ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में         बाबूलाल जी की जी हजूरी, ये कैसी भाजपाइयों की मजबूरी         भाजपा में विलय की ओर बढ़ रहा झाविमो : प्रदीप यादव        

इमरान खान इस्तीफा दो, वरना पीएम हाउस में घुसकर गिरफ्तार कर लेंगे : मौलाना फजलुर्रहमान

Bhola Tiwari Nov 02, 2019, 3:32 PM IST टॉप न्यूज़
img

● हालात और बिगड़े तो आर्मी मौके का फायदा उठाकर लगा सकती है मार्शल लॉ 

श्रीनगर : पाकिस्तान में आंतरिक राजनीतिक हालात गृह युद्ध स्तर जैसे हो चले हैं। इस्लामाबाद में जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (फजल) के लाखों कारकून इमरान खान के इस्तीफे को लेकर धरने पर बैठे हैं। जिसमें पहले दिन पाकिस्तान की अन्य विपक्षी पार्टियों पीपीपी, पीएमएल-एन ने भी शिरकत की। शाम को मौलाना फजलुर्रहमान ने इमरान खान पर चुनावों में धांधली का आरोप लगाते हुए इस्तीफे की मांग दोहराई, मौलाना ने चेतावनी देते हुए कहा कि वो इमरान खान को 2 दिन का वक्त देते हैं। इस्तीफा दे दें, वरना धरने में शामिल कारकून पीएम हाउस में घुसकर उनको गिरफ्तार कर लेंगे और खुद कुर्सी से उतार देंगे।

 मौलाना फजलुर्रहमान ने पाकिस्तानी आर्मी पर भी जमकर निशाना साधा। उन्हें पाकिस्तानी आर्मी को राजनीति से दूर रहने की सलाह दी। मौलाना की इस धमकी के बाद इमरान खान सरकार और आर्मी में हलचल मच गयी। इमरान खान के मंत्रियों ने धरने के खिलाफ सख्ती बरतने की धमकी भरे संदेश जारी करने शुरू कर दिये हैं। 


आर्मी के प्रचार विंग आईएसपीआर ने बयान जारी कर मौलाना से कहा कि वो मुल्क में किसी तरह के हालात करने की इजाजत नहीं देंगे। मौलाना ने Establishment पर इमरान खान के लिए चुनाव में धांधली कराने के आरोप लगाये थे। इस पर आर्मी ने पूछा है कि मौलाना बताये कि Establishment से उनका क्या मतलब है कि आर्मी या चुनाव आयोग।

इमरान सरकार और आर्मी की तरफ से बयान के बाद मौलाना फजलुर्रहमान ने जवाब दिया है वो इमरान खान का इस्तीफा लिये बगैर पीछे नहीं हटने वाले। मौलाना ने आर्मी को फिर से स्पष्ट चेतावनी दी है कि वो राजनीति से दूर रहें। राजनीति उनका काम नहीं है, वो डेमोक्रेसी में दखल न दें।

 जाहिर है मौलाना फजलुर्रहमान किसी तरह से पीछे हटने को तैयार नहीं है। लिहाजा बनी गाला (इमरान खान के घर) में माहौल बेहद संजीदा बना हुआ है। क्योंकि मौलाना के धरने को खत्म करने की उनकी तमाम चाल नाकामयाब रही हैं। आर्मी के कई बड़े अधिकारी भी मौलाना के धरने का गुपचुप तरीके से समर्थन कर रहे हैं और कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं।

 ऐसे में जानकार मान रहे हैं कि अगर हालात और बिगड़े तो आर्मी मौके का फायदा उठाकर मार्शल लॉ भी लगा सकती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links