ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में        

टैक्स कटौती से नहीं हासिल होगा विकास...

Bhola Tiwari Oct 16, 2019, 5:30 AM IST टॉप न्यूज़
img


भरत झुनझुनवाला

बीते बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने कंपनियों द्वारा अदा किये जाने वाले आय कर, जिसे कॉर्पोरेट टैक्स कहा जाता है, उसे लगभग 35 प्रतिशत से बढाकर 43 प्रतिशत कर दिया था. उन्होने कहा था कि अमीरों का दायित्व बनता है की देश की जरूरतों में अधिक योगदान करें. बीते माह उन्होंने अपने कदम को पूरी तरह वापस ले लिया और कंपनियों द्वारा अदा किये जाने वाले आयकर को घटाकर लगभग 33 प्रतिशत कर दिया है. इस उलटफेर से स्पष्ट होता है कि आय कर की दर का आर्थिक विकास पर प्रभाव असमंजस में है. यदि आय कर बढ़ाया जाता है तो इसका प्रभाव सकारात्मक भी पड़ सकता है और नकारात्मक भी. यदि राजस्व का उपयोग घरेलू माल की खरीद से निवेश करने के लिए किया गया, जैसे देश में बनी सीमेंट और बजरी से गाँव की सड़क बनायीं गयी, तो इसका प्रभाव सकारात्मक पड़ेगा. इसके विपरीत यदि उसी राजस्व का उपयोग राफेल फाइटर प्लेन खरीदने के लिए अथवा सरकारी कर्मियों को ऊँचे वेतन देने के लिए किया गया तो प्रभाव नकारात्मक पड़ सकता है. कारण यह कि राफेल फाइटर प्लेन खरीदने से देश की आय विदेश को चली जाती है जैसे गुब्बारे की हवा निकाल दी जाए. मैं राफेल फाइटर प्लेन का विरोध नहीं कर रहा हूँ लेकिन इसके पीछे जो आर्थिक गणित है वह आपके सामने रख रहा हूँ. यदि सरकारी कर्मियों को ऊँचे वेतन दिए जाते हैं तो इसका एक बड़ा हिस्सा विदेशी माल जैसे स्विट्ज़रलैंड की बनी चॉकलेट खरीदने में अथवा विदेश यात्रा में खर्च हो जाता है जिससे आर्थिक विकास की दर पुनः गिरती है.

देश में मांग उठ रही है कि व्यक्तियों द्वारा देय आयकर में भी कटौती की जाए. इसका भी प्रभाव सकारात्मक पड़ सकता है अथवा नकारात्मक. इतना सही है कि आयकर घटाने से करदाता के हाथ में अधिक रकम बचेगी जैसे करदाता पहले यदि 100 रूपये कमाता था और उसमे से 30 रूपये आयकर देता था तो उसके हाथ में 70 रूपये बचते थे. यदि आयकर की दर घटाकर 25 प्रतिशत कर दी जाए तो करदाता के हाथ में अब 75 रूपये बचेंगे. वह पहले यदि 70 रूपये का निवेश कर सकता था तो अब 75 रूपये का निवेश कर सकेगा. लेकिन यह जरूरी नहीं कि बची हुई रकम का निवेश ही किया जाएगा. उस रकम को वह देश से बाहर भी भेज सकता है. बताते चलें कि यदि देश में आयकर की दर घटा दी जाए तो भी यह निवेश करने को पर्याप्त प्रलोभन नहीं है क्योंकि अबू-धाबी जैसे तमाम देश हैं जहाँ पर आयकर की दर शून्य प्रायः है.

मनिपाल ग्लोबल एजुकेशन के टी वी मोहनदास पाई के अनुसार देश से अमीर बड़ी संख्या में पलायन कर रहे हैं. वे भारत की नागरिकता त्यागकर अपनी पूँजी समेत दूसरे देशों को जा रहे हैं और उन देशों की नागरिकता स्वीकार कर रहे हैं. पाई के अनुसार इसका प्रमुख कारण टैक्स कर्मियों का आतंक है. उनके अनुसार आज कर दाता महसूस करता है कि उसके टैक्स कर्मियों द्वारा परेशान किया जा रहा है. मेरा अपना मानना है कि वर्तमान सरकार कंप्यूटर तकनीक के उपयोग्ग से आयकर दाताओं और टैक्स अधिकारियों के बीच सीधा संपर्क कम कर रही है जोकि सही दिशा में है लेकिन इसके बाद जब जांच होती है अथवा अपीलिय प्रक्रिया होती है तो करदाता और टैक्स अधिकारियों का आमना सामना होता ही है.            

मूल बात यह है कि वर्तमान सरकार टैक्स अधिकारीयों को ईमानदार और करदाताओं को चोर की तरह से देखती है. सरकार का यह प्रयास बिलकुल सही है कि देश में तमाम उद्यमी हैं जो देश के बैंकों की रकम को लूट कर जा रहे हैं अथवा टैक्स की चोरी कर रहे हैं. लेकिन एक चोर को दूसरे चोर के माध्यम से पकड़ना कठिन ही है. मनुस्मृति में कहा गया है कि “राजा के कर्मी मुख्यतः चोर और फरेबी होते हैं और वे जनता का धन लूटते हैं, राजा इनसे अपनी जनता की रक्षा करे.” यानी मनुस्मृति के अनुसार सरकार के कर्मी मूलतः चोर होते हैं. लेकिन वर्तमान सरकार की दृष्टि में सरकार के कर्मी ईमानदार हैं और करदाता चोर हैं. अतः कंप्यूटर तकनीक से जो सुधार किया जा रहा है उससे कर्मियों का मूल भाव बदलता नहीं दिखता है. परिणाम यह है की टैक्स के आतंक के चलते देश से अमीरों का पलायन जारी है. अमीरों के पलायन का दूसरा प्रमुख कारण जीवन की गुणवत्ता बताया जा रहा है. देश में वायु की गुणवत्ता गिरती जा रही है. मेरे एक मित्र दिल्ली में रहते थे उनकी पत्नी का वजन बिना किसी कारण के 45 किलो से घटकर 25 किलो हो गया. इसके बाद उन्होंने दिल्ली को छोड़ा और देहरादून में आकर बसे. बिना किसी दवाई के उनकी पत्नी का वजन पुनः बढ़ गया. वायु की घटिया क्वालिटी के कारण अमीर अपने देश में रहन पसंद नहीं कर रहे हैं. इसी प्रकार ट्रैफिक की समस्या है जिसके कारण वे यहाँ नहीं रहने चाहते हैं. इस दिशा में सरकार का प्रयास उल्टा पड़ रहा है. जैसे सरकार ने कोयले से चलने वाले बिजली संयंत्रों द्वारा उत्सर्जित जहरीली गैसों के मानकों में हाल में छूट दे दी है. उन्हें वायु को प्रदूषित करने का अवसर दे दिया है. इस छूट का सीधा परिणाम यह है कि बिजली संयंत्रों द्वारा उत्पादन लागत कम होगी और आर्थिक विकास को गति मिलेगी. लेकिन उसी छूट के कारण वायु की गुणवत्ता में गिरावट आएगी और देश के अमीर यहाँ से पलायन करेंगे और विकास दर घटेगी जैसा हो रहा है. इसी प्रकार सरकार ने गंगा के ऊपर बडे जहाज चलाने का निर्णय लिया है. सीधे तौर पर बडे जहाज चलेंगे ढूलाई का खर्च कम होगा और आर्थिक विकास को गति मिलेगी. लेकिन इन्हीं बडे जहाज़ों से गंगा का पानी प्रदूषित होगा, गंगा का सौन्दर्य खंडित होगा और जीवन की गुणवत्ता में गिरावट आएगी. अतः सरकार को किसी निर्णय को लेते समय जीवन की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देना होगा और पर्यावरण को बोझ समझने के स्थान पर पर्यावरण की रक्षा के इस आर्थिक लाभ का भी मूल्यांकन करना होगा.

तीसरा बिंदु सामाजिक है. अमीर व्यक्ति चाहता है कि उसे वैचारिक स्वतंत्रता मिले. वह अपनी बात कह सके. लेकिन बीते समय में देश में स्वतंत्र विचार को हतोत्साहित किया गया है. जो व्यक्ति सरकार की विचारधारा से विपरीत सोचता है, उसके ऊपर किसी न किसी रूप से दबाव डाला रहा है. इन तमाम कारणों से अमीरों को भारत में रहना पसंद नहीं आ रहा है और वह देश से पलायन कर रहे हैं. वित्त मंत्री द्वारा टैक्स कॉर्पोरेट कम्पनियों द्वारा अथवा व्यक्तियों द्वारा जो आयकर में कटौती की गयी है अथवा जी शीघ्र किये जाने की संभावना है उससे देश के आर्थिक विकास को कोई अंतर नहीं पड़ेगा क्योंकि मूल समस्या सांस्कृतिक है. देश ने जो नौकरशाही को ईमानदार, पर्यावरण की हानि को आर्थिक विकास का कारक और वैचारिक विभिन्नता को नुकसानदेह दृष्टि से देख रखा है उसका सीधा परिणाम है कि देश के अमीर देश को छोड़कर जा रहे हैं और देश की आर्थिक विकास की गति धीमी पड़ रही है.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links