ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 2 से 3 आतंकी घिरे         BIG NEWS : सुशांत सिंह केस का राजदार कौन !         BIG NEWS : फिल्म स्टार संजय दत्त लीलावती हॉस्पिटल में भर्ती          BIG NEWS : दिशा सलियान का निर्वस्त्र शव पोस्टमार्टम के लिए दो दिनों तक करता रहा इंतजार          BIG NEWS : टेरर फंडिंग मॉड्यूल का खुलासा, लश्कर-ए-तैयबा के 6 मददगार गिरफ्तार         BIG NEWS : एलएसी पर सेना और वायु सेना को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश         BIG NEWS : राजस्थान का सियासी जंग : कांग्रेस के बाद अब भाजपा विधायकों की घेराबंदी         BIG NEWS : देवेंद्र सिंह केस ! NIA की टीम ने घाटी में कई जगहों पर की छापेमारी         बाढ़ और संवाद हीनता          BIG NEWS : पटना एसआईटी टीम के साथ मीटिंग कर सबूतों और तथ्यों को खंगाल रही है CBI         BIG NEWS : सुशांत सिंह की मौत के बाद रिया चक्रवर्ती और बांद्रा डीसीपी मे गुफ्तगू         BIG NEWS : भारत और चीन के बीच आज मेजर जनरल स्तर की वार्ता, डिसएंगेजमेंट पर होगी चर्चा         BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार         BIG NEWS : सदियों का संकल्प पूरा हुआ : मोदी         BIG NEWS : लालू प्रसाद यादव को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में किया गया स्विफ्ट         BIG NEWS : अब पाकिस्तान ने नया मैप जारी कर जम्मू कश्मीर, लद्दाख और जूनागढ़ को घोषित किया अपना हिस्सा         हे राम...         BIG NEWS : सुशांत केस CBI को हुआ ट्रांसफर, केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश         BIG NEWS : पीएम मोदी ने अयोध्या में की भूमि पूजन, रखी आधारशिला         BIG NEWS : PM मोदी पहुंचे अयोध्या के द्वार, हनुमानगढ़ी के बाद राम लला की पूजा अर्चना की         BIG NEWS : आदित्य ठाकरे से कंगना रनौत ने पूछे 7 सवाल, कहा- जवाब लेकर आओ         रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक : बेरूत के तट पर खड़े जहाज में ताकतवर ब्लास्ट, 73 की मौत         BIG NEWS : भूमि पूजन को अयोध्या तैयार         रामराज्य बैठे त्रैलोका....         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत से मेरा कोई संबंध नहीं : आदित्य ठाकरे         BIG NEWS : दीपों से जगमगा उठी भगवान राम की नगरी अयोध्या         BIG NEWS : पूर्व मंत्री राजा पीटर और एनोस एक्का को कोरोना, कार्मिक सचिव भी चपेट में         BIG NEWS : अब नियमित दर्शन के लिए खुलेंगे बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर          BIG NEWS : श्रीनगर-बारामूला हाइवे पर मिला IED बम, आतंकी हादसा टला         BIG NEWS : सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह ने किया टॉप, झारखंड के रवि जैन को 9वां रैंक, दीपांकर चौधरी को 42वां रैंक         सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की CBI जांच की सिफारिश         BIG NEWS : आतंकियों ने सेना के एक जवान को किया अगवा          बिहार DGP का बड़ा बयान, विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने के मामले में भेजेंगे प्रोटेस्ट लेटर         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग !         BIG NEWS : दिशा सालियान...सुशांत सिंह राजपूत मौत प्रकरण की अहम कड़ी...         BIG NEWS : पटना पुलिस ने खोजा रिया का ठिकाना, नोटिस भेज कहा- जांच में मदद करिए         BIG NEWS : छद्मवेशी पुलिस के रूप में घटनास्थल पर कुछ लोगों के पहुंचने के संकेत        

सूर्य के प्रति आभार अर्पित करने का पर्व है छठ

Bhola Tiwari Nov 02, 2019, 2:46 PM IST टॉप न्यूज़
img

हिमकर श्याम 
महापर्व छठ में भगवान भास्कर की पूजा की जाती है, जो पूरी सृष्टि के जीवनदाता हैं. सूर्य अपनी रश्मियों का विभाजन नहीं करता. सूर्य की दृष्टि में सब एक हैं. सूर्य वर्गों, जातियों व समुदायों के भेद को एक झटके में मिटा देता है. प्राणदायिनी ऊर्जा एवं प्रकाश का एक मात्र स्रोत होने से सूर्य का देवों में सर्वोपरि स्थान है. सूर्य हमारे भीतर और बाहर के अंधकार को दूर करता है. सूर्य हमें रोशनी और गर्मी देता है जिससे यह धरती रहने के लिए एक सुखद और रोशन जगह बनती हैं. छठ पर्व है प्रकाश देनेवाले इस प्रत्यक्ष देव के प्रति आभार अर्पित करने का.
सूर्य परमात्मा का सर्वश्रेष्ठ प्रतीक है. सूर्य देवता का लगभग दस सूक्तों में आह्वान किया गया है. सौर देवताओं में यह साकार देवता हैं क्योंकि यह सूर्यमंडल और सूर्य देवता का द्योतित करता है. देवता का श्रेष्ठ दृष्टिगोचर रूप सूर्य देवता है. सूर्य दूरदर्शी, सर्वदर्शी, सब जीवों को देखनेवाला तथा मानव मात्र के कुकर्मों और सुकर्मों का साक्षी है. वह मानव को कार्य करने के लिए उत्तेजित करता है. 
ऊषा सूर्य की प्रेमिका है, पत्नी है. सूर्य उसके पीछे एक प्रेमी की भांति घूमता है. छठ में सूर्य का आह्वान करते हुए कहा जाता हैं कि हे सूर्य, आज उदय होने पर हमें कठिनाइयों से मुक्त करो, पाप से मुक्त करो, व्याधियों से मुक्त करो. 
सूर्य उपासना सनातन काल से प्रचलित रही है. वेदों में ओजस्, तेजस् एवं ब्रह्मवर्चस् की प्राप्ति के लिए सूर्य की उपासना करने का विधान है. यजुर्वेद में कहा गया है कि सूर्य की, सविता की आराधना इसलिए भी की जानी चाहिए कि वह मानव मात्र के शुभ व अशुभ कर्मों के साक्षी हैं. उनसे हमारा कोई भी कार्य- व्यवहार छिपा नहीं रह सकता. ऋग्वेद में सूर्योपासना के अनेकानेक प्रसंग हैं, जिनमें सूर्य से पाप- मुक्ति, रोग- नाश, दीर्घायुष्य, सुख- प्राप्ति, शत्रु- नाश, दरिद्रता- निवारण आदि के लिए प्रार्थना की गयी है. शास्त्रों की मानें तो सूर्य को अर्घ्य देने से व्यक्ति के इस जन्म के साथ किसी भी जन्म में किए गए पाप नष्ट हो जाते है. 
सूर्य और इसकी उपासना की चर्चा विष्णु पुराण, भगवत पुराण, ब्रह्मा वैवर्त पुराण आदि में विस्तार से की गयी है. उत्तर वैदिक काल के अन्तिम कालखण्ड में सूर्य के मानवीय रूप की कल्पना होने लगी. पौराणिक काल आते-आते सूर्य पूजा का प्रचलन और अधिक हो गया. अनेक स्थानों पर सूर्यदेव के मंदिर भी बनाये गये. छठ पूजा का प्राचीन काल से ही विशेष महत्व रहा है. मध्य काल तक छठ सूर्योपासना के व्यवस्थित पर्व के रूप में प्रतिष्ठित हो गया, जो अभी तक चला आ रहा है. 
विष्णु सौर ( सूर्यात्मक) देवता है. द्वादश आदित्यों में एक हैं विष्णु. त्रेता युग में विष्णु का प्रतिनिधि अवतार हुआ है रामावतार. बाल्मीकि रामायण का मूल स्वरूप सूर्यात्मक है. यह अपने मूलरूप में एक सूर्य गाथा है. इस महाकाव्य के भीतर निहित सूर्य-प्रतीकों और सूर्योपासना के तत्वों का विवेचन-विश्लेषण किया गया है. छठ व्रत के सम्बन्ध में अनेक कथाएँ प्रचलित हैं. एक मान्यता के अनुसार लंका विजय के बाद रामराज्य की स्थापना के दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को भगवान राम और माता सीता ने उपवास किया और सूर्यदेव की आराधना की. सप्तमी को सूर्योदय के समय पुनः अनुष्ठान कर सूर्यदेव से आशीर्वाद प्राप्त किया था.
एक अन्य मान्यता है कि छठ पर्व का आरंभ महाभारत काल में कुंती ने किया था. कुंती जब कुंवारी थीं तब उन्होंने ऋषि दुर्वासा के वरदान का सत्य जानने के लिए सूर्य का आह्वान किया. सूर्य की आराधना से ही कुंती को कर्ण जैसा पराक्रमी और दानवीर पुत्र की प्राप्ति हुई थी. कर्ण भी सूर्य देव का उपासक था. वह प्रतिदिन घण्टों पानी में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देता था. सूर्य की कृपा से ही महान योद्धा बना था. महाभारत की ही एक अन्य कथा के अनुसार जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गए, तब द्रौपदी ने छठ व्रत रखा. उसकी मनोकामनाएं पूरी हुईं तथा पांडवों को राजपाट वापस मिल गया. 
छठ सूर्योपासना का महापर्व है. इस पूजा में लोग चार दिनों तक सूर्य देवता की भक्ति में लीन हो जाते है. नहाए खाए से पर्व की शुरुआत होती है, जिसमें व्रती स्नान कर शुद्ध होते हैं. चार दिनों का कठिन तप करके लोग भगवान सूर्य से अपने सारे दुखों का अंत करने की विनती करते हैं. छठ में उगते हुए सूर्य के साथ ही डूबते हुए सूर्य को भी अर्घ्य देने की परंपरा है. यह दुनिया का इकलौता प्रमाण है जिसमें डूबते सूर्य का भी नमन किया जाता है. डूबते सूर्य की आराधना दार्शनिक दृष्टिकोण लिए हुए है जो यह कहता है कि डूबते सूर्य से अपने कुटुम्बियों की तरह व्यवहार करो और उनसे विदाई लेते समय भी उनका अभिवादन करो क्योंकि वह पुनः शीघ्र आने हेतु विदा हो रहे हैं. रात भर विश्राम करके पुनः सुबह नवीनता लिए आएंगे और सारी मनोकामनाएँ पूर्ण करेंगे. सुबह उनके पुनः आगमन पर उनका अभिनन्दन करना. पौराणिक महत्व के अनुसार उगते और डूबते सूर्य के साथ सूर्य की दो पत्नियाँ उषा और प्रत्युषा की अराधना की जाती है. दूसरा दर्शन यह बतलाता है कि अवसान-उदय, जीवन-मृत्यु, इस धरती के समस्त जीवों में और इस ब्रम्हाण्ड के सभी निर्जीवों में भी घटित होते हैं. 
सूर्य षष्ठी व्रत होने के कारण इसे छठ कहा गया है. लोक मातृका षष्ठी की पहली पूजा सूर्य ने ही की थी. छठ पर्व को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो षष्ठी तिथि को एक विशेष खगोलीय परिवर्तन होता है, इस समय सूर्य की पराबैगनी किरणें पृथ्वी की सतह पर सामान्य से अधिक मात्रा में एकत्र हो जाती हैं. छठ पूजा के दौरान होनेवाले अनुष्ठानों में इसके सम्भावित कुप्रभावों से मानव की यथासम्भव रक्षा करने का सामर्थ्य होता है. छठ मनुष्य और प्रकृति के संबंधों पर आधारित पर्व भी है. छठ में सारी सामग्री जैसे फल, बाँस से बने सूप और दऊरा, गाय का दूध, मिट्टी का दीप, कद्दू या अरवा चावल प्रकृति प्रद्दत हैं. प्रकृति के निकट हैं. आधुनिक युग में इस पर्व ने ग्राम्य जीवन और लोक परंपराओं को जीवित रखने में योगदान दिया है. छठ प्रकृति के प्रति कृतज्ञता दिखाने का जरिया भी है. छठ माध्यम है नदियों, तालाबों और जलाशयों की महत्ता समझने, समझाने और पर्यावरण सुरक्षा में योगदान देने का.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links