ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार         BIG NEWS : सदियों का संकल्प पूरा हुआ : मोदी         BIG NEWS : लालू प्रसाद यादव को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में किया गया स्विफ्ट         BIG NEWS : अब पाकिस्तान ने नया मैप जारी कर जम्मू कश्मीर, लद्दाख और जूनागढ़ को घोषित किया अपना हिस्सा         हे राम...         BIG NEWS : सुशांत केस CBI को हुआ ट्रांसफर, केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश         BIG NEWS : पीएम मोदी ने अयोध्या में की भूमि पूजन, रखी आधारशिला         BIG NEWS : PM मोदी पहुंचे अयोध्या के द्वार, हनुमानगढ़ी के बाद राम लला की पूजा अर्चना की         BIG NEWS : आदित्य ठाकरे से कंगना रनौत ने पूछे 7 सवाल, कहा- जवाब लेकर आओ         रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक : बेरूत के तट पर खड़े जहाज में ताकतवर ब्लास्ट, 73 की मौत         BIG NEWS : भूमि पूजन को अयोध्या तैयार         रामराज्य बैठे त्रैलोका....         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत से मेरा कोई संबंध नहीं : आदित्य ठाकरे         BIG NEWS : दीपों से जगमगा उठी भगवान राम की नगरी अयोध्या         BIG NEWS : पूर्व मंत्री राजा पीटर और एनोस एक्का को कोरोना, कार्मिक सचिव भी चपेट में         BIG NEWS : अब नियमित दर्शन के लिए खुलेंगे बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर          BIG NEWS : श्रीनगर-बारामूला हाइवे पर मिला IED बम, आतंकी हादसा टला         BIG NEWS : सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह ने किया टॉप, झारखंड के रवि जैन को 9वां रैंक, दीपांकर चौधरी को 42वां रैंक         सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की CBI जांच की सिफारिश         BIG NEWS : आतंकियों ने सेना के एक जवान को किया अगवा          बिहार DGP का बड़ा बयान, विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने के मामले में भेजेंगे प्रोटेस्ट लेटर         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग !         BIG NEWS : दिशा सालियान...सुशांत सिंह राजपूत मौत प्रकरण की अहम कड़ी...         BIG NEWS : पटना पुलिस ने खोजा रिया का ठिकाना, नोटिस भेज कहा- जांच में मदद करिए         BIG NEWS : छद्मवेशी पुलिस के रूप में घटनास्थल पर कुछ लोगों के पहुंचने के संकेत         लिव-इन माने ट्राउबल बिगिन... .          रक्षाबंधन : इस अशुभ पहर में भाई को ना बांधें राखी, ज्योतिषी की चेतावनी         जब मां गंगा को अपनी जटाओं में शिव ने कैद कर लिया...         आज सावन का आखिरी सोमवार, अद्भुत योग, भगवान शिव की पूजा करने से हर मनोकामना होगी पूरी          अन्नकूट मेले को लेकर सजा केदारनाथ, भगवान भोले को चढ़ाया गया नया अनाज         BIG NEWS :  गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने सुशांत सिंह के बैंक अकाउंट से 90 दिनों में 3.24 करोड़ रुपए निकाले         GOOD NEWS : अमिताभ की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, 22 दिन बाद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज         केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव          BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत के मित्र सिद्धार्थ पीठानी को पटना पुलिस सम्मन जारी कर करेगी पूछताछ        

मोरारजी देसाई मृदुभाषी होते तो देश के दूसरे प्रधानमंत्री बनते

Bhola Tiwari Oct 26, 2019, 8:14 AM IST टॉप न्यूज़
img


 अजय श्रीवास्तव

प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद वरिष्ठ कांग्रेस नेता मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री पद के स्वभाविक उम्मीदवार थे।कांग्रेस पार्टी में उनको चाहने वाले बहुत थे मगर उनके दुश्मन उससे भी ज्यादा।दरअसल देसाई मुँहफट थे और किसी को भी कुछ भी कह देते थे।जिद्दी और हठ के कारण पार्टी के बहुत से वरिष्ठ नेता उन्हें नापसंद करते थे और इस वजह से हीं उन्हें बहुत नुकसान उठाना पडा था।वे वरिष्ठ नेता जयप्रकाश नारायण को "भ्रमित" कहते थे तो इंदिरा गांधी को "लिटिल गर्ल", के.कामराज से उनका छत्तीस का आँकडा जगजाहिर था।

पार्टी की एक सशक्त लाँबी लालबहादुर शास्त्री को प्रधानमंत्री बनाना चाहती थी मगर मोरारजी देसाई को हमेशा लगता था कि उनकी काबिलियत के बावजूद उन्हें प्रधानमंत्री नहीं बनाया जा रहा है।वे शास्त्रीजी के खिलाफ मैदान में थे मगर सफलता शास्त्रीजी के हाथ लगी और वे मन मसोस कर रह गए।

लालबहादुर शास्त्री के निधन के बाद भी उन्होंने प्रधानमंत्री पद पर अपनी उम्मीदवारी जताई थी मगर पार्टी ने इंदिरा गांधी का चुनाव किया।

तीसरी बार उन्होंने 1967 में अपनी दावेदारी पेश की जब इंदिरा गांधी के नेतृत्व में आम चुनाव हुआ था और अपेक्षित परिणाम नहीं मिले थे।कांग्रेस को 520 सीटों में से 283 पर विजय हासिल हुई थी।पिछले चुनाव से 78 सीटें कम मिली थीं, साथ हीं पार्टी को आठ राज्यों में बहुमत नहीं मिला था।इंदिरा गांधी की काफी आलोचना हो रही थी तभी मोरारजी देसाई ने पार्टी फोरम में प्रधानमंत्री पद की दावेदारी पेश कर दी।सिंडिकेट नेता के.कामराज ने बडी मानमनौव्वल और मशक्कत के बाद मोरारजी देसाई को मनाया।मोरारजी देसाई को उप प्रधानमंत्री और केंद्रीय वित्त मंत्री बनाया गया।

इंदिरा गांधी सिंडिकेट से बेहद परेशान थीं,सिंडिकेट उनके हर फैसले पर अंगुली उठा रही थी।तब उन्होंने आरपार करने का फैसला कर लिया था।बैंकों के राष्ट्रीयकरण के फैसले ने उन्हें काफी मजबूत कर दिया था।

इसी बीच तत्कालीन राष्ट्रपति डाँक्टर जाकिर हुसैन का निधन हो गया।वीवी गिरी को कार्यवाहक राष्ट्रपति नियुक्त किया गया मगर सिंडिकेट नीलम संजीव रेड्डी को राष्ट्रपति बनाना चाहती थी और इंदिरा गांधी वीवी गिरी को।नीलम संजीव रेड्डी आंध्रप्रदेश के बडे नेता थे और लोकसभा के स्पीकर थे।वीवी गिरी को समर्थन मिलता न देखकर इंदिरा गांधी ने जगजीवन राम को उम्मीदवार बनाया मगर जब वोटिंग हुई तो जगजीवन राम को केवल तीन वोट मिले थे और फैसला नीलम संजीव रेड्डी के पक्ष में आया।रेड्डी कांग्रेस के उम्मीदवार बने और वीवी गिरी स्वत्रंत उम्मीदवार के रूप में चुनाव में उतरे।वीवी गिरी विपक्ष की मदद से जीत गए और वे राष्ट्रपति बनें।

बताते हैं कि इस वाकये ने इंदिरा गांधी का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुँचा दिया।उन्होंने फौरन अपने प्रतिद्वंद्वी मोरारजी देसाई से वित्तमंत्रालय वापस ले लिया मगर उन्हें उप प्रधानमंत्री बरकरार रखा।उन्होंने मोरारजी देसाई पर ये आरोप लगाया था कि वे बैंकों के राष्ट्रीयकरण के खिलाफ हैं।

इसके बाद हीं कांग्रेस दो हिस्सों में बंट गई, एक का नेतृत्व इंदिरा गांधी ने किया तो दूसरे का नेतृत्व सिंडिकेट ने,जिसके अध्यक्ष के.कामराज थे।सिंडिकेट ग्रुप में हीं मोरारजी देसाई थे।

साल 1975 में मोरारजी देसाई ने जनता पार्टी ज्वाइन की और 1977 में वे देश के चौथे प्रधानमंत्री बने।कहा जाता है कि वे अगर मृदुभाषी होते तो शायद वे देश के दूसरे प्रधानमंत्री होते।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links