ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार         BIG NEWS : सदियों का संकल्प पूरा हुआ : मोदी         BIG NEWS : लालू प्रसाद यादव को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में किया गया स्विफ्ट         BIG NEWS : अब पाकिस्तान ने नया मैप जारी कर जम्मू कश्मीर, लद्दाख और जूनागढ़ को घोषित किया अपना हिस्सा         हे राम...         BIG NEWS : सुशांत केस CBI को हुआ ट्रांसफर, केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश         BIG NEWS : पीएम मोदी ने अयोध्या में की भूमि पूजन, रखी आधारशिला         BIG NEWS : PM मोदी पहुंचे अयोध्या के द्वार, हनुमानगढ़ी के बाद राम लला की पूजा अर्चना की         BIG NEWS : आदित्य ठाकरे से कंगना रनौत ने पूछे 7 सवाल, कहा- जवाब लेकर आओ         रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक : बेरूत के तट पर खड़े जहाज में ताकतवर ब्लास्ट, 73 की मौत         BIG NEWS : भूमि पूजन को अयोध्या तैयार         रामराज्य बैठे त्रैलोका....         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत से मेरा कोई संबंध नहीं : आदित्य ठाकरे         BIG NEWS : दीपों से जगमगा उठी भगवान राम की नगरी अयोध्या         BIG NEWS : पूर्व मंत्री राजा पीटर और एनोस एक्का को कोरोना, कार्मिक सचिव भी चपेट में         BIG NEWS : अब नियमित दर्शन के लिए खुलेंगे बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर          BIG NEWS : श्रीनगर-बारामूला हाइवे पर मिला IED बम, आतंकी हादसा टला         BIG NEWS : सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह ने किया टॉप, झारखंड के रवि जैन को 9वां रैंक, दीपांकर चौधरी को 42वां रैंक         सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की CBI जांच की सिफारिश         BIG NEWS : आतंकियों ने सेना के एक जवान को किया अगवा          बिहार DGP का बड़ा बयान, विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने के मामले में भेजेंगे प्रोटेस्ट लेटर         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग !         BIG NEWS : दिशा सालियान...सुशांत सिंह राजपूत मौत प्रकरण की अहम कड़ी...         BIG NEWS : पटना पुलिस ने खोजा रिया का ठिकाना, नोटिस भेज कहा- जांच में मदद करिए         BIG NEWS : छद्मवेशी पुलिस के रूप में घटनास्थल पर कुछ लोगों के पहुंचने के संकेत         लिव-इन माने ट्राउबल बिगिन... .          रक्षाबंधन : इस अशुभ पहर में भाई को ना बांधें राखी, ज्योतिषी की चेतावनी         जब मां गंगा को अपनी जटाओं में शिव ने कैद कर लिया...         आज सावन का आखिरी सोमवार, अद्भुत योग, भगवान शिव की पूजा करने से हर मनोकामना होगी पूरी          अन्नकूट मेले को लेकर सजा केदारनाथ, भगवान भोले को चढ़ाया गया नया अनाज         BIG NEWS :  गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने सुशांत सिंह के बैंक अकाउंट से 90 दिनों में 3.24 करोड़ रुपए निकाले         GOOD NEWS : अमिताभ की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, 22 दिन बाद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज         केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कोरोना पॉजिटिव          BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत के मित्र सिद्धार्थ पीठानी को पटना पुलिस सम्मन जारी कर करेगी पूछताछ        

पानी का मूल्य तो अदा करना ही होगा

Bhola Tiwari Oct 08, 2019, 9:08 AM IST टॉप न्यूज़
img


भरत झुनझुनवाला

इसी प्रकार किसान फ्री या सस्ती बिजली उपलब्धता से किसान पानी की अधिक खपत करने वाली फसलों की खेती कर रहा है। प्रश्न उठता है कि पूर्व में ही मर रहे किसान पर पानी के दाम बढ़ाकर अतिरिक्त बोझ डालना क्या उचित होगा? इस समस्या का उपाय है कि पानी की कम खपत करने वाली फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ा दिया जाए। तब उत्तर प्रदेश के किसान के लिए गन्ने के स्थान पर गेहूं और राजस्थान के किसान के लिए लाल मिर्च के स्थान पर बाजरे की खेती करना लाभप्रद होगा। चूंकि गन्ने और लाल मिर्च की खेती में पानी का मूल्य ज्यादा अदा करना होगा, जबकि गेहूं और बाजरे की खेती में दाम ऊंचे मिलेंगे…

नीति आयोग ने चेतावनी दी है कि दिल्ली का भूमिगत जल दो वर्ष में समाप्त हो जाएगा। तापमान बढ़ने से वर्षा का पानी भूमि में कम ही समा रहा है। साथ-साथ दिल्ली की जनसंख्या बढ़ने से पानी की खपत बढ़ रही है। भूमिगत जल का स्तर नीचे गिर रहा है और शीघ्र ही यह समाप्त हो जाएगा। यह परिस्थिति दिल्ली तक सीमित नहीं है, बंगलूर तथा हैदराबाद जैसे महानगरों में भी 2020 तक पानी समाप्त होने या उसकी उपलब्धि बहुत कम हो जाने की संभावना है। यह परिस्थिति विशेषकर चिंताजनक है, चूंकि यूरोपीय महानगरी एम्सटरडैम की तुलना में पानी की प्रति व्यक्ति उपलब्धता दिल्ली में ज्यादा है। चीन की जनसंख्या हमसे अधिक है, फिर भी वह देश हमारी तुलना में 28 प्रतिशत कम पानी का उपयोग कर रहा है। हमारे पास पर्याप्त पानी है, परंतु गलत नीतियों के कारण हम संकट में अनायास ही पड़ रहे हैं। लगभग 80 प्रतिशत पानी का उपयोग खेती में किया जाता है। बाजरा और रांगी जैसी फसलें बिना सिंचाई के ही पैदा हो जाती हैं। गेहूं और चावल जैसी फसलों को एक या दो बार पानी दे दिया जाए, तो ठीक-ठाक हो जाती हैं, लेकिन अंगूर, गन्ने और लाल मिर्च को 15 से 20 बार पानी देना होता है। इन फसलों के उत्पादन में पानी का अधिक उपयोग होने से कई राज्यों में जल संकट पैदा हो रहा है। कर्नाटक में अंगूर, उत्तर प्रदेश में गन्ना और राजस्थान में लाल मिर्च की खेती के लिए हम पानी का अधिक मात्रा में उपयोग कर रहे हैं। किसान का प्रयास रहता है कि वह अधिकाधिक लाभ कमाए। वह हिसाब करता है कि एक अतिरिक्त सिंचाई करने में उसका खर्च कितना बैठेगा और बढ़ी हुई फसल से लाभ कितना मिलेगा, जैसे-मान लीजिए 20 सिंचाई समेत लाल मिर्च के उत्पादन का खर्च 20,000 रुपए बैठता है, जबकि लाल मिर्च 25,000 रुपए में बिकती है, तो किसान लाल मिर्च का उत्पादन करेगा।

इसके विपरीत यदि पानी महंगा होने के कारण उसी उत्पादन का खर्च 30,000 रुपए बैठे, तो किसान लाल मिर्च के स्थान पर बाजरे जैसी किसी दूसरी फसल का उत्पादन करेगा, जिसे पानी की कम जरूरत पड़ती है। पानी महंगा होगा, तो किसान उसका कम उपयोग करेगा। पानी सस्ता होगा, तो किसान उसका अधिक उपयोग करेगा। अपने देश में नहर का पानी बहुत सस्ता है। किसान द्वारा क्षेत्र के हिसाब से एक बार मूल्य अदा कर दिया जाए, तो वह कितनी भी बार सिंचाई कर सकता है, जैसे-अनलिमिटेड थाली का एक बार मूल्य अदा करने के बाद आप जितनी चाहे उतनी बार रोटी खा सकते हैं। यह व्यवस्था किसान को पानी की अधिक खपत करने वाली फसलों की खेती करने के लिए प्रेरणा देती है, चूंकि उसे पानी का मूल्य उतना ही देना है, चाहे एक सिंचाई करे या 20 सिंचाई। इसी प्रकार किसान फ्री या सस्ती बिजली उपलब्धता से ट्यूबवेल से पानी निकालना सस्ता हो गया है। वह पानी की अधिक खपत करने वाली फसलों की खेती कर रहा है। प्रश्न उठता है कि पूर्व में ही मर रहे किसान पर पानी के दाम बढ़ाकर अतिरिक्त बोझ डालना क्या उचित होगा? इस समस्या का उपाय है कि पानी की कम खपत करने वाली फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ा दिया जाए। तब उत्तर प्रदेश के किसान के लिए गन्ने के स्थान पर गेहूं और राजस्थान के किसान के लिए लाल मिर्च के स्थान पर बाजरे की खेती करना लाभप्रद हो जाएगा। चूंकि गन्ने और लाल मिर्च की खेती में पानी का मूल्य ज्यादा अदा करना होगा, जबकि गेहूं और बाजरे की खेती में दाम ऊंचे मिलेंगे। पानी के संकट का दूसरा कारण पानी का भंडारण बड़े बांधों में करने की पालिसी है।

टिहरी बांध के पीछे 45 किलोमीटर लंबा तालाब बन गया है। इस पानी पर धूप की किरणें पड़ने से पानी का वाष्पीकरण होता है। अनुमान है कि 10 से 15 प्रतिशत पानी इस प्रकार हवा में उड़ जाता है। इसके बाद नहर से पानी को खेत तक पहुंचाने में वाष्पीकरण तथा रिसाव होता है। मेरा अनुमान है कि 25 प्रतिशत पानी की बर्बादी हो जाती है। इस समस्या का उपाय है कि पानी का भंडारण जमीन के ऊपर करने के स्थान पर जमीन के नीचे किया जाए। आपने ट्यूबवेल से पानी निकलता देखा होगा। जमीन के नीचे पानी के तालाब होते हैं। ट्यूबवेल से इन्हीं तालाबों से पानी निकाला जाता है। जमीन के नीचे इन तालाबों की क्षमता बहुत ज्यादा होती है। सेंट्रल ग्राउंड वाटर बोर्ड के अनुसार उत्तर प्रदेश के इन जमीनी तालाबों में 76 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी का भंडारण किया जा सकता है, जो कि टिहरी की 2.6 बिलियन क्यूबिक मीटर की क्षमता से 30 गुणा है। जमीनी तालाबों में पड़े पानी का वाष्पीकरण नहीं होता है। इनसे पानी को मनचाहे स्थान पर ट्यूबवेल से निकाला जा सकता है। नहर बनाने की जरूरत नहीं पड़ती है। नहर से पानी को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में वाष्पीकरण तथा रिसाव नहीं होता है। हां, पानी निकालने में बिजली का खर्च जरूर बढ़ता है, परंतु इस बिजली का मूल्य कम होता है और बचाए गए पानी का मूल्य बहुत अधिक होता है। इसलिए इस खर्च को हमें स्वीकार करना चाहिए। बड़े बांधों में नदी का पानी रुक जाने से बाढ़ कम आती है, जमीन पर पानी कम फैलता है, जमीनी तालाबों में पानी का पुनर्भरण कम होता है, और ट्यूबवेल से सिंचाई भी कम होती है। जैसे यदि यमुना के ऊपर हथनीकुंड आदि में बने पराज को हटा दिया जाए, तो बरसात के समय जमुना का पानी धड़धड़ाकर दिल्ली के चारों तरफ फैलेगा और आसपास के भूमिगत जल का पुनर्भरण हो जाएगा। हां प्रकृति की इस देन को लागू करने के लिए हमें शहर इस प्रकार बसाने पड़ेंगे कि बाढ़ के समय आम आदमी को परेशानी न हो। इनके मकानों का स्तर जमीन से ऊंचा करना होगा। बड़े बांधों से जनित वाष्पीकरण, नहरों से रिसाव तथा बाढ़ कम आने की समस्याओं का उपाय है कि जमीनी तालाबों में वर्षा के पानी का भंडारण किया जाए।

खेत के चारों तरफ मेढ़ बनाकर वर्षा के पानी को ठहराने में जमीनी तालाबों में पुनर्भरण होता है। इस कार्य के लिए किसानों को सहायता देनी चाहिए। मेरा अनुमान है कि टिहरी जैसे बड़े बांध की तुलना में मेढ़ बनाकर उतने ही पानी का भंडारण करने में 10 प्रतिशत खर्च आएगा। लेकिन हमारे मंत्रियों, इंजीनियरों और अधिकारियों को यह पसंद नहीं है, चूंकि मेढ़ बनाने में बड़े ठेके देने के अवसर नहीं रहते हैं। नदियों में बाढ़ के पानी को इंदिरा गांधी नहर से ले जाकर राजस्थान के जमीनी तालाबों में भंडारण भी किया जा सकता है। पानी के संकट का कारण है कि हम शहरवासी सस्ती चीनी और बड़े ठेके चाहते हैं। हमें तय करना है कि हमें सस्ती चीनी चाहिए अथवा नहाने और पीने को पर्याप्त पानी। देश में पर्याप्त पानी उपलब्ध है, परंतु गलत नीतियों को अपनाकर हमने अनायास ही आम आदमी को संकट में डाल दिया है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links