ब्रेकिंग न्यूज़
मां लक्ष्मी का ऐसा मंदिर, जहां एक सिक्के से होती है हर इच्छा पूरी         इस शिवलिंग में हैं एक लाख छिद्र, यहां छुपा है पाताल का रास्ता         विपक्ष करता रहा हंगामा और मोदी सरकार ने राज्यसभा में भी पास कराए कृषि बिल, किसानों को कहीं भी फसल बेचने की आजादी         पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप         BIG NEWS : एक पत्रकार, चीनी महिला और नेपाली नागरिक गिरफ्तार, चीन को खुफिया जानकारी देने का आरोप         जम्मू कश्मीर में बड़े आर्थिक पैकेज की घोषणा : बिजली-पानी के बिलों पर एक साल तक 50 प्रतिशत की छूट का ऐलान         ऐसा मंदिर जहां चूहों को भोग लगाने से प्रसन्न होती है माता         यहां भोलेनाथ ने पांडवों को दिए शिवलिंग के रूप में दर्शन !         BIG NEWS : राजौरी में लश्कर-ए-तैयबा के 3 आतंकी गिरफ्तार, 1 लाख रुपये समेत AK-56 राइफल बरामद         BIG NEWS : आतंकी संगठन अल-कायदा मॉड्यूल का  भंडाफोड़, 9 आतंकी गिरफ्तार         BIG NEWS : पश्चिम बंगाल और केरल में एनआईए की छापेमारी, अल-कायदा के नौ आतंकी गिरफ्तार         BIG NEWS : दिशा सालियान के साथ चार लोगों ने कियारेप !         अनिल धस्माना को NTRO का बनाया गया अध्यक्ष         जहां शिवलिंग पर हर बारह साल में गिरती है बिजली         BIG NEWS : पाकिस्तान की नई चाल, गिलगित-बल्तिस्तान को प्रांत का दर्जा देकर चुनाव कराने की तैयारी         BIG NEWS : सहायक पुलिस कर्मियों पर लाठीचार्ज, कई घायल, आंसू गैस के गोले छोड़े         BIG NEWS : सर्दी के मौसम में लद्दाख में मोर्चाबंदी के लिए सेना पूरी तरह तैयार          “LAC पर चीन को भारत के साथ मिलकर सैनिकों की वापसी प्रक्रिया पर काम करना चाहिए” :  विदेश मंत्रालय प्रवक्ता         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर पहुंचे सेनाध्यक्ष ने सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा, उपराज्यपाल से भी की मुलाकात         BIG NEWS : 'मैं भी मारा जाऊंगा'         एक ऐसा मंदिर जहां पार्वतीजी होम क्वारैंटाइन में और महादेव कर रहे हैं इंतजार         अदृश्य भक्त करता है रोज भगवान शिव की आराधना , कौन है वो ?         BIG NEWS : सुरक्षाबलों ने जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी ठिकाना ढूंढ निकाला, भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद         BIG NEWS : “भारत बड़ा और कड़ा क़दम उठाने के लिए तैयार”: राजनाथ सिंह         BIG NEWS : श्रीनगर एनकाउंटर में तीन आतंकियों को मार गिराया         इलाहाबाद में एक मंदिर ऐसा, जहां लेटे हैं हनुमान जी         यहां भगवान शिव के पद चिन्ह है मौजूद         BIG NEWS : दोनों देशों की सेनाओं के बीच 20 दिन में तीन बार हुई फायरिंग         BIG NEWS : मॉस्को में विदेश मंत्रियों की मुलाकात से पहले पैंगोंग सो झील के किनारे चली थी 100-200 राउंड गोलियां- मीडिया रिपोर्ट         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने सुंदरबनी सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         CBI को दिशा सलियान की मौत की गुत्थी सुलझाने वाले कड़ी की तलाश !         हर साल बढ़ जाती है इस शिवलिंग की लंबाई, कहते हैं इसके नीचे छिपी है मणि         कलयुग में यहां बसते हैं भगवान विष्णु...         BIG NEWS : देश से बाहर प्याज निर्यात पर प्रतिबंध         BIG NEWS :  LAC पर हालात बिल्कुल अलग, हम हर परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार : राजनाथ सिंह         

9 पूजा 10वां दिन जतरा !

Bhola Tiwari Oct 08, 2019, 4:15 PM IST टॉप न्यूज़
img


रंजीत कुमार

पंडी जी, कतेक पूजा कहिया जतरा? तब नवरात्र को लेकर हमारी कुल जमा जिज्ञाशा का सारांश यही था कि जात्रा यानी विजयादशमी कब है? इसलिए हम गांव के पंडित जी लोगों से बस इतना ही सवाल करते थे। लगभग हर साल उनका यही जवाब होता था- 9 पूजा दसम जतरा! मगर कभी-कभी उनकी गणना हमारे पक्ष में भी बैठ जाती थी और वे कहते थे- एहि बेर 8 दिन पूजा नवम जतरा। यानी इस बार मेला की प्रतीक्षा दो दिन छोटी होगी। तब हम सोचते थे कि क्या पंडी जी के पतड़ा (पञ्चाङ्ग ) में कोई ऐसा हेरफेर नहीं किया जा सकता कि 9 दिन जतरा हो और 10वें दिन पूजा! 9 दिन जतरा का अर्थ होगा, हम बच्चों को 9 दिन मेला करने का अवसर मिलेगा और उन खड़ूस कड़ियल बड़े-बुजूर्गों को स्नान-ध्यान, पूजा-पाठ, मंत्रोचार के लिए केवल एक दिन मिलेगा। मगर ऐसा नहीं होना था, सो नहीं हुआ।

बचपन बीत जाने के बाद हर कोई बड़े-बुजूर्ग हो गए। हां, खड़ूस और कड़िलयल भी। वे भी कलश स्थापन के दिन से अपने बच्चों के लिए अपने पिता-चाचा-दादा-दादी की तरह हो जाते हैं। खुद भी सुबह से पूजा-पाठ के विधि-विधान में लग जाते हैं और बच्चों को लगा देते हैं- आठ बज गए, नहाया क्यों नहीं अब तक, फूल तोड़ा कि नहीं, धूमन लाओ, चंदन लाओ, तुम पंडित जी के यहां से दुर्गा पोथी ले आओ और तुम अजैया कें दुकान से अगरबत्ती ले आओ... आदेश पर आदेश... बच्चे तंग...

मगर मैं नहीं हुआ। अपन बिगड़ा हुआ बच्चा ही रहा... बस पांच मिनट में पूजा-पाठ पूरा कर लेता हूं। पूजा का सामान पूरा रहे या कम रहे, कोई दिक्कत नहीं। किसी बच्चे को कोई आदेश नहीं। बगल में बच्चे हल्ला करता रहे तो करता रहे। मुझे कोई दिक्कत नहीं। कभी-कभी तो महज देवी प्रणाम, उन्हें श्रद्धा पूर्वक स्मरण कर एक मिनट ही पूजा हो जाती है अपनी। हां, जतरा के दिन अपन का आडंबर आज भी वैसा ही है। मालूम है कि अब नीलकंठ के दर्शन संभव नहीं। तो भी सबेरे-सबेर बाइक लेकर चारों ओर बौख आया। हर बांस, पीपल, जंगल-झाड़ को तलाश आया। उस दौर में इतने परिश्रम से पांच-दस नीलकंठ के दर्शन हो जाते थे। अब नहीं होते, इसका मलाल जरूर रहता है। मगर असल आनंद तो नीलकंठ की तलाश है... हां, याद है। याद है- बचपन में भी असल सुख नीलकंठ को तलाश लेने में नहीं होता था, बल्कि तलाश में बौखने से होता था। इसके बाद मेले की तैयारी। मेले में खरीदे जाने वाले सामान की सूची, फूकना लेंगे, बंदूक लेंगे, पिपही लेंगे चार ठो, हां इस बार पिरका घड़ी भी लेंगे। अगर बुजूर्गों ने इजाजत दी तो शाम वाला नाच का भी दो-चार झलक ले लेंगे...एको ठो पैसा जेब में बचे नहीं रहने देंगे। 

तो साथियो, मेला का समय हुआ चाहता है। अपन निकलता है.... जेब में ज्यादा नहीं, मगर जो है वो खरिच कर ही लौटेंगे। देसी नाच तो अब कहीं होता नहीं, इसलिए शाम को जल्द ही लौटना पड़ेगा। क्या कहा- आर्केस्ट्रा, जागरण ? माफ कीजिए- इस सब में अपन को कोई दिलचस्पी नहीं। 

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links