और है कि यही बात वो पटाखों पर पाबंदी और पराली जलाने पर रोक के बारे में भी कहते हैं। उनके लिए प्रदूषण एक अमूर्त चीज है। जिससे लड़ा भी अमूर्त तरीके से जाएगा। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता, पूर्व केन्द्रीय मंत्री और सांसद इतने ज्यादा आहत हो गए कि खुलेआम नियम तोड़ने के लिए अपना वाहन लेकर ही निकल पड़े। 

लेकिन, यहां पर मैं कहना एक दूसरी बात चाहता हूं। प्रदूषण की खतरनाक हालत को देखते हुए पूरे दिल्ली एनसीआर में पांच नवंबर तक निर्माण कार्यों पर रोक लगाई गई है। यानी नियमतः पांच नवंबर तक कोई भी निर्माण कार्य नहीं होना चाहिए। एक तसला भी नहीं उठना चाहिए। एक फावड़ा भी नहीं चलना चाहिए। 

दिल्ली-एनसीआर के पूरे हिस्से में मोटा-मोटी बीस लाख से ज्यादा कंस्ट्रक्शन मजदूर हैं। वे कई बार बीस-बीस किलोमीटर दूर से साइकिल चलाकर शहरों के लेबर चौक पर मजदूरी मांगने पहुंचते हैं। यहां पर वो जानवरों की तरह खड़े रहते हैं। जहां पर काम कराने वाला आता है और सबसे मोटे-तगड़े मजदूर से उसकी मजदूरी के लिए मोलभाव करता है। आम दिनों में बहुत सारे मजदूरों को काम मिल जाता है। लेकिन, बहुत सारे बदनसीब ऐसे भी होते हैं जिन्हें काम नहीं मिलता। वे अपना मुंह लटकाकर दस-ग्यारह बजने तक सड़क के किनारे या लेबर चौराहे पर खड़े रहते हैं और ऐसे ही हताश होकर घर लौट जाते हैं। 

उस दिन शायद उनके यहां चूल्हा नहीं जलता होगा। या फिर उन्हें चूल्हा जलाने के लिए उधार लेना पड़ता होगा। दवाइयां नहीं आती होंगी। त्योहार नहीं मनाए जाते होंगे। पता नहीं किन-किन जरूरतों को अगले दिन के लिए टाल दिया जाता होगा। जब काम मिलेगा तो उन जरूरतों को पूरा किया जाएगा। 

प्रदूषण से निपटने के लिए एक झटके में लाखों लोगों के रोजगार के हक को छीन लिया गया। निर्माण कार्य पर पाबंदी यानी काम करने की उनकी संभावना पर पाबंदी। 

पर क्या आपने कभी इस तरह का रोना-गाना देखा। किसी को इसका विरोध करते देखा। किसी को इस पाबंदी की खामियां दिखाते हुए देखा। किसी को यह कहते हुए देखा कि ऐसा नहीं किया जाना चाहिए। क्योंकि, लाखों लोगों के रोजगार का क्या होगा। उनकी रोजी-रोटी का क्या होगा। किसी ने इस पाबंदी का विरोध किया होता। 

लेकिन, इसके खिलाफ कोई नहीं आया। पिछले साल भी प्रदूषण से निपटने के लिए रोजगार पर लगाई गई इन पाबंदियों को मजदूरों ने बड़ी ही खामोशी से सहन किया था। इस बार भी सहन कर रहे हैं। अपने घरों में पता नहीं कौन-कौन सी मुश्किलें वे झेल रहे होंगे।  

क्या प्रदूषण से निपटने के नाम पर सारा त्याग और बलिदान सिर्फ मजदूर और गरीब लोग करेंगे। बाकी लोग न तो पटाखे बजाने की अपनी हेकड़ी छोड़ना चाहते हैं और न ही अपनी शानदार गाड़ी का शौक। पर्यावरण का नस्लभेद शायद यही है !!!

(फोटो दमघोंटने वाले स्मॉग की चादर में डूबी दिल्ली की है और इंटरनेट से ली गई)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links