ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट में किसने लगाई आग! लाखों का नुकसान          BIG NEWS : इंडिया और इज़राइल मिलकर खोजेंगे कोविड-19 का इलाज         CBSE : अपने स्कूल में ही परीक्षा देंगे छात्र, अब देशभर में 15000 केंद्रों पर होगी परीक्षा         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में कमांडर आदिल वानी समेत दो आतंकी ढेर         BIG NEWS : लद्दाख बॉर्डर पर भारत ने तंबू गाड़ा, चीन से भिड़ने को तैयार         ममता बनर्जी को इतना गुस्सा क्यों आता है, कहा आप "मेरा सिर काट लीजिए"         GOOD NEWS ! रांची से घरेलू उड़ानें आज से हुईं शुरू, हवाई यात्रा करने से पहले जान लें नए नियम         .... उनके जड़ों की दुनिया अब भी वही हैं         आतंकियों को बचाने के लिए सुरक्षाबलों पर पत्थरबाज़ी, जवाबी कार्रवाई में कई घायल         BIG NEWS : पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर तौफीक उमर को कोरोना, अब पाकिस्तान में 54 हजार के पार         महाराष्ट्र में खुल सकते है 15 जून से स्कूल , शिक्षा मंत्री ने दिए संकेत         BIG NEWS : सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप आतंकी सहयोगी वसीम गनी समेत 4 आतंकी को किया गिरफ्तार         आतंकी साजिश नाकाम : सुरक्षाबलों ने पुलवामा में आईईडी बम बरामद         BREAKING: नहीं रहे कांग्रेस के विधायक राजेंद्र सिंह         पानी रे पानी : मंत्री जी, ये आप की राजधानी रांची है..।         BIG NEWS : कल दो महीने बाद नौ फ्लाइट आएंगी रांची, एयरपोर्ट पर हर यात्री का होगा टेस्ट         BIG NEWS : भाजपा के ताइवान प्रेम से चिढ़ा ड्रैगन, चीन ने दर्ज कराई आपत्ति         सिर्फ विरोध से विकास का रास्ता नहीं बनता....         सीमा पर चीन ने बढ़ाई सैन्य ताकत, मशीनें सहित 100 टेंट लगाए, भारतीय सेना ने भी सैनिक बढ़ाए         BIG NEWS : केजरीवाल सरकार ने सिक्किम को बताया अलग राष्ट्र         महिला पर महिलाओं द्वारा हिंसा.... कश्मकश में प्रशासन !         BIG NEWS : वैष्णों देवी धाम में रोज़ाना 500 मुस्लिमों की सहरी-इफ्तारी की व्यवस्था         विस्तारवादी चीन हांगकांग पर फिर से शिकंजा कसने की तैयारी में, विरोध-प्रर्दशन शुरू         BIG NEWS : स्पेशल ट्रेन की चेन पुलिंग कर 17 मजदूर रास्ते में ही उतरे         भक्ति का मोदी काल ---         अम्फान कहर के कई चेहरे, एरियल व्यू देख पीएम मोदी..!         महिला को अर्द्धनग्न कर घुमाया गया !         टिड्डा सारी हरियाली चट कर जाएगा...         'बनिया सामाजिक तस्कर, उस पर वरदहस्त ब्राह्मणों का'         इतिहास जो हमें पढ़ाया नहीं गया...         झारखंड : शुक्रवार को 15 कोरोना         BIG NEWS : जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा प्लेन, कई घरों में लगी आग, जीवन बचाने के लिए भागे लोग         BIG NEWS : पाकिस्तान की फ्लाइट क्रैश, विमान में सवार सभी 107 लोगों की मौत         BIG NEWS : मधु कोड़ा के केवल चुनाव लड़ने के लिए दोषी होने पर रोक लगाना ठीक नहीं : दिल्ली हाई कोर्ट         BIG NEWS : तीन और महीने के लिए टली ईएमआई, 31 अगस्त तक बढ़ाया         BIG NEWS : आज से आरक्षित टिकटों की बुकिंग रेलवे काउंटर से शुरू         चीन के बाद अब पाक ने बढ़ाई सीमा पर ताकत, तोपें और अतिरिक्त सैन्य डिवीजन तैनात          BIG STORY : झारखंड के लिए शिक्षा माने भीक्षा....         BIG NEWS : पाकिस्तान ने सरकारी मैप में सुधारी गलती ! गिलगित-बल्तिस्तान और मीरपुर-मुजफ्फराबाद भारत का हिस्सा         BIG NEWS : अम्फान तूफान, तबाही के निशान        

‘डरो मत अभी मैं जिन्दा हूँ’: जयप्रकाश नारायण !!

Bhola Tiwari Oct 14, 2019, 6:16 AM IST कॉलमलिस्ट
img


नीरज कृष्ण

हर खासो-आम को आगाह किया जाता है कि खबरदार रहें.......

अपने-अपने किवाड़ों को अन्दर से

कुण्डी चढ़ाकर बन्द कर लें

क्योंकि

एक बहत्तर बरस का बूढ़ा आदमी

अपनी काँपती कमजोर आवाज में

सड़कों पर सच बोलता हुआ निकल पड़ा है.... @मुनादी (धर्मवीर भारती)

जेपी स्वतंत्रता एवं लोकतांत्रिक व्यवस्था की स्थापना के लिए महात्मा गाँधी के बाद बाद अकेले ऐसे नेता के रूप में याद किये जाते हैं जिन्होंने अपनी ऐतिहासिक भूमिकाओं का निर्वाह कर देश की लोकतांत्रिकता की रक्षा की। एक ऐसे नेता जिसने सत्ता के शीर्ष पे बैठे लोगो को धुल चटा दी, मगर खुद कभी भी किसी पद से चिपके रहना पसंद नही किया, जिसने हुंकार भरी – “सिंहासन खाली करो की जनता आती है” (रामधारी सिंह की कविता)।

1974 में वी एम् तर्कुंदे के साथ मिल कर Citizens for democracy और 1976 में People’s Union for Civil Liberties के नाम से एक एन जी ओ का गठन समाजसेवा और नागरिक अधिकारों के लिए किया। जे पी ने 5 जून, 1975 को पटना के गांधी मैदान में विशाल जनसमूह को संबोधित किया। यहीं उन्हें ‘लोकनायक’ की उपाधि दी गई थी।

गाँधी मैदान में उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा था कि “मेरी रुचि इस बात में नहीं की कैसे सत्ता हासिल की जाये, बल्कि इस बात में है कि कैसे नियंत्रण जनता के हाथ में दे दिया जाये।“ जयप्रकाश गाँधीजी की तरह ही देश की असली समस्याओं से गहराई से जुड़े थे। उन्होंने भी गाँधी की तरह यह महसूस किया था कि भारत की साधारण जनता की मुख्य समस्या है - भूख, गरीबी और सामाजिक असमानता, भूमि और संपत्ति का असमान वितरण। उन्होंने इसे दूर करने के लिए जीवन भर संघर्ष किया। जनप्रतिनिधियों को वापस बुलाने की मांग जयप्रकाश नारायण ने 1973-74 के बिहार आंदोलन के दौरान की थी।

कुछ दिनों पूर्व जेपी की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था कि लोकनायक ने आपातकाल के खिलाफ लड़ाई लड़ी। ये बिलकुल सही है आपातकाल के खिलाफ उन्होंने निर्णायक लड़ाई लड़ी और उन्हें सफलता भी मिली, मगर दुर्भाग्य से उस क्रांति से उपजे हुए फसल आज खुद ही आपातकाल की भाषा बोल रहे हैं। जिस कांग्रेस के खिलाफ जेपी लड़ते हुए अपनी जान गवां दी और आज उन्ही के लम्पट चेले उसी कांग्रेस के साथ बैठ कर सत्ता के गलियारे में आज राजनीतिक रोटी सेक रहे हैं। हिन्दू संस्कृति में यह मान्यता है कि ‘आत्मा’ अमर है यदि इसमें रत्ती भर भी सच्चाई है तो निश्चित ही आज जेपी की आत्मा कराहती होगी।

वर्तमान भारत के इतिहास में 11 अक्टूबर बहुत ही महत्व है। जहाँ आज लोकनायक का जन्मदिन है वहीँ दूसरी तरफ आज महानायक(बोलीबूड) का भी जन्मदिन है और दुःख होता है देख और सुनकर कि आज लोकनायक पर महानायक भारी दिख रहा है।

‘भारत रत्न’ जयप्रकाश ने जिन मूल्यों एवं उद्देश्य के लिए संघर्ष किया था, वे तो पूरे नहीं हुए - ठीक उसी तरह जैसे गांधी सिर्फ इतिहास की चीज होकर रह गए। किंतु जनतंत्र के सामने कभी सिर नहीं झुकाने वाला, कभी कुर्सी और पद की चाहत नहीं रखने वाला गांधी और जयप्रकाश जैसा व्यक्तित्व सदियों तक याद रखा जाएगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links