ब्रेकिंग न्यूज़
शाहीन बाग : कई लोगों की नौकरी गई, धरना जारी रहेगा         शरजील इमाम बिहार के जहानाबाद से गिरफ़्तार         हेमंत सोरेन का पहला मंत्रिमंडल विस्तार : जेएमएम से 5 तो कांग्रेस के दो विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ         तामझाम के साथ अमित शाह के सामने बाबूलाल मरांडी की भाजपा में होगी एंट्री, जेपी नड्डा भी रहेंगे मौजूद         BJP सत्ता में आई तो एक घंटे में खाली होगा शाहीन बाग का प्रदर्शन : प्रवेश वर्मा         हेमंत मंत्रिमंडल का विस्तार : जेएमएम से 5 और कांग्रेस से 2 विधायक होंगे मंत्री         ...तो यह शाहीन चार दिन में गोरैया बन जाएगा         झारखंड: लालू यादव से जेल में मिलकर भावुक हुईं राबड़ी,बेटी मीसा भी रही मौजूद         हेमंत सोरेन का कैबिनेट विस्तार कल, 8 विधायक ले सकते हैं मंत्री पद की शपथ         चाईबासा नरसंहार : पत्‍थलगड़ी नेता समेत 15 आरोपी गिरफ्तार, सभी को भेजा गया जेल         केंद्र सरकार ने "भीमा कोरेगांव केस" की जाँच महाराष्ट्र सरकार की अनुमति के बगैर "एनआईए" को सौंपा, महाराष्ट्र सरकार नाराज         तेरा तमाशा, शुभान अल्लाह..         आर्यावर्त में बांग्लादेशियों की पहचान...         जंगलों का हत्यारा, धरती का दुश्मन...         लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...        

9 पूजा 10वां दिन जतरा !

Bhola Tiwari Oct 08, 2019, 4:15 PM IST टॉप न्यूज़
img


रंजीत कुमार

पंडी जी, कतेक पूजा कहिया जतरा? तब नवरात्र को लेकर हमारी कुल जमा जिज्ञाशा का सारांश यही था कि जात्रा यानी विजयादशमी कब है? इसलिए हम गांव के पंडित जी लोगों से बस इतना ही सवाल करते थे। लगभग हर साल उनका यही जवाब होता था- 9 पूजा दसम जतरा! मगर कभी-कभी उनकी गणना हमारे पक्ष में भी बैठ जाती थी और वे कहते थे- एहि बेर 8 दिन पूजा नवम जतरा। यानी इस बार मेला की प्रतीक्षा दो दिन छोटी होगी। तब हम सोचते थे कि क्या पंडी जी के पतड़ा (पञ्चाङ्ग ) में कोई ऐसा हेरफेर नहीं किया जा सकता कि 9 दिन जतरा हो और 10वें दिन पूजा! 9 दिन जतरा का अर्थ होगा, हम बच्चों को 9 दिन मेला करने का अवसर मिलेगा और उन खड़ूस कड़ियल बड़े-बुजूर्गों को स्नान-ध्यान, पूजा-पाठ, मंत्रोचार के लिए केवल एक दिन मिलेगा। मगर ऐसा नहीं होना था, सो नहीं हुआ।

बचपन बीत जाने के बाद हर कोई बड़े-बुजूर्ग हो गए। हां, खड़ूस और कड़िलयल भी। वे भी कलश स्थापन के दिन से अपने बच्चों के लिए अपने पिता-चाचा-दादा-दादी की तरह हो जाते हैं। खुद भी सुबह से पूजा-पाठ के विधि-विधान में लग जाते हैं और बच्चों को लगा देते हैं- आठ बज गए, नहाया क्यों नहीं अब तक, फूल तोड़ा कि नहीं, धूमन लाओ, चंदन लाओ, तुम पंडित जी के यहां से दुर्गा पोथी ले आओ और तुम अजैया कें दुकान से अगरबत्ती ले आओ... आदेश पर आदेश... बच्चे तंग...

मगर मैं नहीं हुआ। अपन बिगड़ा हुआ बच्चा ही रहा... बस पांच मिनट में पूजा-पाठ पूरा कर लेता हूं। पूजा का सामान पूरा रहे या कम रहे, कोई दिक्कत नहीं। किसी बच्चे को कोई आदेश नहीं। बगल में बच्चे हल्ला करता रहे तो करता रहे। मुझे कोई दिक्कत नहीं। कभी-कभी तो महज देवी प्रणाम, उन्हें श्रद्धा पूर्वक स्मरण कर एक मिनट ही पूजा हो जाती है अपनी। हां, जतरा के दिन अपन का आडंबर आज भी वैसा ही है। मालूम है कि अब नीलकंठ के दर्शन संभव नहीं। तो भी सबेरे-सबेर बाइक लेकर चारों ओर बौख आया। हर बांस, पीपल, जंगल-झाड़ को तलाश आया। उस दौर में इतने परिश्रम से पांच-दस नीलकंठ के दर्शन हो जाते थे। अब नहीं होते, इसका मलाल जरूर रहता है। मगर असल आनंद तो नीलकंठ की तलाश है... हां, याद है। याद है- बचपन में भी असल सुख नीलकंठ को तलाश लेने में नहीं होता था, बल्कि तलाश में बौखने से होता था। इसके बाद मेले की तैयारी। मेले में खरीदे जाने वाले सामान की सूची, फूकना लेंगे, बंदूक लेंगे, पिपही लेंगे चार ठो, हां इस बार पिरका घड़ी भी लेंगे। अगर बुजूर्गों ने इजाजत दी तो शाम वाला नाच का भी दो-चार झलक ले लेंगे...एको ठो पैसा जेब में बचे नहीं रहने देंगे। 

तो साथियो, मेला का समय हुआ चाहता है। अपन निकलता है.... जेब में ज्यादा नहीं, मगर जो है वो खरिच कर ही लौटेंगे। देसी नाच तो अब कहीं होता नहीं, इसलिए शाम को जल्द ही लौटना पड़ेगा। क्या कहा- आर्केस्ट्रा, जागरण ? माफ कीजिए- इस सब में अपन को कोई दिलचस्पी नहीं। 

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links