ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल पीएम के बिगड़े बोल, कहा – “नेपाल में हुआ था भगवान राम का जन्म, नेपाली थे भगवान राम”         CBSE 12वीं का रिजल्ट : देश में 88.78% स्टूडेंट पास         BIG NEWS : सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू पहुंचे, सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा         अनंतनाग एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर         बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल        

डोनाल्ड ट्रंप की धमकी बेअसर,तुर्की ने सीरियाई कुर्दो पर फिर हवाई हमला किया

Bhola Tiwari Oct 10, 2019, 12:38 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

तीन दिन पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि उत्तरी सीरिया से अमरीकी फौजों के हटाने के बाद अगर तुर्की "अपनी हदें पार करता है" तो वो उसकी अर्थव्यवस्था को तबाह कर देंगें।अमेरिकी राष्ट्रपति के चेतावनी के 72 घंटे के अंदर तुर्की ने उत्तरी सीरिया स्थित कुर्दों के इलाके पर फाइटर प्लेन से हमला किया,जिसमें दर्जनों कुर्द लडाकों के मारे जाने की खबर है और उनके बस्तियों को काफी नुकसान पहुँचाया गया है।

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब आर्दोआन ने ट्विटर पर इसकी जानकारी देते हुए कहा कि तुर्की ने उत्तरी सीरिया में कुर्दिश लडाकों के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है।तुर्की के सशस्त्र बलों ने सीरियन नेशनल आर्मी(तुर्की का समर्थन करने वाला सीरियन विद्रोही समूह)के साथ मिलकर कभी "आँपरेशन पीस स्प्रिंग" शुरू किया है।हमारा मिशन हमारी दक्षिणी सीमा पर एक आतंकी गलियारे के निर्माण को रोकना और क्षेत्र में शांति लाना है।


गौरतलब है कि सीरिया में आईएसआईएस के विरुद्ध लड़ाई में कुर्दों ने अमरीका का खुलकर साथ दिया था।आईएसआईएस के पतन में कुर्दिश लडाकों का महत्वपूर्ण योगदान है मगर अमेरिका के फितूरी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2018 में ये ऐलान करके सबको चौका दिया कि अमेरिका अपने सैनिकों को उत्तरी-पूर्वी सीरिया और तुर्की की सीमा वाले इलाके से हटा रहा है।ट्रंप के ऐलान से इस इलाके के भविष्य को लेकर सवाल उठ रहें हैं।ट्रंप ने कुर्दों से बहुत कुछ वायदा किया था मगर लगता है वे अपने वायदे भूल रहें हैं और कुर्दिश अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं।

दरअसल तुर्की के राष्ट्रपति आर्दोआन सीरियाई सीमा से लगे 32 किलोमीटर इलाके को सुरक्षित क्षेत्र के तौर पर विकसित करना चाहते हैं, जहाँ कुर्द लड़ाके मौजूद न हों।दूसरी तरफ कुर्द नेतृत्व वाले सैन्य बल का कहना है कि वह अपने क्षेत्र की सुरक्षा करेगा।इस समूह ने यह भी कहा है कि अमरीकी सैनिकों के यहाँ से लौटने पर यह इलाका युद्ध क्षेत्र में तब्दील होने वाला है और इस्लामिक स्टेट के फिर से सक्रिय होने का खतरा उत्पन्न हो गया है।

तुर्की की कुर्दों से अदावत बहुत पुरानी है,तुर्की में कुर्दों की आबादी कुल आबादी का लगभग 20% है।पहले विश्वयुद्ध में आँटोमन साम्राज्य की हार के बाद पश्चिमी सहयोगी देशों ने 192 में संधि कर कुर्दों के लिए अलग देश बनाने की बात कही थी।1923 में तुर्की के नेता मुस्तफा कमाल पाशा, जिसे आधुनिक तुर्की का निर्माता भी कहा जाता है ने इस संधि को खारिज कर दिया था।तुर्की की सेना ने संधि के कुछ साल बाद हीं कुर्दों के आंदोलन को कुचल दिया था।तभी से ये दोनों एक दूसरे के दुश्मन बनें हैं।

आपको बता दें कुर्दिश तुर्की ,इराक,ईरान और अर्मेनिया में बडी मात्रा में रहते हैं।इनकी कचल जनसंख्या ढाई से तीन करोड़ के बीच है,कुर्द मध्यपूर्व में चौथे सबसे बड़े जातीय समूह हैं।इतनी बडी आबादी के बावजूद इनका कोई देश नहीं है।लगभग सभी देशों ने इनका संहार किया है।सद्दाम हुसैन के शासनकाल में बडे पैमाने पर कुर्दों की हत्या हुई थी,इराक में सामूहिक कब्रें इसके प्रत्यक्ष प्रमाण हैं।

अब ये देखना महत्वपूर्ण होगा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप वाकई तुर्की पर कोई मारक कार्रवाई करते हैं या कुर्दों को "यूज एंड थ्रो" होना पडेगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links