ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

जम्मू कश्मीर में दरबार मूव : राजशी प्रथा और 200 करोड़ का मामला

Bhola Tiwari Oct 05, 2019, 10:18 AM IST टॉप न्यूज़
img

● जम्मू में चार नवंबर को आ जाएगा दरबार, श्रीनगर में 25-26 अक्तूबर काम का आखिरी दिन

जम्मू : जम्मू कश्मीर में सर्दियों की आहट से पहले एक बार फिर दरबार यानि सचिवायल को श्रीनगर से जम्मू शिफ्ट करने की तैयारियां तेज हो गई हैं। ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में 25 अक्तूबर को बंद दरबार शीतकालीन राजधानी जम्मू में 4 नवंबर को खुलेगा। सामान्य प्रशासनिक विभाग के आदेश में सप्ताह में पांच दिन चलने वाले कार्यालय 25 अक्तूबर और छह दिन चलने वाले कार्यालय 26 अक्तूबर को बंद होंगे। सभी विभाग आखिरी दिन रिकार्ड इकट्ठा करेंगे। 21 अक्तूबर को एडवांस पार्टियां रवाना होंगी। जम्मू कश्मीर स्टेट रोड़ ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन को स्टाफ के बसें और फाइलों को जम्मू शिफ्ट कराने के लिए ट्रकों के इंतजाम का आदेश दे दिया गया है। इसके लिए बार फिर 100 करोड़ का अतिरिक्त बोझ सरकारी खजाने को उठाना होगा। 

दरअसल सिविल सचिवालय और हाईकोर्ट के करीब 35 विभागों के 5 हज़ार कर्मचारियों, उनके परिवारों और उनके दस्तावेजों-फाइलों को भी स्थानांतरित किया जाता है। सारा खर्च सरकार वहन करती है। तमाम फाइलों-दस्तावेजों को मूव करने में सैंकड़ों मजदूर, 250 ट्रक और बसें इस्तेमाल की जाती हैं। इसके अलावा कर्मचारियों को 15 हजार तक महंगाई भत्ता अतिरिक्त दिया जाता है। सरकारी अफसरों और उनके परिवार आवास की व्यवस्था और साल में आवास की साज-सजावट का खर्च भी सरकारी खजाने को उठाना पड़ता है।

 इसके अलावा सिविल सचिवालयों और हाईकोर्ट के साथ काम करने वाले प्राइवेट वेंडर्स, कंसलटेंट कंपनियों और संबद्ध प्राइवेट छोटे-मोटे ऑफिस-दुकानों को भी इससे भारी नुकसान उठाना पड़ता है।

रिपोर्ट के मुताबिक साल में दो बार दरबार मूव करने से कामकाम में देरी होती है। इसका असर विकास कार्यों और आम लोगों क जनजीवन पर पड़ता है।

देश के किसी अन्य राज्य में इस तरह की परपंरा नहीं है। ऐसे में जम्मू कश्मीर में भी सरकारी खज़ाने पर बोझ कम करने के लिए इस प्रथा को खत्म करने की मांग हमेशा उठती रही है। 

जानकार मानते हैं कि सर्दियों में श्रीनगर की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए पूरे वर्ष के लिए सचिवालय बनाये रखने के लिए संभव नहीं है। गौरतलब है कि जम्मू में हमेशा के लिए स्थायी सचिवालय बनाये रखना एक कारगर और अचूक हल साबित हो सकता है। जम्मू में पूरे वर्ष मौसम सरकारी कामकाज में किसी तरह की कोई बाधा उत्पन्न नहीं करता। जब राज्य से संबंधित आर्टिकल 370 को हटाकर राज्य को पुनर्गठित कर दिया गया है, तब दरबार मूब की राजसी प्रथा की समीक्षा बेहद जरूरी हो जाती है। राज्य के हित में सरकार को इस पुरानी प्रथा पर मंथन करना चाहिए।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links