ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 2 से 3 आतंकी घिरे         BIG NEWS : सुशांत सिंह केस का राजदार कौन !         BIG NEWS : फिल्म स्टार संजय दत्त लीलावती हॉस्पिटल में भर्ती          BIG NEWS : दिशा सलियान का निर्वस्त्र शव पोस्टमार्टम के लिए दो दिनों तक करता रहा इंतजार          BIG NEWS : टेरर फंडिंग मॉड्यूल का खुलासा, लश्कर-ए-तैयबा के 6 मददगार गिरफ्तार         BIG NEWS : एलएसी पर सेना और वायु सेना को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश         BIG NEWS : राजस्थान का सियासी जंग : कांग्रेस के बाद अब भाजपा विधायकों की घेराबंदी         BIG NEWS : देवेंद्र सिंह केस ! NIA की टीम ने घाटी में कई जगहों पर की छापेमारी         बाढ़ और संवाद हीनता          BIG NEWS : पटना एसआईटी टीम के साथ मीटिंग कर सबूतों और तथ्यों को खंगाल रही है CBI         BIG NEWS : सुशांत सिंह की मौत के बाद रिया चक्रवर्ती और बांद्रा डीसीपी मे गुफ्तगू         BIG NEWS : भारत और चीन के बीच आज मेजर जनरल स्तर की वार्ता, डिसएंगेजमेंट पर होगी चर्चा         BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार         BIG NEWS : सदियों का संकल्प पूरा हुआ : मोदी         BIG NEWS : लालू प्रसाद यादव को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में किया गया स्विफ्ट         BIG NEWS : अब पाकिस्तान ने नया मैप जारी कर जम्मू कश्मीर, लद्दाख और जूनागढ़ को घोषित किया अपना हिस्सा         हे राम...         BIG NEWS : सुशांत केस CBI को हुआ ट्रांसफर, केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश         BIG NEWS : पीएम मोदी ने अयोध्या में की भूमि पूजन, रखी आधारशिला         BIG NEWS : PM मोदी पहुंचे अयोध्या के द्वार, हनुमानगढ़ी के बाद राम लला की पूजा अर्चना की         BIG NEWS : आदित्य ठाकरे से कंगना रनौत ने पूछे 7 सवाल, कहा- जवाब लेकर आओ         रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक : बेरूत के तट पर खड़े जहाज में ताकतवर ब्लास्ट, 73 की मौत         BIG NEWS : भूमि पूजन को अयोध्या तैयार         रामराज्य बैठे त्रैलोका....         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत से मेरा कोई संबंध नहीं : आदित्य ठाकरे         BIG NEWS : दीपों से जगमगा उठी भगवान राम की नगरी अयोध्या         BIG NEWS : पूर्व मंत्री राजा पीटर और एनोस एक्का को कोरोना, कार्मिक सचिव भी चपेट में         BIG NEWS : अब नियमित दर्शन के लिए खुलेंगे बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर          BIG NEWS : श्रीनगर-बारामूला हाइवे पर मिला IED बम, आतंकी हादसा टला         BIG NEWS : सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह ने किया टॉप, झारखंड के रवि जैन को 9वां रैंक, दीपांकर चौधरी को 42वां रैंक         सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की CBI जांच की सिफारिश         BIG NEWS : आतंकियों ने सेना के एक जवान को किया अगवा          बिहार DGP का बड़ा बयान, विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने के मामले में भेजेंगे प्रोटेस्ट लेटर         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग !         BIG NEWS : दिशा सालियान...सुशांत सिंह राजपूत मौत प्रकरण की अहम कड़ी...         BIG NEWS : पटना पुलिस ने खोजा रिया का ठिकाना, नोटिस भेज कहा- जांच में मदद करिए         BIG NEWS : छद्मवेशी पुलिस के रूप में घटनास्थल पर कुछ लोगों के पहुंचने के संकेत        

पाकिस्तान ने "यूनाइटेड नेशंस" में एकबार फिर कश्मीरियों के "आत्मनिर्णय के अधिकार" का राग अलापा

Bhola Tiwari Nov 02, 2019, 6:40 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन की प्रथम सचिव पाँलोमी त्रिपाठी ने बुधवार को "लोगों के आत्मनिर्णय के अधिकार" पर महासभा की तीसरी समिति की चर्चा में कहा,"यह प्रतिनिधिमंडल क्षेत्रीय फायदे के लिए सिरफिरे कदम उठा रहा है और भारत के अभिन्न हिस्से जम्मू कश्मीर का जिक्र करके इस महत्वपूर्ण एजेंडे को कमजोर करने में भी उसने कोई संकोच नहीं किया।"

भारत की प्रथम सचिव ने कहा,"सच यह है कि जम्मू-कश्मीर का मामला कभी संयुक्त राष्ट्र के लोगों के आत्मनिर्णय के अधिकार के एजेंडे का हिस्सा नहीं रहा।"आत्मनिर्णय के लिए लोगों के अधिकार के सार्वभौमिक बोध पर महासचिव की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ए/74/309 में निहित दस्तावेज क़ सतही तौर पर देखने से यह स्पष्ट होता है कि संयुक्त राष्ट्र के उल्लेख किए गए खुद निर्णय लेने के एजेंडे में जम्मू-कश्मीर शामिल नहीं है।

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की निवर्तमान राजदूत मलीहा लोधी ने महासभा समिति के समक्ष एक बार फीर कश्मीर का राग अलापते हुऐ कहा था कि कश्मीरी खुद निर्णय लेने के अपने अधिकार का इंतजार कर रहे हैं, जिसका सुरक्षा परिषद के 11 प्रस्तावों में वादा किया गया है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंतोनियो गुतरेस ने भारत और पाकिस्तान से कश्मीर मुद्दे को आपस में बातचीत करके सुलझाने की अपील की है।उन्होंने दोनों देशों से मानवाधिकारों को पूरी इज्ज़त दिए जाना सुनिश्चित करने को कहा है।

अब ये प्रश्न उठता है कि क्या वाकई भारत ने कश्मीर मामले में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का उल्लंघन किया है?इसे जानने के लिए हमें अतीत में जाना होगा।ब्रिटिश हुकूमत ने भारत से जाते समय सभी रियासतों को ये अधिकार दे दिया था कि चाहे वो भारत में अपनी रियासत का विलय करें या पाकिस्तान में या स्वत्रंत रियासत के रूप में काम करें।सभी छोटी रियासतों ने जिनकी सरहद भारत या पाकिस्तान से छूतीं थी विलय कर लिया था मगर दो बडी रियासतें जम्मू कश्मीर और हैदराबाद ने स्वत्रंत रहने का फैसला लिया।

जम्मू कश्मीर में राजा हरिसिंह का शासन था,1947 में पाकिस्तान के कबाइलियों ने जम्मू कश्मीर पर आक्रमण कर दिया।जब वे हरिसिंह के नजदीक पहुँचने वाले थे तब महाराज ने भारत सरकार से मदद मांगी।सरदार पटेल ने महाराज हरिसिंह को स्पष्ट कह दिया था कि मदद उन्हें उस शर्त पर दी जाएगी जब वे रियासत का विलय भारत में करने को तैयार हो जाएं।महाराज हरिसिंह ने विलय के दस्तावेज पर हस्ताक्षर कर दिये फिर भारतीय फौजों ने पाकिस्तानी कबाइलियों को बाहर खदेड दिया मगर फिर भी उनके कब्जे में एक तिहाई जमीन रह हीं गया।वही पाक अधिकृत कश्मीर कहलाता है।

युद्ध जीतकर भी भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद गया और वहां पाकिस्तान की शिकायत की।भारत जीतकर भी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद क्यों गया, इसकी सटीक जानकारी कहीं नहीं मिलती है।खैर 1948 में संयुक्त राष्ट्र की तरफ से कश्मीर मुद्दे पर पहला प्रस्ताव आया।संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की सूची में यह था प्रस्ताव नं 38।इसके बाद इसी साल प्रस्ताव 39,47 और 51 के रूप में तीन प्रस्ताव और आए।

प्रस्ताव 38 में ये कहा गया था कि दोनों पक्ष हालात को और न बिगडऩे दें।सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष दोनों पक्षों को बुलाएंगे और उनकी राय लेंगे।

प्रस्ताव 39 में कहा गया कि सुरक्षा परिषद ने तीन सदस्यीय आयोग बनाने का फैसला किया है, जिसमें दोनों देशों के एक एक सदस्य होंगे और एक सदस्य दोनों चुने हुए सदस्यों की ओर से नामित होंगे।ये आयोग मौके पर पहुँचकर तथ्यों की जाँच करेगा।

21 अप्रैल 1948 को प्रस्ताव संख्या 47 में जनमतसंग्रह पर सहमति बनीं।प्रस्ताव में कहा गया कि भारत और पाकिस्तान दोनों जम्मू कश्मीर पर नियंत्रण का मुद्दा जनमत संग्रह और निष्पक्ष लोकत्रांतिक तरीके से तय होना चाहिए।इसके लिए एक शर्त तय की गई थी कि कश्मीर में लडने के लिए जो पाकिस्तानी नागरिक या कबायली लोग आए थे,वे वापस चलें जाएं।


1950 के आसपास भारत को ये एहसास हुआ कि जनमतसंग्रह से जम्मू कश्मीर भारत के हाथ से निकल सकता है तब भारत ने संयुक्त राष्ट्र में ये दलील दी कि तयशुदा समय पर पाकिस्तानी फौज कश्मीर से हटीं नहीं हैं इस वजह से हम जनमतसंग्रह की मांग को नकारते हैं।

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की निवर्तमान राजदूत मलीहा लोधी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 47 का हीं जिक्र किया है,जो सही है।

कश्मीरियों के लिए पाकिस्तान हमेशा जनमतसंग्रह की मांग करता रहा है और आगे भी करेगा,क्योंकि वो जानता है कि जिस दिन कश्मीर में जनमतसंग्रह हो जाएगा।कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा बन जाएगा।आज भी वहां के लोगों के जेहन में भारत के लिए बारूद भरी पडी है।सच बेहद कडवी है मगर ये सौ फीसदी सत्य है कि कश्मीर के लोग धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से पाकिस्तान के बेहद करीब हैं और वे उन्हीं के साथ जाना चाहते हैं।

युद्ध जीतकर भारत को संयुक्त राष्ट्र में नहीं जाना चाहिए था, वो कौन सी परिस्थिति थी जिसकी वजह से भारत सरकार यूएन गई, शायद हीं इसका खुलासा अब हो पाएगा मगर पूर्वजों की एक गलती से जम्मू कश्मीर विवादित क्षेत्र बन गया, ये तो स्वीकार करना हीं होगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links