ब्रेकिंग न्यूज़
बांदीपोरा में 4 OGWS गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : हाफिज सईद समेत 5 आतंकियों के बैंक अकाउंट फिर से बहाल         BIG NEWS : लालू यादव का जेल "दरबार", तस्वीर वायरल         मान लीजिए इंटर में साठ प्रतिशत आए, या कम आए, तो क्या होगा?         BIG NEWS : झारखंड में रविवार को कोरोना संक्रमण से 6 मरीजों की मौत, बंगाल-झारखंड सीमा सील         BIG NEWS : सोपोर में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, अब तक 2 आतंकी ढेर         BIG NEWS : देश में PMAY के क्रियान्वयन में रामगढ़ नंबर वन         BIG NEWS : श्रीनगर में तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरमैन अशरफ सेहराई गिरफ्तार         BIG NEWS : ऐश्वर्या राय बच्चन और आराध्या बच्चन की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव         BIG NEWS : मध्यप्रदेश की राह पर राजस्थान !         अमिताभ बच्चन ने कोरोना के खौफ के बीच सुनाई थी उम्मीद भरी कविता, अब..         .... टिक-टॉक वाले प्रकांड मेधावियों का दस्ता         BIG BRAKING : नक्सलियों नें कोल्हान वन विभाग कार्यालय व गार्ड आवास उड़ाया         BIG NEWS : महानायक अमिताभ बच्चन के बाद अभिषेक बच्चन को भी कोरोना         BIG NEWS : अमिताभ बच्चन करोना पॉजिटिव         BIG NEWS : आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम         अपराधी मारा गया... अपराध जीवित रहा !          BIG NEWS : भारत चीन के बीच बातचीत, सकारात्मक सहमति के कदम आगे बढ़े         BIG NEWS : बारामूला के नौगाम सेक्टर में LOC के पास मुठभेड़, दो आतंकी ढेर         BIG STORY : समरथ को नहिं दोष गोसाईं         शर्मनाक : बाबू दो रुपए दे दो, सुबह से भूखी हूं.. कुछ खा लुंगी         BIG NEWS : वर्चुअल काउंटर टेररिज्म वीक में बोले सिंघवी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, था और रहेगा         BIG NEWS : कानपुर से 17 किमी दूर भौती में मारा गया गैंगेस्टर विकास, एसटीएफ के 4 जवान भी घायल         BIG NEWS : झारखंड के स्कूलों पर 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन         BIG NEWS : चीन के खिलाफ “बायकॉट चाइना” मूवमेंट          पाकिस्तानी सेना ने नौशेरा सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         मुसीबत देश के आम लोगों की है जो बहुत....         BIG NEWS : एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे         बस नाम रहेगा अल्लाह का...         BIG NEWS : सेना के काफिले पर आतंकी हमला, जवान समेत एक महिला घायल         BIG NEWS : लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने की थी बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या         दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत        

गाँधी @150 : कलकत्ता की हिंसा बनाम दिल्ली की हिंसा

Bhola Tiwari Oct 08, 2019, 9:35 AM IST टॉप न्यूज़
img


 नीरज कृष्ण

देश के सभी भागों में जो नफरत, द्वेष और उन्माद की बयार बह रही थी उसका प्रभाव कलकत्ता पे भी पड़ा था। वहां भी छिटपुट घटनाएं हो जा रही थी। गाँधी जी जहाँ थे कलकत्ता में, वहाँ भी हल्की झड़पें हो जा रही थी कभी- कभी। जिसके कारण गाँधी जी बेचैन हो जा रहे थे। तब गाँधी जी ने अपना अंतिम अस्त्र चलाया- 'आमरण अनसन'।

गाँधी जी आमरण अनशन पर बैठ गए और कहा कि कलकत्ता में सच्ची शांति होगी या मैं मरूंगा। लोग गाँधी के जीवन के लिए बेचैन हो गए।उपवास के तीसरे दिन कलकत्ता के 23 भयंकर अपराधियों ने गाँधी जी के सामने आत्मसमर्पण किया। साथ में अपने हथियारों का जखीरा भी लाये। भर्राये हुए आवाज में अपराधियों ने गाँधी से उपवास तोड़ने का आग्रह किया और गांधी से कहा , आप जो भी दंड देंगे, हमें स्वीकार है, पर आप उपवास तोड़ें।

राजगोपालाचारी तब कलकत्ता के गवर्नर थे उन्होंने लिखा कि गांधीजी की अनगिनत उपलब्धियां है। लेकिन कलकत्ता में अमानवीय हरकतों पर उनकी विजय बेमिसाल है। स्वतंत्रता की उपलब्धि से भी बढ़कर , लेकिन दिल्ली में हैवानियत, पाशविकता और क्रूरता का बोलबाला था। चार सितंबर , 1947 को वी पी मेनन ने माउंटबेटन को शिमला से दिल्ली लौटने के लिए फोन किया। मेनन ने कहा कि आप 24 घंटे के अंदर दिल्ली नहीं आयेंगे, तो फिर आने का कोई तक नहीं, क्योंकि मुल्क हमेशा-हमेशा के लिए मिट जायेगा। प्रधानमंत्री और उप प्रधानमंत्री बेहद चिंतित हैं, स्थिति काबू से बाहर है।

माउंटबेटन लौट आये। नेहरू-पटेल ने उन्हें फिर से देश संभालने की गुजारिश किया। माउंटबेटन स्तब्ध थे। उन्होंने कहा भी कि आप लोग क्या करने जा रहे हैं , अपनी आजादी को फिर हमें सौप रहे हैं, नेहरू - पटेल ने देश बचाने के नाम पर विनती की , इमरजेंसी कमेटी बनी। माउंटबेटन ने अपनी इच्छा से उसमें लोगों को रखा। शर्त रखी कि मेरा निर्णय अंतिम होगा। दोनो नेताओं ने सभी शर्ते मान ली और देश का शासक एक बार फिर माउंटबेटन हो गये। यह राज और रहस्य बहुत कम लोगों को पता होगा।

यह था आज के 150 वर्षीय वयोवृद्ध गाँधी का चमत्कार। आम-जन पर गाँधी की पकड़।

फ्रांस , कस्टोरिका ने गाँधी जी के सम्मान में अपने देश के संचार -प्रणाली को उन्हें समर्पित करते हुए सन 2006 में मोबाइल सिम-कार्ड जारी करते हुए कहा था- कि पूरी दुनिया में जितना मजबूत नेटवर्क गाँधी जी का है उतना किसी अन्य का नहीं। हम भी उतनी ही मजबूत नेटवर्क के साथ अपने देश की जनता को संचार प्रणाली (मोबाइल सर्विस) अर्पित कर रहे हैं। भारत ने शायद इस तरफ कभी सोचा भी नही, क्योंकि .......गाँधी अभी समझा जाना शेष है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links