ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बवाल में ये किसान हैं या दंगाई !          BIG NEWS : ट्रैक्टर रैली के बहाने दिल्ली में बवाल, दिल्ली के हालात पर गृह मंत्री अमित शाह ने रिपोर्ट तलब की         शर्मनाक : लाल किले पर दंगाइयों का कब्जा, दंगाइयों ने प्राचीर पर खालसा पंथ का झंडा लगाया         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर पुलिस के 4 बहादुर जवानों को मरणोपरांत शौर्य चक्र, आतंकियों से लड़ते हुए गंवाई थी जान         BIG NEWS : जम्मू के हरमनजोत सिंह को मिला राष्ट्रीय बाल पुरस्कार, महिला सुरक्षा से जुड़ा ऐप बनाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने भी की सराहना         गणतंत्र दिवस !         हम, भारत के लोग.....         .जब नेहरू से नजदीकी होने की भारी कीमत चुकानी पडी थी राजगोपालाचारी को         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर पुलिस को मिले सबसे ज्यादा गैलेंट्री अवार्ड, गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित         BIG NEWS : पाकिस्तान को एक और बड़ा झटका, UN ने अपने कर्मचारियों से कहा पाकिस्तानी एयरलाइंस में ना करें सफर         BIG NEWS : योगी आदित्यनाथ ने LOC पर शहीद हुये निशांत की शहादत को किया नमन, परिजनों को 50 लाख और एक नौकरी देने का ऐलान         BIG NEWS : सिक्किम के नाकू ला में भारतीय जवानों ने चीन की घुसपैठ को किया नाकाम, 20 चीनी सैनिक घायल         BIGNEWS : “जस्टिस डिलेड बट डिलिवर्ड” फिल्म के निर्देशक ने कहा – “अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद जम्मू के दबे-कुचले लोगों को उनके अधिकार मिले”         BIG NEWS : आतंकी ठिकाना नष्ट, भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लालू से मिलने फिर रिम्स पहुंची राबड़ी और मीसा, दिल्ली या मुंबई शिफ्ट हो सकते हैं RJD सुप्रीमो         BIG NEWS : भारत ने भेजी वैक्सीन, ब्राजीली राष्ट्रपति ने संजीवनी ले जाते हनुमान जी की तस्वीर ट्वीट कर कहा धन्यवाद!         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 11 महीने बाद पहली फरवरी से खुलेंगे स्कूल         पीएम मोदी का बंगाल दौरा : पराक्रम दिवस के मौके पर बंगाल में नेताजी भवन जाएंगे प्रधानमंत्री; असम में 1.06 लाख लोगों को बांटेंगे जमीन का पट्टा         BIG NEWS : आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान, इमरान खान ने फिर लिया 416 हजार करोड़ रुपये का कर्ज         BIG NEWS : ममता बनर्जी के मंत्रिमंडल से एक और मंत्री ने दिया इस्तीफा         BIG NEWS : केंद्र सरकार और आंदोलनकारी किसानों के बीच वार्ता विफल, कृषि मंत्री बोले- जो प्रस्ताव दिया उससे बेहतर कुछ नहीं         भजन सम्राट नरेंद्र चंचल का निधन         BIG NEWS : किश्तवाड़ में पुलिस के जवानों पर ग्रेनेड हमला, सर्च ऑपरेशन जारी         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में निर्यात को बढ़ावा देने के लिए 33 सदस्यीय बोर्ड गठित, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा होंगे चेयरमैन         BIG NEWS : UN में भारत ने उठाया ख़ैबर पख़्तूनख़्वा में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा - मूकदर्शक बनी रही पाकिस्तामन सरकार          और जिंदगी पर पर्दा गिर गया....         BIG NEWS : कृषि कानून स्थगन का प्रस्ताव किसानों ने किया खारिज, आज होगी 11वें दौर की वार्ता         BIG NEWS : लालू यादव की तबीयत बिगड़ी, फेफड़े में संक्रमण-निमोनिया         GOOD NEWS : भारत बायोटेक शुरू करेगा नाक से दी जाने वाली कोरोना वैक्सीन के ट्रायल्स         BIG NEWS : चीनी वैक्सीन ने काम नहीं किया तो पाकिस्तान को भी वैक्सीन भेजेगा भारत !          BIG NEWS : कोवीशील्ड का प्रोडक्शन पूरी तरह सेफ, सीरम की इमारत में दोबारा आग लगी, 5 मजदूरों के जले हुए शव मिले         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में फिर की गोलाबारी, एक जवान शहीद         BIG NEWS : कोरोना वैक्सीन बनाने वाले प्लांट में आग, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट की लैब में भीषण आग लगी         BIG NEWS : शपथ लेते ही एक्शन में आए राष्ट्रपति, जलवायु परिवर्तन समझौते में फिर लेंगे हिस्सा         BIG NEWS : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की टीम में एक और कश्मीरी महिला को मिली जगह, श्रीनगर निवासी समीरा को मिला अहम पद         BIG NEWS : चीन और पाकिस्तान के खतरे से निपटने के लिए भारतीय सेना का आधुनिकीकरण जरूरी – लेफ्टिनेंट जनरल सीपी मोहंती         BIG NEWS : अमेरिका को मिला 46वां राष्ट्रपति, जो बाइडेन और कमला हैरिस ने ली शपथ         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में रेटले पावर प्रोजेक्ट को मिली मंजूरी, युवाओं को मिलेंगे रोजगार के अवसर - उपराज्यपाल मनोज सिन्हा         BIG NEWS : गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी से कश्मीरी हिंदुओं के प्रतिनिधिमंडल ने की मुलाकात, 1990 में हुये नरसंहार की जांच कराने की मांग         BIG NEWS : किसानों से बातचीत में झुकी सरकार, केंद्र डेढ़ साल तक कृषि कानून लागू नहीं करने को तैयार, किसान इस प्रस्ताव का जवाब 22 जनवरी को देंगे         BIG NEWS : अखनूर सेक्टर में सुरक्षाबलों ने आतंकी घुसपैठ की कोशिश को किया नाकाम, 4 जवान घायल         BIG NEWS : त्याग और बलिदान की मिसाल सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह, जिन्होंने खालसा पंथ की रखी नींव         BIG NEWS : अनंतनाग में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बारामूला में कश्मीरी हिंदू कर्मचारियों के लिए 336 आवास बनाने की तैयारी शुरू, 7 सदस्यीय कमेटी का गठन         BIG NEWS : गुपकार गठबंधन में पड़ी फूट, सज्जाद लोन की पार्टी पीपुल्स कॉन्फ्रेंस गठबंधन से हुई अलग         BIG NEWS : चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा के भीतर गांव बसा दिया         BIG NEWS : टीम इंडिया ने रचा इतिहास, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से हराकर 2-1 से जीती सीरीज         BIG NEWS : एक कश्मीरी हिंदू ने 'विस्थापन दिवस' पर बयां किया दर्द, कहा - अपने घर कश्मीर लौटने की उम्मीद जगी है...         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर में गणतंत्र दिवस पर आतंकी हमले की साजिश रच रहे हैं आतंकवादी – डीजीपी दिलबाग सिंह        

ऐ मेरे वतन के लोगों ज़रा याद करो 1000 साल पहले की कहानी...

Bhola Tiwari Nov 04, 2019, 1:15 PM IST टॉप न्यूज़
img


राजीव मित्तल

महमूद ग़ज़नवी के आक्रमण के समय समस्त उत्तर भारत में शिव बड़ा कि विष्णु को लेकर पूरा समाज शैव्य और वैष्णव समुदाय में बंटा हुआ था..

आर्यावर्त के इस माहौल का लाभ उठाने को पहली सदी के शुरू में ही गज़नवी सेना लेकर आ धमका तो उसे रोकने के लिये भारत के उस समय के प्रवेश द्वार हिन्दुकुश के राजपूत राजा जयपाल ने खासी तैयारी की थी.. पिछले चार सौ साल से आपस में ही मर-कट रहे राजपूतों में जयपाल पहला राजा था (सिंध का राजा दाहिर राजपूत नहीं था), जिसका मुकाबला विदेशी फौज से था..

जयपाल की भारी भरकम सेना में तीन सौ हाथी भी थे..लेकिन यही हाथी उसकी हार का कारण बने और उनकी भगदड़ और सुस्त चाल के चलते मामूली घुड़सवार सेना लेकर आये गज़नवी ने आराम से मैदान मार लिया..

1008 में गज़नवी फिर उसी रास्त से भारत में घुसा.. इस बार उसका रास्ता रोके था जयपाल का बेटा आनन्दपाल..पिछली बार के मुकाबले और ज्यादा विशाल सेना के साथ..पहली ही मुठभेड़ में गज़नवी को मुंह की खानी पड़ गयी.आनन्दपाल की फौज की मार से घबरा कर वो अपने घुड़सवारों को काबुल की ओर मोड़ने को ही था कि जिस हाथी पर आनन्दपाल सवार था, तीर लग जाने से वह जंग के मैदान से भाग खड़ा हुआ..

अपने राजा को भागता देख उसकी सेना में आतंक छा गया और फिर ऐसी भगदड़ मची कि गज़नवी की ऊपर अटक गयी सांस नीचे आयी.. अब उसके सामने पूरा हिन्दुस्तान था और हिन्दुस्तान में था सोमनाथ मंदिर, जिसकी लूट से उसने पूरे अफगानिस्तान की दरिद्रता दूर कर दी और भारत पर बार-बार आक्रमण करने को खासी बड़ी सेना बना ली...

तब ग़ज़नवी ने कहा था...--कि इस देश के मंदिरों में भगवान नहीं, बेईमान बैठे हैं और इस देश के बड़े बड़े दुर्गों में राजा नहीं, कायर रहते हैं..

एक हज़ार साल पहले सोमनाथ की लूट के समय इस देश में यही सब हो रहा था, जो 2019 हो रहा है...पूरे एक हजार साल बीत गए, पर हम नहीं सुधरे..आज भी साधू-संतों का बोलबाला है..आज भी यज्ञ और हवन हो रहे हैं, मन्त्र जाप हो रहे हैं, तंत्र साधना चल रही है..घर घर के दरवाज़े पर..कारों के भीतर सामने की ओर नींबू मिर्च की माला झूल रही है..

बताते हैं, महमूद जब गजनी से चला तो गुप्तचरों ने गुजरात के राजा को बता दिया था कि यह आक्रमणकारी देवसोमनाथ को लूटने आ रहा है.. गुजरात के राजा भीम सिंह ने अपने राजपुरोहित और सोमनाथ के पुजारियों से सलाह की कि देवसोमनाथ को कैसे बचाया जाय तो उन सब ने कहा कि पूरे राज्य से घी, दूध और धन इकट्ठा करो, हम यज्ञ, हवन और मृत्युंजय जाप करेंगे, जिससे महमूद यहाँ तक नहीं पहुंचेगा और रास्ते में ही अँधा हो जायेगा..

लेकिन महमूद अंधा नहीं हुआ और राजस्थान के राजपूत राजाओं को रौंदता हुआ गुजरात की सरहद तक पहुँच गया तो गुजरात का कायर राजा लड़ने की बजाय रातोरात गुजरात छोड़कर भाग गया..और जब महमूद देवसोमनाथ पहुंचा तो चंद पण्डे, पुजारियों को देखकर हैरान हो गया कि गजनी से सोमनाथ तक उससे कोई लड़ने तक नहीं आया और वो बिना किसी अवरोध के सैंकड़ो मील की यात्रा कर मन्दिर तक पहुँच गया..

पुजारियों को देखकर उसने पूछा कि ये क्या कर रहे हैं तो भक्तों ने बताया कि ये हवन, यज्ञ और महा मृत्युंजय जाप कर रहे हैं तुम्हें अन्धा करने के लिए..वही विधियाँ आज भी चल रही है, वोही हवन, वोही यज्ञ आज भी उसी रूप में जारी हैं..

सोमनाथ मन्दिर में अथाह धन देखकर महमूद बौरा गया कि एक मंदिर में यह इकट्ठा हुआ तो कैसे..भक्तों ने बताया कि भगवन सोमनाथ के चमत्कार से, जिनकी मूर्ति हवा में लटकी है...

इस चमत्कार को जानने के लिये महमूद ने गदा उठाई और मूर्ति पे दे मारी..मूर्ति टूट कर ज़मीन पर आ गिरी..पता चला की चारों तरफ लगे चुम्बक की वजह से वो मूर्ति हवा में विराजमान थी..

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links