ब्रेकिंग न्यूज़
मशहूर न्यूरो फिजीशियन डॉ के . के. सिन्हा नहीं रहे          सरकारी अनुदान से लड़े जाएं चुनाव?          राम का हथियार के सहारे चुनाव जीतने वाले सुन ले भगवान राम का हथियार हमारे पास है : जगरनाथ महतो          "नक्सलियों" ने उड़ा दिया "भाजपा" कार्यालय दिन में बैठक,रात में घटना          नाजायज़ संबंधों की वजह से हुई थी "रोहित शेखर" की हत्या         नीतीश के बोल- घर के मर्द आपके हिसाब से वोट देकर आए तो ही खाना खिलाइए          योगी और भागवत को बम से उड़ाने की धमकी          घूस लेते रंगे हाथ ACB  के हत्थे चढ़ा  एएसआई           जे एम एम सुप्रीमो  शिबू सोरेन  उबले कहा :             केंद्र, राज्य से बीजेपी की सरकार को उखाड़ फेकेंगे          पावर सब स्टेशन में बदले गए 33 हजार केवी के स्विच        घन्टों बाधित रही विद्युत आपूर्ति          पीएम ने  विपक्ष को ललकारा   कहा  :  तीन चरण के चुनाव के बाद विरोधियों ने अपनी पराजय स्वीकार कर ली है.  फिर एक बार मोदी सरकार.         क्यों रहे.. ?   सत्ता से  बाहर निवर्तमान सांसद                   हाल - ए  राजमहल लोकसभा         48 घंटे बाद बरामद हुआ आउटसोर्सिंग में डूबे युवक का शव*         बीजेपी में शामिल होते ही सिने स्टार सनी देओल  बोले....           झारखंड में प्रधानमंत्री का रांची में रोड शो          मोदी जी आप फिर से प्रधानमंत्री बनें - मुलायम सिंह यादव         सिसई में अपराधी संगठन इण्डियन आर्मी टाइगर का अपराधी गिरफ्तार         हाईटेंशन तार के चपेट में आने से बच्ची की मौत         ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक  राजमहल लोकसभा सीट से प्रत्याशी उतारा          बज्रपात से दो बच्ची की मौत एक महिला घ्याल।         श्रीलंका में सीरियल बम धमाका अब तक 162 लोगों की मौत नई         राजमहल के कौशल विकास केंद्र की हुई जांच          शासन का देखो हाल, राजधानी में लोग बेहाल         पीठासीन पदाधिकारियों का प्रशिक्षण संपन्न          देवघर पुलिस ने बनायी भू माफियाओ की सूची, मची खलबली         नगर परिषद के नोटिस के बाद भी वन विभाग के पेड़ जलने से नही बच रहे          घाटी पर अनियंत्रित हाईवा पलटा         संस्था बिहान कराएगा डांस कंपटीशन          कांग्रेस प्रत्याशी कीर्ति आजाद ने भरा नामांकन पर्चा, कांग्रेस और महागठबंधन के बड़े नेता रहें नदारद         क्यों बागी हुए जेएमएम विधायक ? कहने लगे मोदी मोदी मोदी...          योगी बोले,  जिस ने बाबा साहब का अपमान किया उसके लिए वोट मांग रही है मायावती          कांग्रेस को बड़ा झटका !  कांग्रेस को छोड़ शिवसेना में शामिल हो गई प्रियंका।          इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कांग्रेस पार्टी को भेजा नोटिस, कांग्रेस पर छाया पाबंदी का खतरा          इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कांग्रेस पार्टी को भेजा नोटिस, कांग्रेस पर छाया पाबंदी का खतरा          दलित, आदिवासी को नुमाइंदगी मुस्लिम महरूम क्यों          लश्कर ने दी रुड़की हरिद्वार समेत कई स्टेशनों को उड़ाने की धमकी, हाई अलर्ट         लालू प्रसाद की बढ़ सकती है मुश्किलें , जेडीयू ने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखा. लालू यादव पर उठाए सवाल          पाकिस्तान को झटका, आईएमएफ से वार्ता करने वाले वित्त मंत्री असद उमर ने दिया इस्तीफा          लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण का मतदान आज: 12 राज्यों के 95 सीटों पर वोटिंग शुरु         बीजेपी के नए उम्मीदवारों की सूची जारी, भोपाल से साध्वी प्रज्ञा लड़ेंगी चुनाव         प्रियंका  ने कांग्रेस पर ही साधा निशाना, बोली - कांग्रेस में मिल रही है गुंडों को तरजीह         विवादित बोल पर नवजोत सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज           चाय की दुकान पर फायरिंग दो की मौत          मोहन भागवत बोले- हर 5 साल में बदल सकती है सरकार         लखनऊ में राजनाथ सिंह को टक्कर देंगी शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी!         पास करने को "चुनावी परीक्षा",पुलिस कर रही तैयारी की "समीक्षा"जमी है नज़र,है पूरा ध्यान,शांतिपूर्ण होगा मतदान:डीआईजी         ओरमांझी के नजदीक मधुबन होटल में एसडीओ गरिमा सिंह द्वारा छापेमारी।         धनबाद : 16 अप्रैल से शुरू होगी नामांकन प्रक्रिया, कीर्ति आजाद 20, पीएन सिंह व सिद्धार्थ गौतम 22 को करेंगे नामांकन जिला प्रशासन तैयार, एसडीओ राज माहेश्वरम ने किया निरीक्षण         रामटहल के बेटे रणधीर चौधरी ने भी छोड़ा बीजेपी का साथ, जिलाध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा         विकास और राष्ट्रवाद के मुद्दे पर भाजपा चुनाव लड़ रही है भाजपा          मतदाता जागरूकता।         जब हुए साथ,तो ये क्या बोल गए "विष्णु" और "गिरिनाथ"इसे कहते हैं वक्त का तक़ाज़ा         कोडरमा लोकसभा से महागठबंधन उम्मीदवार बाबूलाल मरांडी ने भरा पर्चा,  सभी घटक दल के नेता शामिल          झारखंड के पूर्व मंत्री योगेंद्र साव ने रांची सिविल कोर्ट में किया सरेंडर, भेजे गए जेल           *गिरिडीह में शहीद हुए जवान का रांची में श्रद्धांजलि*         वर्ल्ड कप 2019 के लिए टीम इंडिया घोषित- कार्तिक, राहुल को मौका          गोपाल साहू होंगे हजारीबाग से कांग्रेस के प्रत्याशी          सड़क दुर्घटना में दो युवकों की मौत         मुठभेड़ में तीन नक्सली ढेर, 1 जवान शहीद         केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत का विवादित बयान - सत्ता बदलने दो , उल्टा लटका दूंगा            सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को जारी किया नोटिस , 22 तक जवाब देना होगा          गुमला थाना के *एसआई अनिल सिंह मुंडा* ने थाना परिसर में ही आत्महत्या कर अपनी ईहलीला का किया अंत।          अब क्या कर रही है मशहूर नीरा राडिया         दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर की जमीन दिलाने का खेला दाव          लालू प्रसाद यादव की सुरक्षा में तैनात सभी पुलिसकर्मी बदले गए         "गढ़वा" में टूटा मंच "रामनवमी" का हैं तो वह कायल,पर उन्हें क्या पता था कि हो जाएंगे घायल         भाजपा सांसद रविन्द्र पांडेय का बड़ा ऐलान, नहीं लड़ेंगे लोकसभा चुनाव         मेनका गांधी ने मुसलमानों से यह क्या कह दिया         Lok Sabha Election 2019: IPS अनुराग गुप्ता की झारखंड में एंट्री बंद करने पर आयोग से मांगा जवाब         *आईपीएल सट्टेबाजी में पाकुड़ के एक युवक ने गंवाई थी जान, कई घर तबाह–कुछ साल पहले सट्टेबाजी का शिकार युवक ने की थी खुदकुशी–मृतक युवक पर करीब 9 लाख रुपए का था कर्ज         थानेदार पर हुआ हमला,हुए जख्मी..हमलावर ग गिरफ्तारसलंग - चंद्रपुरा थाना प्रभारी पर जानलेवा हमला पर बेरमो ए एस पी का बयान         टीएमसी ने राजमहल लोकसभा से अपना उम्मीदवार उतारा          गुरुजी बोले  : संथाल में मोदी को कौन जानता है ?          लालू यादव कोर्ट के फैसले पर बीजेपी के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने कहा    जातिवाद का ढोंग रच कर बिहार के लोगो को  बेवकूफ़ बनाया है          राजद को बड़ा झटका , लालू यादव की जमानत याचिका खारिज         बसपा का हाथ थाम लिया पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय, गिरिडीह से लड़ेंगे चुनाव         अपने ही बिगड़ेंगे कांग्रेस का खेल         मुख्य अतिथि महानिरिक्षक संजय आनन्द लाटकर ने सहायक कमांडेंट सिद्धार्थ कुमार गौतम को पत्र देकर सम्मानित करते         *पिछले कई सालों से पुलिस के नजर में थे सट्टेबाज नुरुल और शुक्ला–इन दोनों के अलावा और भी सटोरिये विभिन्न हिस्सों में करते हैं सट्टेबाजी का धंधा         महागठबंधन की डर से भाजपा ने कोडरमा में बोरो प्लेयर मैदान में उतारा है   : गौतम राणा         प्रकृति से प्रेम ही सरहुल है  : सुदेश महतो         आई पी एल सट्टेबाजी में सफेद सौदागर शामिल,       हर सप्ताह औसतन 60 लाख का लेनदेन         लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बीजेपी ने जारी किया संकल्प पत्र में फिर शामिल किया राम मंदिर का निर्माण।             राम मंदिर निर्माण का सभी विकल्प ढूंढेेगें          पलटवार : कोयला भी बचेगा और राज्य का विकास भी होगा - हसन अंसारी         वह "गढ़वा" में देने वाले थे बड़ी "घटना" को अंजामK गैंग के तीन गुर्गे गिरफ़्तार         *सड़क दुर्घटना में तीन लोग घायल**दो लोगों को बेहतर इलाज के लिए रेफर किया गया*         "तेजस्वी" ने क्या बोला तीखे बोल,जानने के लिए पढ़िए "bindasbol"मेरे पिता हैं शेर:तेजस्वी आशुतोष रंजनगढ़वा          घूस लेते रंगे हाथ इंस्पेक्टर गिरफ्तार*------- शिकायत के बाद एसीबी टीम ने की कारवाई         पटना। राहुल गांधी देश भर में कहते फिर रहे हैं कि चौकीदार चोर है, लेकिन बिहार में उनके कार्यकर्ता कह रहे हैं कि कांग्रेस नेता चोर हैं। ??         अन्‍नपूर्णा कोडरमा से BJP उम्‍मीदवार, रांची से संजय सेठ व चतरा से लड़ेंगे सुनील सिंह         लालू प्रसाद यादव के बड़े  बेटे तेज प्रताप यादव राजद को अलविदा कह दिया।  नए पार्टी में शामिल           लालू यादव के बड़े तेज प्रताप राजद को अलविदा कह दिया।  नए पार्टी में शामिल           कांग्रेस के' शत्रु' कांग्रेस में शामिल         पूर्व सांसद फूरकान अंसारी की बेटी को  मिली..                    मायावती  का साथ          गोड्डा सीट से बसपा से चुनाव लड़ेगी           टिकट घोषणा में देरी,बागियों को रोकने की कवायद जारी..          जंगल से खाक मार पुलिस ने भारी मात्रा में गोली व विस्फोटक बरामद की          झारखंड मुक्ति मोर्चा ने झारखंड के अलावे बिहार पश्चिम बंगाल उड़ीसा में लोकसभा उम्मीदवार उतारे         भाजपा ने कांग्रेस के मैनिफेस्टो को बताया झूठ का पुलिंदा बताया,प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा..          क्या बात हो गई की पूर्व मुख्य सचिव को जमीन पर बैठना पड़ा         *चुनावों से पहले कर्मचारियों को बड़ी सौगात, ईपीएफ ब्याज दर बढ़ाकर 8.65 प्रतिशत की वृद्धि*         राम मंदिर पर SC के फैसले के बाद BJP ने साधी चुप्पी          सपा की पहली लिस्ट जारी, मैनपुरी से चुनाव लड़ेंगे मुलायम, फिरोजाबाद से अक्षय यादव         सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला : अयोध्या मामले में होगी मध्यस्थता, पैनल में 3 नाम         शरदा फाउंडेशन ने महिला दिवस के अवसर पर महिलाओं को किया सम्मानित         जदयू में पक रही है सियासी खिचड़ी...         राफेल से जुड़े दस्तावेज गायब होना शर्मनाक शत्रुघ्न सिन्हा         लोकसभा चुनाव की तारीखें जल्द घोषित करेगा चुनाव आयोग, तैयारी लगभग पूरीनयी दिल्ली, सात मार्च (भाषा) चुनाव आयोग आगामी लोकसभा चुनाव की तारीखें जल्द घोषित करेगा जो अप्रैल-मई में सात-आठ चरणों में संपन्न हो सकते हैं। सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।         अवमानना मामले में प्रशांत भूषण ने मांगी माफी, कहा- मुझसे गलती हो गई         March 7, 2019एक निजी चैनल के दफ्तर से दो शव मिलने से सनसनीरांची में धनबाद के दो सगे भाइयों की हत्या, एक निजी चैनल के दफ्तर से मिली लास         *राफेल मामले में सरकार की सुप्रीम कोर्ट में दलील- सीबीआई जांच हुआ तो देश को बड़ा नुकसान होगा*         पाकुड़ जिले को फिर मिला स्वच्छता पुरस्कार         *सांसद ने पैर से निकाला जूता और अपनी ही पार्टी के विधायक को धुन डाला, तमाशाबीन बने रहे लोग*         विकीलीक्स का खुलासा, हथियारों के दलाल थे राजीव गांधी          अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा, कहा- मध्यस्थता के लिए          ‘मोदी तुरंत फैसला लेने वाले नेता के रूप में उभरे, पाक के सामने रणनीति तय करने की चुनौती’         वर्ल्ड कप / बीसीसीआई ने आईसीसी से कहा- क्रिकेट समुदाय आतंक को बढ़ावा देने वाले देशों से संबंध खत्म करे         मोदी ने दिल खोल कर किया स्वागत, लेकिन सऊदी प्रिंस ने नहीं किया पुलवामा और PAK का जिक्र         शहीद के परिवार से बोलीं प्रियंका- हमने भी कुछ ऐसा ही देखा है, समझते हैं आपका दुख         अयोध्या विवाद / सुप्रीम कोर्ट में 26 फरवरी को होगी सुनवाई, छुट्टी से लौटे जस्टिस बोबडे         कश्मीर / 250 कश्मीरियों को सुरक्षित घर पहुंचाने के लिए ‘मददगार’ बनी सीआरपीएफ         जो आतंकी घुसेगा, जिंदा नहीं लौटेगा         भारतीय सेना ने कहा था- पुलवामा हमले में पाक सेना का हाथ है।        

क्या कांग्रेस के नेताओं ने अतीत की इन घटनाओं का सिंहावलोकन किया है?

Bhola Tiwari Apr 16, 2019, 8:57 AM IST कॉलमलिस्ट
img




त्रिभुवन 

भारत के तेजस्वी और विद्रोही नेताओं में एक चंद्रशेखर देश के प्रधानमंत्री बने और महज तीन महीने सत्ताईस दिन बाद उन्हें कांग्रेस के नेता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने इस्तीफा देने के लिए विवश कर दिया। इस्तीफा देने के बाद वे तीन महीने और प्रधानमंत्री रहे, क्योंकि चुनाव घोषित हो गए थे। राजीव गांधी ने समर्थन देकर चंद्रशेखर को प्रधानमंत्री तो बनवा दिया, लेकिन इस दौरान उन्होंने जो कुछ किया, वही कांग्रेस को उस राजनीतिक बियाबान में ले गया, जहां सत्ता की छाया से सुदूर उनके बेटे और बेटी आज तपती रेत पर नंगे पांव चलने को बेबस हैं। 


आज राजीव गांधी को बहुत याद किया जाता है, लेकिन मत भूलिए कि वे राजनैतिक रूप से कितने आत्मघाती और लोकतंत्र विरोधी नेता हो गए थे। राजीव गांधी देश के प्रधानमंत्री बने, लेकिन स्वस्थ राजनीति से नहीं। पहले मां की मृत्यु हुई तो एक ऐसे अदूरदर्शी और अकुशल राष्ट्रपति जैलसिंह के हस्ताक्षरों से बना दिए गए, जिनके राष्ट्रपति रहते दिल्ली और शेष देश में 5000 सिखों का कत्लेआम किया गया था। राजीव गांधी ने इसी मौके पर अपना वह बहुचर्चित बयान दिया था, जिसमें कहा गया था कि कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो कुछ लोग कुचले जाते हैं। 


ख़ैर, राजीव गांधी ने चंद्रशेखर को प्रधानमंत्री तो बनवा दिया, लेकिन 30 जनवरी (गांधी जी के बलिदान के दिन) 1991 को उस चंद्रशेखर से एक ऐसा महापाप करवाया, जो युवा तुर्क के रूप में कांग्रेस के भीतर इंदिरा गांधी की तानाशाही के ख़िलाफ़ लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए खड़ा हुआ था और इमरजेंसी में जेल गया। समय का फेर देखिए, प्रधानमंत्री बनकर इन्हीं चंद्रशेखर ने राजीव गांधी के दबाव में आकर तमिलनाडु की लोकतांत्रिक ढंग से चुनकर आई डीएमके की सरकार को महज दो साल बाद ही कानून और व्यवस्था भंग होने का बहाना बनाकर भंग कर दिया। 


डीएमके नेता और मुख्यमंत्री करुणानिधि महज 733 दिन ही मुख्यमंत्री रह पाए थे। चंद्रशेखर ने 234 सदस्यों वाली विधानसभा में 150 सदस्यों वाली मजबूत पार्टी की सरकार को इसलिए भंग करवा दिया, क्योंकि वे अपनी 26 सदस्यों वाली कांग्रेस को एआईडीएमके के साथ लाकर सत्ता स्थापित करवाना चाहते थे। ऐसा हुआ भी, लेकिन बहुत बड़ी कीमत चुकाकर। चंद्रशेखर ने डीएमके सरकार तो भंग कर दी और राष्ट्रपति शासन भी लगा दिया, लेकिन हालात संभलने के बजाय विकराल हो गए और स्वयं राजीव गांधी को आतंकवादियों के हाथों प्राण देने पड़े। इसके बाद डीएमके अपदस्थ हो गई और कांग्रेस जयललिता के सहयोग से सत्ता में आ गई। ये खेल देखिए आप। सोचिए कि क्या भाजपा को सत्ता में लाने वाला माहौल इन्हीं हालात ने नहीं बनाया?


कभी इसी तरह राजीव गांधी की मां से पंजाब में भयावनी भूलें हुईं थीं और आतंकवाद फैला था। परिणाम ये हुआ कि इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री रहते हुए उनके अंगरक्षकों ने एक विश्वासघाती हमले में मार डाला। ये दोनों हत्याएं सिर्फ़ कांग्रेस नेताओं की हत्याएं नहीं थी। इन हत्याओं ने पूरे देश को झकझोर डाला था। ये हमले पूरी तरह देश के विश्वास पर आघात करने वाले थे। देश इन्हें झेल गया और साहस के साथ आगे बढ़ गया। लेकिन क्या ये घटनाएं कांग्रेस नेताओं के अदूरदर्शिता भरे आचरण का जीवंत चरित्र नहीं हैं? क्या ये कांग्रेस की अलोकतांत्रिक शासन शैली का नमूना नहीं?


कांग्रेस की दरअसल यह पुरानी संस्कृति थी। असम गण परिषद की सरकार को भंग करने के लिए बोडो आंदोलनकारियों को केंद्र से हथियार तक मुहैया करवाए गए थे, ताकि इस महान देश के गणराज्य की पगड़ी में शोभित एक छोटी पार्टी की सरकार उखाड़कर फेंक दी जाए। पिछले कुछ समय में बीजेपी की केंद्र सरकार ने जो आचरण-व्यवहार दिल्ली की सरकार के साथ किया, वह तो कुछ भी नहीं। असम गन परिषद तो छात्रों और युवाओं की सरकार थी; आम आदमी पार्टी ने तो ऐसा झाड़ू चलाया था कि कचरा घर में कर लिया और साफ़ सुथरे समान को बाहर फेंक कर प्रसन्न हो गए। 


चंद्रशेखर मूल्यों की बातें करते-कराते कांग्रेस की मदद से प्रधानमंत्री तो बन गए, लेकिन उन्हें अपने हाथों से ऐसे-ऐसे पाप करने पड़े, जो कोई और करता तो वे उसे लोकतंत्र का हत्यारा कहते। चंद्रशेखर ने बिहार के तत्कालीन राज्यपाल मोहम्मद यूनुस सलीम को बर्खास्त किया था। सलीम एक प्रतिष्ठित राजनेता थे और वे ऐसे समय कांग्रेस छोड़कर वीपी सिंह के साथ आए थे, जब बोफर्स घोटाले की गूंज थी। दरअसल सलीम को बदलने के पीछे राजीव गांधी का मकसद ये था कि वे बिहार में जनता दल नेता लालू यादव की सरकार को बर्खास्त करवाकर कांग्रेस की सरकार ला सकें। और इसीलिए नया राज्यपाल मुस्लिम की जगह मुस्लिम लाया गया, लेकिन खांटी कांग्रेसी। राजीव गांधी को लोकतांत्रिक मूल्यों को स्वीकार करने वाले मोहम्मद यूनुस सलीम स्वीकार नहीं थे और इसलिए उनकी जगह आज्ञाकारी मोहम्मद शफी कुरैशी को लाया गया। 


कांग्रेस की प्रधानमंत्री चाहे इंदिरा गांधी रही हों या राजीव गांधी, ये लोग इतने अलोकतांत्रिक थे कि जब चाहे तब विपक्ष के या अपने ही मुख्यमंत्रियों के नरमुंड दिल्ली मंगवाकर नया नरमुंड अपनी तरफ से प्राण प्रतिष्ठित करवाते थे। प्रधानमंत्री रहे नरसिंह राव का आचरण भी कम पापात्मक नहीं था। ममता बैनर्जी जैसी फायरब्रैंड नेता को उन्होंने ही सरकार से बाहर किया था। अंतत: जब ममता ने कहा कि बंगाल में कांग्रेस को कांग्रेस के केंद्रीय नेताओं ने ही कम्युनिस्टों की कठपुतली बना रखा है, वरना बंगाल तो कांग्रेस के साथ है। ममता पर मतभिन्नता संभव है और बहुत विवादित फ़ैसले भी लेती हैं। लेकिन क्या ममता ने इस बात को साबित नहीं किया कि वे कांग्रेस की सबसे काबिल नेता थीं। आज जहां राहुल गांधी हैं, वहाँ उन्हें होना चाहिए था। और क्या इस अकेली दु:साहसी लौह ललना ने 34 साल पुराने कम्युनिस्ट शासन को उखाड़ नहीं फेंका? आज भारतरत्न विभूषित और कल राष्ट्रपति बनाए गए प्रणव मुखर्जी ऐसा कर पाए? बहरहाल, क्या शरद पवार सहित अनेक मुख्यमंत्रियों को राजीव गांधी ने कम परेशान किया था? 


आजकल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अंबानी के समर्थन के घनघोर आरोप लगाने वाले युवराज राहुल गांधी को तो शायद यह याद भी नहीं होगा कि लार्सन एंड ट्रूबो पर धीरू भाई अंबानी का कब्जा रोकने के लिए विश्वनाथ प्रतापसिंह ने सच्चे मन से जो कदम उठाए थे, उन्हें चंद्रशेखर सरकार ने क्यों उलटा? क्या इसकी वजह राजीव गांधी नहीं थे? 


भारतीय राजनेताओं का जो गिरा हुआ चरित्र हम आजकल देखते हैं, वह बहुत शर्मनाक है। अभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रफाल सौदे के विवाद पर कह रहे हैं कि कुछ लोग नहीं चाहते थे कि भारतीय वायु सेना सशक्त हो? यह कहते हुए वे यह भूल जाते हैं कि कोई उनसे पूछ सकता है : तो क्या भाजपा ने बोफर्स भ्रष्टाचार को इसलिए दबाया था कि भारतीय थल सेना कमजोर नहीं हो या बोफर्स सौदे की आवाज़ वीपी सिंह सहित तब के सभी प्रमुख नेताओं ने, जिनमें भाजपा के नेता भी शामिल थे, किसी दुश्मन देश को मदद पहुंचाने के लिए उठाई थी?


कांग्रेस आज बहुत दयनीय हालात से उठने की कोशिश कर रही है, लेकिन उसे एक परिवार से बाहर कुछ नहीं दिखता। वह प्रियंका गांधी को ऐसे समय सक्रिय राजनीति में ला रही है, जब उसके पति ईडी की जांच के घेरे में हैं। भाजपा ने लालकृष्ण आडवाणी जैसे हाथी नेता को चूहे के पिंजरे में बंद करने का साहस दिखा दिया आैर एक गुजराती पहलवान को सियासत के रिंग में उतार दिया, जो आए दिन ताल ठोंक रहा है। लेकिन कांग्रेस तो अपने भविष्य के संभावनाशील नेताओं को ही चूहों के पिंजरों में बंद किए है। ममता बैनर्जी सही हों या ग़लत, ये अलग बात है; लेकिन उन्होंने जिस तरह 34 साल के कम्युनिस्ट शासन को अकेले उखाड़ फेंका और अब जिन तेवरों के साथ नरेंद्र मोदी, अमित शाह और योगी आदित्यनाथ को राजनीतिक साहस के साथ जवाब दिया, बताइए, राहुल गांधी उनके सामने क्या बेचते हैं? राहुल गांधी का सियासी वज़न अगर 50 किलो तो ममता बैनर्जी ने आपको पांच क्विंटल का साबित किया है। 


इसलिए कांग्रेस को इस लोकसभा चुनाव में उतरने से पहले अपने घर के आंगन में बैठकर अपनों के प्रति किए गए पापों की आत्मस्वीकृति करनी चाहिए और एक नए संकल्प के साथ उतरना चाहिए। नहीं तो यह उसी कांग्रेस की मैली धारा है, जो इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और नरसिंह राव के मैल को ढोती हुई आगे बढ़ रही है। इस जल-धारा में नहाकर कोई शापित तो हो सकता है, पापमुक्त नहीं!

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links