ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल पीएम के बिगड़े बोल, कहा – “नेपाल में हुआ था भगवान राम का जन्म, नेपाली थे भगवान राम”         CBSE 12वीं का रिजल्ट : देश में 88.78% स्टूडेंट पास         BIG NEWS : सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू पहुंचे, सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा         अनंतनाग एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर         बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल        

बदहवाल पाकिस्तान एक और "तख्तापलट" की तरफ अग्रसर

Bhola Tiwari Oct 09, 2019, 7:59 AM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा ने पाकिस्तान को आर्थिक बदहवासी से निकालने के लिए कमर कस ली है।एक हफ्ते पहले उन्होंने सरकार से इतर उद्योगपतियों और आर्थिक विशेषज्ञों की एक बैठक बुलाई थी,जिसमें उन्होंने सभी से सुझाव मांगे थे।गौरतलब है कि ये बैठक जनरल बाजवा ने वजीरेआजम इमरान खान की अनुमति के बिना बुलाई थी,जिसमें सरकार से संबंधित किसी भी अधिकारी को आमंत्रित नहीं किया गया था।पाकिस्तान के सभी अखबारों ने चटकारे लेकर इस खबर को छापा था।सभी प्रमुख अखबारों ने इसे "आर्थिक तख्तापलट" कहा और अंदेशा जताया कि पाकिस्तान एक और सैन्य शासन की तरफ बढ़ रहा है।


आपको बता दें इमरान खान को वजीरेआजम बनाने में सेना और आईएसआई का पूरा हाथ है।सेना इमरान खान को कठपुतली की तरह नचाना चाहती थी और वो अपने मकसद में कामयाब भी रही।

सेनाप्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को इमरान खान ने तीन साल का सेवा विस्तार भी दिया मगर अब इमरान खान बाजवा के निशाने पर हैं।बाजवा की महत्वाकांक्षा सर चढ़ बोल रही है,यद्यपि इमरान खान उनसे बिना पूछे कोई काम नहीं करते मगर सेना सर्जिकल स्ट्राइक का ठीकरा इमरान खान के सर हीं फोड़ना चाहती है।कहते हैं कि पाकिस्तानी सेना अपनी साख बचाने के लिए इमरान खान को बलि का बकरा बनाना चाहती है।सेना एक सुनहरे मौके की तलाश में है जो जल्द हीं उसे मिल जाएगा।

चीन का शीर्ष नेतृत्व इस बात को अच्छी तरह समझ रहा है कि बाजवा कभी भी टेकओवर कर सकते हैं, इस वजह से उन्होंने इमरान खान और बाजवा को चीन बुलाया है।पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डाँन ने लिखा है कि जनरल बाजवा देश में अपने लिए और बड़ी भूमिका चाहते हैं।चीन के प्रधानमंत्री ली क्विंग के साथ बैठक में इमरान खान के साथ सेना प्रमुख बाजवा भी साथ थे।इसके बाद बाजवा अलग से चीन के केंद्रीय सैन्य आयोग के उप प्रमुख शु क्लियांग से मुलाकात की और दोनों देशों के संबंधों पर चर्चा की।आपको बता दें अपने एक साल के शासन में इमरान खान तीन बार चीन की यात्रा कर चुके हैं।

अगर सेना शासन को अपने हाथ में लेती है तो ये पाकिस्तान के लिए कोई नई बात नहीं है।पाकिस्तान में 1947 से अब तक तीन बार सैन्य तख्तापलट हो चुका है और यह देश अस्तित्व में आने के बाद आधे से ज्यादा समय तक सैन्य शासन में हीं रहा है।पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की मौत के बाद पाकिस्तान में द्वितीय पंक्ति में कोई असरदार नेता नहीं बचा था,या यूँ कहें जिन्ना ने किसी को उभरने नहीं दिया था।आजादी के नौ साल बाद तक पाकिस्तान में संविधान नहीं बन पाया।इस दौरान बिना संविधान और राजनीतिक स्थिरता के चार प्रधानमंत्री, चार गवर्नर जनरल और एक राष्ट्रपति ने देश पर शासन भी कर लिया।

स्कंद मिर्जा जब पाकिस्तान के राष्ट्रपति बने तो उन्होंने अपने खासमखास जनरल अयूब खान को चीफ आँफ आर्मी स्टाफ बना दिया,मगर उन्हें ये नहीं पता था कि उनका हीं वफादार सेनापति उनका तख्तापलट करने वाला है।07 अक्टूबर 1958 को अतिमहत्वाकांक्षी जनरल अयूब खान ने राष्ट्रपति स्कंद मिर्जा को अपदस्थ कर शासन-सत्ता अपने हाथ में ले ली।उस दिन पहली बार पाकिस्तान ने लोकतंत्र में सैन्य हस्तक्षेप को अपनी नंगी आँखों से देखा था।वो जो सिलसिला जनरल अयूब खान ने शुरू किया था आज भी बदस्तूर जारी है।

जनरल अयूब खान ने पूरे नौ साल पाकिस्तान पर शासन किया और फिर सन् 1969 में एक और जनरल याह्या खान ने तख्तापलट कर ये सिद्ध कर दिया कि पाकिस्तान की शासन-सत्ता ऐसे हीं चलेगी।

याह्या खान ने दिखावे के लिए चुनाव करवाया और जुल्फिकार अली भुट्टो देश के प्रधानमंत्री बनें।भुट्टो ने जनरल जियाउल हक को सेना प्रमुख बनाया।जनरल जियाउल हक ने 04 जुलाई 1977 को लोकतांत्रिक तरीके से चुने गए वजीरेआजम भुट्टो को अपदस्थ कर देश में मार्शल लाँ लगा दिया।ये पाकिस्तान के इतिहास में सबसे लंबे समय तक चलने वाला मार्शल लाँ था।लोकतंत्र फिर सर न उठा ले इस वजह से भुट्टो को फांसी पर लटका दिया गया और पाकिस्तान चुपचाप देश में हो रही लोकतंत्र की हत्या को देखता रहा।

भुट्टो की हत्या का परिणाम जनरव जियाउल हक को जल्द हीं मिल गया।ऊपर वाले ने नैसर्गिक इंसाफ करते हुए जनरल जियाउल हक को भी वहीं पहुँचा दिया जहाँ भुट्टो गए थे।एक विमान दुर्घटना में जनरल जियाउल हक की दर्दनाक मौत हो गई।

1997 के आम चुनाव में नवाज शरीफ की पार्टी की जीत हुई और वे वजीरेआजम बने।नवाज शरीफ ने जनरल परवेज मुशर्रफ को नया चीफ आँफ आर्मी स्टाफ नियुक्त किया।थोडे हीं दिनों में नवाज शरीफ को ये एहसास हो गया था कि उन्होंने जनरल परवेज मुशर्रफ की नियुक्ति कर गलती कर दी है।श्रीलंका दौरे पर हीं नवाज शरीफ ने जनरल परवेज मुशर्रफ को हटाकर जनरल अजीज को नया चीफ आँफ आर्मी स्टाफ नियुक्त किया, मगर दुर्भाग्य से जनरल अजीज परवेज मुशर्रफ के हीं साथी थे।जनरल परवेज मुशर्रफ ने नवाज शरीफ की सरकार को अपदस्थ कर उन्हें और उनके बहुत से समर्थकों को जेल में ठूंस दिया।

आज जनरल मुशर्रफ देश से बाहर हैं और उनके ऊपर बहुत से मुकदमे लंबित हैं।जिस दिन वे पाकिस्तान में कदम रखेंगे गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।

ये अजब पाकिस्तान की गजब कहानी है।अब हम पाकिस्तान में चौथे तख्तापलट के इंतजार में हैं जो सन्निकट है।जनरल बाजवा की महत्वकांक्षा अपने चरम पे है और वे कभी भी सत्ता अपने हाथ में ले सकते हैं।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links