ब्रेकिंग न्यूज़
हे राम...         BIG NEWS : सुशांत केस CBI को हुआ ट्रांसफर, केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश         BIG NEWS : पीएम मोदी ने अयोध्या में की भूमि पूजन, रखी आधारशिला         BIG NEWS : PM मोदी पहुंचे अयोध्या के द्वार, हनुमानगढ़ी के बाद राम लला की पूजा अर्चना की         BIG NEWS : आदित्य ठाकरे से कंगना रनौत ने पूछे 7 सवाल, कहा- जवाब लेकर आओ         रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक : बेरूत के तट पर खड़े जहाज में ताकतवर ब्लास्ट, 73 की मौत         BIG NEWS : भूमि पूजन को अयोध्या तैयार         रामराज्य बैठे त्रैलोका....         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत से मेरा कोई संबंध नहीं : आदित्य ठाकरे         BIG NEWS : दीपों से जगमगा उठी भगवान राम की नगरी अयोध्या         BIG NEWS : पूर्व मंत्री राजा पीटर और एनोस एक्का को कोरोना, कार्मिक सचिव भी चपेट में         BIG NEWS : अब नियमित दर्शन के लिए खुलेंगे बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर          BIG NEWS : श्रीनगर-बारामूला हाइवे पर मिला IED बम, आतंकी हादसा टला         BIG NEWS : सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह ने किया टॉप, झारखंड के रवि जैन को 9वां रैंक, दीपांकर चौधरी को 42वां रैंक         सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की CBI जांच की सिफारिश         BIG NEWS : आतंकियों ने सेना के एक जवान को किया अगवा          बिहार DGP का बड़ा बयान, विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने के मामले में भेजेंगे प्रोटेस्ट लेटर         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग !         BIG NEWS : दिशा सालियान...सुशांत सिंह राजपूत मौत प्रकरण की अहम कड़ी...         BIG NEWS : पटना पुलिस ने खोजा रिया का ठिकाना, नोटिस भेज कहा- जांच में मदद करिए         BIG NEWS : छद्मवेशी पुलिस के रूप में घटनास्थल पर कुछ लोगों के पहुंचने के संकेत         लिव-इन माने ट्राउबल बिगिन... .          रक्षाबंधन : इस अशुभ पहर में भाई को ना बांधें राखी, ज्योतिषी की चेतावनी         जब मां गंगा को अपनी जटाओं में शिव ने कैद कर लिया...         आज सावन का आखिरी सोमवार, अद्भुत योग, भगवान शिव की पूजा करने से हर मनोकामना होगी पूरी          अन्नकूट मेले को लेकर सजा केदारनाथ, भगवान भोले को चढ़ाया गया नया अनाज         BIG NEWS :  गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने सुशांत सिंह के बैंक अकाउंट से 90 दिनों में 3.24 करोड़ रुपए निकाले         GOOD NEWS : अमिताभ की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, 22 दिन बाद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज         केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव          BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत के मित्र सिद्धार्थ पीठानी को पटना पुलिस सम्मन जारी कर करेगी पूछताछ         BIG NEWS : सुशांत केस के मामले में मुंबई पुलिस नहीं कर रही है सहयोग : डीजीपी         भूमि पूजन से पहले दिवाली सी जगमग हुई रामलला की नगरी अयोध्या         भगवान शंकर ने त्रिशूल और डमरु क्यों धारण किया...         इन पांच चीजों से शिव हो जाते हैं क्रोधित, जानिए क्या है राज         BIG NEWS : सुशांत सिंह की मैनेजर नहीं थी दिशा सल्यान, सूरज पंचोली से कनेक्शन !         BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती पुलिस की निगरानी में          BIG NEWS : हजारीबाग में सांप्रदायिक हिंसा, आगजनी-तोड़फोड; थाना प्रभारी घायल         BIG NEWS : राज्यसभा सांसद अमर सिंह का 64 साल की उम्र में निधन, सिंगापुर के अस्पताल में ली आखिरी सांस         BIG NEWS : सुशांत सिंह केस में सुब्रमण्यम स्वामी की एंट्री से बॉलीवुड में खलबली         रिया चक्रवर्ती को नहीं जानता : सिद्धार्थ पीठानी         रिम्स डायरेक्टर के बंगले में शिफ्ट होंगे लालू प्रसाद यादव         इसका हल शीघ्र निकल आएगा हर साल सुना जा सकता है...         BIG NEWS : सीएम आवास का ड्राइवर-कर्मचारी कोरोना संक्रमित          अजन्में भगवान शिव के जन्म का रहस्य         देवता और असुर दोनों के प्रिय शिव         BIG NEWS : पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेता सज्जाद लोन रिहा          BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती के घर से आनंदिनी बैग में भरकर क्या ले गई...         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत आत्महत्या नहीं : सुब्रमण्यम स्वामी          बिहार चुनाव : पैरोल पर आकर लालू संभालेंगे विपक्ष की कमान !         कोविड से मात खाते भूपेश...         BIG NEWS : फिट इंडिया मूवमेंट, नाम तो नहीं ही सुना होगा !         

"कामराज प्लान" सफल था या असफल ? एक समीक्षा

Bhola Tiwari Nov 02, 2019, 9:00 AM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

1962 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की जीत तो बेशक हुई थी मगर जवाहरलाल नेहरू के मन में कुछ खटक रहा था।उन्हें लगता था कि कुछ और बेहतर किया जा सकता था।पंडित जी को कांग्रेस कार्यकर्ताओं से ये भी शिकायत मिल रही थी कि सत्ता के मद में चूर नेताओं ने गाँवों-कस्बों में जाना बेहद कम कर दिया है।लगातार सत्तारूढ़ रहने का ये स्वाभाविक दुष्परिणाम था।कांग्रेस की बैठक में जवाहरलाल ने ये मुद्दा उठाया था कि कैसे गाँवों और कस्बों में रहनेवाले गरीबों तक पार्टी की पहुंच बने।यद्यपि कांग्रेस ने 1962 के आम चुनाव में 488 सीटों में से 361 सीटों पर विजय हासिल की थी।नेहरू दूरदृष्टा थे और उन्होंने समझ लिया था कि यही हाल रहा तो कांग्रेस पार्टी आम जनमानस से दूर हो जाएगी।

1962 में हीं चीन ने भारत पर आक्रमण कर दिया था, देश युद्ध के लिए तैयार नहीं था,खासकर जवाहरलाल नेहरू।उन्हें अंत तक ये उम्मीद थी कि चीन बार्डर से वापस लौट जाएगा मगर हुआ ऐसा नहीं।1962 के युद्ध में भारत की बुरी तरह हार हुई और चीन ने भारत के बडे भूभाग को अपने कब्जे में ले लिया।कांग्रेस के भीतर और बाहर नेहरू के विदेश नीति पर सवाल उठने लगें थे।जनता ने खूलकर सवाल पूछने शुरू कर दिये थे।नेहरू बैकफुट पर थे और सरकार के वित्तमंत्री मोरारजी देसाई ने जनता पर विभिन्न कर लगा दिये थे जिससे जनता में रोष था।जनता ने अपना रोष 1964 में हुऐ तीन लोकसभा उपचुनाव में दिखाया और तीनों सीट कांग्रेस हार गई।

संकट की इस घडी में के.कामराज ने नेहरू को एक प्लान सुझाया जिसपर नेहरू समेत सभी वरिष्ठ नेता सहमत थे,वही प्लान आगे चलकर "कामराज प्लान" कहलाया।इस फार्मूले के अनुसार कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को सरकार में अपने पद छोड़कर पार्टी के लिए काम करना चाहिए।इस प्लान को कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने मंजूरी दे दी और दो महीने के अंदर यह लागू हो गया।इस प्लान के जनक के.कामराज ने स्वंय 02 अक्टूबर,1963 को मद्रास के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।उसके बाद वरिष्ठ नेता बीजू पटनायक और एस.के.पाटिल समेत छह मुख्यमंत्रियों ने भी इस्तीफा दे दिया।केन्द्रीय मंत्री मोरारजी देसाई, लालबहादुर शास्त्री और जगजीवन राम समेत छह वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों ने अपने पद छोडकर संगठन में काम करना शुरू कर दिया।

के.कामराज जमीन से जुडे नेता थे और उन्होंने अपने मुख्यमंत्री काल में तमिल शिक्षा के ऊपर बहुत काम किये थे।वे नाडार जाति के थे और ये जाती तमिलनाडु में बेहद गरीब और पिछडा माना जाता था।वे तमिलनाडु के तीन बार मुख्यमंत्री बने और 1963 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने जो उन दिनों प्रधानमंत्री के बराबर का पद माना जाता था।उनके बारे में कहा जाता था कि वे आगे के हालत बेहतर ढंग से समझ लेते थे।कामराज प्लान लाना उनकी दूरदर्शी सोच हीं थी।यद्यपि 1967 के चुनाव में कांग्रेस को अपेक्षाकृत सफलता नहीं मिली।कांग्रेस ने 1967 के चुनाव में 516 सीटों में केवल 283 सीटें हीं जीत पाई मगर कांग्रेस ने काफी हद तक आमजनमानस का गुस्सा थामने में कामयाब रही।जीत हार के बहुत से फैक्टर होते हैं, इंदिरा गांधी को सिंडिकेट से पूरा सहयोग नहीं मिल रहा था।आपसी खींचातानी के बीच इतनी भी सफलता बहुत थी।कामराज प्लान को उस समय वक्त की जरूरत के हिसाब से देखा गया था जो सही भी था।

इंदिरा गांधी पर ये भी आरोप लगे कि नेहरू के आखिरी दिनों में राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को ठिकाने लगाने के लिए इंदिरा ने हीं इस प्लान को अंजाम दिया था।हलांकि इंदिरा गांधी ने इन आरोपों का कई बार खंडन भी किया था।मैं नहीं समझता के.कामराज जैसे बोल्ड और वरिष्ठ नेता से इंदिरा गांधी जैसी जुनियर नेता कुछ ऐसा काम करा सकतीं थीं।के.कामराज का कद नेहरू के आसपास का था और वे बेहद गंभीर और संजीदगी से राजनीति करते थे।सिंडिकेट की नींव कामराज और मोरारजी देसाई ने रखी थी जो आगे चलकर इंदिरा गांधी के गले की फांस बन गई थी।

के.कामराज के योगदान को देखते हुए सरकार ने 1976 में मरणोपरांत "भारतरत्न" से नवाजा था।

जहाँ तक मैंने अध्यन्न किया है मैं कामराज प्लान को सफल मानता हूँ।अगर वरिष्ठ नेता पद इस्तीफा देकर संगठन में काम नहीं करते, जनता के बीच नहीं रहते तो पराजय भयावह होती ये तो तय था।कांग्रेस के पुनर्निर्माण में "कामराज प्लान" मील का पत्थर साबित हुआ था।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links