ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

अयोध्या--एक रुका हुआ फैसला !!

Bhola Tiwari Oct 18, 2019, 10:19 AM IST टॉप न्यूज़
img


 नीरज कृष्ण

माननीय सर्वोच्च न्यायालय की पीठ रामजन्मभूमि/बाबरी मस्जिद प्रकरण में मिल्कियत सम्बन्धी मुकदमें में अगले कुछ ही दिनों में निर्णायक एवं अहम फैसला सुनाने जा रही है। एक लंबे समय तक श्रीराम जन्मभूमि/बाबरी मस्जिद ने प्रकृति के खेलों और तूफ़ानों को बरदाश्त किया, लेकिन मनुष्यों की हिमाकतों और राजनीतिक वहशतों को सहना उससे भी अधिक कठिन था। फिलहाल- ‘ताजमहल मंदिर है’ तथा ’कुतुब मीनार हिन्दू स्थापत्य की विरासत है’ माननेवाले इतिहासकारों का एक छोटा-सा समूह देश में मौजूद है। 

लगभग चार सौ साल पुरानी घटना के साथ आप सीधी प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं कर सकते। उन दिनों के योद्धाओं से प्रेरणा ले सकते हैं लेकिन उनकी वीरता की वाहवाही हम नही ले सकते। उन दिनों की ग़लतियों को हम सुधार नहीं सकते, सिर्फ़ आगे के लिए सतर्क हो सकते हैं।’ इसी तरह उस युग के अपमानों का हम बदला नहीं ले सकते। 

‘तीन-चार सौ साल बाद किसी की कोई संतान भी नहीं रह जाती, सिर्फ़ वंशधर रह जाते हैं। किसी भी भाषा में ‘परदादा’ और ‘प्रपौत्र’ के आगे का संबंध जोड़ने वाला शब्द नहीं है। नाती, पोते, प्रपौत्र के आगे की स्मृति नष्ट हो जाती है। इसीलिए कबीलाई संस्कृति में भी बदला लेने का अधिकार नाती–पोते तक रहता है। 

युग बदलने से कर्म, विचार और भावनाओं का संदर्भ भी बदल जाता है। हमारे वर्तमान युग में मस्जिद के स्थान पर मंदिर बनाने का लक्ष्य हो नहीं सकता क्योंकि हमारे युग का संदर्भ भिन्न है।’ इतिहास और बदले के इस सिद्धांत को पाठ्य–पुस्तकों में नहीं लिखा गया है नतीजतन पढ़े–लिखे लोग भी भ्रमित हो जाते हैं। 

बाबरी मस्जिद का निर्माण यदि 1528 ईसवी में हुआ था तब वह भारत में मुगलों के आने के बाद की पहली इमारतों में रही होगी। बाबरनामा में स्पष्ट लिखा हुआ है कि बाबर ने निर्देश जरी किया था कि किसी भी धार्मिक ईमारत को ध्वस्त कर कोई ईमारत नहीं बनाई जाये। इसके पहले तुर्क–अफ़गान काल के स्थापत्य के नमूने उपलब्ध हैं और फिर बाद के मुगल काल के भी। इस खास तरह की वास्तुकला के विकास को समझने में यह मस्जिद एक महत्वपूर्ण कड़ी हो सकती थी, जो ढाह दिया गया।

यहाँ कुस्तुन्तुनिया की ’आया सूफ़िया’ मस्जिद का उल्लेख प्रासंगिक है। 7 अगस्त, 1935 को जवाहरलाल नेहरू ने एक लेख में इस विशिष्ट मस्जिद का इतिहास लिखा है। इस इमारत ने नौ सौ वर्ष तक ग्रीक धार्मिक गाने सुने। फिर चार सौ अस्सी वर्ष तक अरबी अजान की आवाज उसके कानों में आई और नमाज पढ़ने वालों की कतारें उसके पत्थरों पर खड़ी हुईं। 1935 में गाजी मुस्तफ़ा कमालपाशा ने अपने हुक्म से यह मस्जिद बाइजेन्टाइन कलाओं का संग्रहालय बना दी। बाइज्न्टाइन जमाना तुर्कों के आने के पहले का ईसाई जमाना था और यह समझा जाता था कि बाइजेन्टाइन कला खत्म हो गई है।

नेहरू जी ने इस लेख के अंत में लिखा है– ’फाटक पर संग्रहालय की तख़्ती लटकती है और दरबान बैठा है। उसको आप अपना छाता–छड़ी दीजिए, उनका टिकट लीजिए और अंदर जाकर इस प्रसिद्ध पुरानी कला के नमूने देखिए और देखते–देखते इस संसार के विचित्र इतिहास पर विचार कीजिए, अपने दिमाग को हजारों वर्ष आगे–पीछे दौड़ाइए। क्य–क्या तस्वीरें, क्या–क्या तमाशे, क्या–क्या जुल्म, क्या–क्या अत्याचार आपके सामने आते हैं। उन दीवारों से कहिए कि आपको कहानी सुनावें, अपने तजुरबे आपको दे दें। शायद कल और परसों जो गुजर गए, उन पर गौर करने से हम आज को समझें, शायद भविष्य के परदे को भी हटाकर हम झाँक सकें।’ लेकिन वे पत्थर और दीवारें खामोश हैं। जिन्होंने इतवार की ईसाई पूजा बहुत देखी और बहुत देखीं जुमे की नमाजें। अब हर दिन की नुमाइश है उनके साए में। दुनिया बदलती रही, लेकिन वे कायम हैं। उनके घिसे हुए चेहरे पर कुछ हल्की मुस्कराहट-सी मालूम होती है और धीमी आवाज-सी कानों में आती है– ’इंसान भी कितना बेवकूफ़ और जाहिल है कि वह हजारों वर्ष के तजुरबे से नहीं सीखता और बार–बार वही हिमाकतें करता है।’

हम भारतीय लोगों को कभी न तो तुलनात्मक इतिहास का अध्ययन ही करना सिखया गया न ही परिस्थितिजन्य साक्ष्यों से तुलनात्मक अध्ययन। मैं बामपंथी/दक्षिणपंथी जैसे शब्दों का तो प्रयोग नहीं करूँगा इतिहासकारों के लिए, क्यूंकि मेरी स्पष्ट धारणा है कि इतिहास न तो बामपंथ होती है न ही दक्षिणपंथी। इतिहासकारों का दायित्व होता है कि उन्होंने जिस विषय को जिस रूप में देखा, महसूस किया उसे स्पष्ट रूप से अंकित करें। पर ‘इतिहास’ के साथ विडम्बना है कि उसे विजेताओं ने अपने अनुरूप लिखवाया।  

ऐसे बहुत कम लोग होंगे जिन्हें याद भी होगा कि रामजन्मभूमि/ बाबरी मस्जिद प्रकरण कब और क्यूँ और कैसे आज से लगभग 32 वर्षों पूर्व फैजाबाद की अदालत में कांग्रेस के द्वारा पहुंचाई गयी थी। एक बहुत ही गंभीर मुक़दमे(Writ) के आये हुए फैसले से उठने वाली किरकिरी को दबाने के लिए केंद्र की तात्कालिक सरकार ने तत्क्षण ही एक बड़े मुद्दे को अदालत तक पहुंचा दिया, ताकि अदालत द्वारा दिए गए निर्णायक फैसले को प्रभावहीन (जनता के सोच की दिशा) किया जा सके, और इस कुकृत्य में कांग्रेस पार्टी पूर्णतया सफल रही। ...... चूँकि अभी यह मुकदमा माननीय सर्वोच्च न्यायलय की पीठ के समक्ष लंबित है, अतः इस मुक़दमे की सच्चाई/तथ्यों के बारे में कुछ भी लिखना न्यायलय की अवमानना तो है ही साथ ही साथ तर्क संगत भी नहीं है। 

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links