ब्रेकिंग न्यूज़
आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की        

बिहार के स्वाभिमान को बुलंदी देता है 'किरकेट

Bhola Tiwari Oct 18, 2019, 4:03 PM IST टॉप न्यूज़
img


गायत्री साहू

भारत का राष्ट्रीय खेल भले ही हॉकी है पर करोड़ों भारतीयों का पसंदीदा खेल क्रिकेट ही है। आज भी यदि क्रिकेट का रोमांचक मैच चल रहा हो, तो लोग ऑफिस से छुट्टी ले लेते हैं। क्रिकेट प्रेमी हर मुसीबत झेल लेते हैं, पर क्रिकेट देखना नहीं छोड़ते। भारत का बिहार एक ऐसा राज्य है जहाँ क्रिकेट तो खेला जाता है पर इंडियन क्रिकेट कॉउन्सिल असोसिएशन द्वारा क्रिकेटर चुने नहीं जाते, उन्हें क्रिकेट में चुनाव के लिए पड़ोसी राज्य झारखंड का सहारा लेना पड़ता है क्योंकि बिहारियों को राजनीतिक, अपराधी और हेय दृष्टि से देखा जाता है। बिहारियों की इसी छवि को सुधारने के लिए निर्देशक योगेंद्र सिंह ने फ़िल्म किरकेट बनाई है।

 बिहार के क्रिकेटर और संसद कीर्ति आजाद चाहते हैं कि उनके राज्य से भी प्रतिभाशाली क्रिकेटर चुने जाएं और भारतीय टीम में अपनी जगह बनाये। परंतु बिहार के लोगों की धूमिल छवि उनके मीमांसा को रौन्ध देती है। तभी क्रिकेट का शौक रखने वाला मुनवा का पिता डाकिया मौर्या दरभंगा (बिहार) के सांसद कीर्ति आजाद के कार्यक्रम में जाता है और अपने बच्चे का सपना टूटता देख कीर्ति आजाद को बल्ले से मारता है। कीर्ति आजाद मुनवा के पिता के गलती पर उसे दंडित ना करके उसकी मनोदशा जानकर बिहार की कड़वी राजनीति की सच्चाई बताते हैं। इस घटना से कीर्ति आजाद को प्रेरणा मिलती है और वे झारखंड के विधायक काली मुंडा से सहयोग की आशा रखते हैं, परंतु मुंडा उसका फायदा उठाकर अपना उल्लू सीधा करते हैं मुंडा के विश्वासघात से आहत स्वयं की क्रिकेट असोसिएशन कंपनी एबीसी का निर्माण करते हैं और पूरे बिहार से क्रिकेट के शौकीनों को बुलाते हैं इस काम में वह पुराने बिहार के होनहार खिलाड़ी विशाल तिवारी की मदद लेते हैं। विशाल अपने क्रिकेट कैरियर के तबाह हो जाने पर क्रिकेट की बेटिंग करता है साथ ही बुरे व्यसनों में लिप्त हो जाता है। कीर्ति आजाद के कहने पर वह अपने पुराने साथी रवि बम्पर, शाहबुद्दीन के साथ एक नई टीम की खोज करता है इसके लिए वह लोगों को दो लाख रुपये का प्रलोभन देकर अपनी टीम बनाता है। कीर्ति आजाद की क्रिकेट टीम को देख मुंडा षडयंत्र रचता है और उन्हें आगे आने का मौका नहीं देता। कीर्ति आजाद अपने सपने को बिखरता देख अपनी बात असोसिएशन में रखते हैं और मुंडा, आज़ाद की टीम को प्रीमियम लीग में वाइल्ड कार्ड एंट्री देकर उनकी टीम को चुनौती देता है। कीर्ति आजाद की किरकेट टीम अपने को कैसे साबित करेंगे यही फ़िल्म का ट्विस्ट है।


 फ़िल्म के निर्देशक योगेंद्र सिंह का निर्देशन बेहतरीन है। उन्होंने चुस्त पटकथा के साथ इस फ़िल्म को पेश किया है। इसमें जाति और धर्म के आधार पर भेदभाव, सामाजिक कुरीतियों और बिहारी की गलतियों के साथ उनकी योग्यता का भी सर्वश्रेष्ठ आंकलन किया है। देश में व्याप्त दुर्भावनाओं को भी दूर करने का प्रयास फ़िल्म के माध्यम से किया गया है। इसमें व्याप्त संदेश फ़िल्म को उबाऊ नहीं बनाते वरन दर्शकों को बांधे रखते हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links