ब्रेकिंग न्यूज़
मां लक्ष्मी का ऐसा मंदिर, जहां एक सिक्के से होती है हर इच्छा पूरी         इस शिवलिंग में हैं एक लाख छिद्र, यहां छुपा है पाताल का रास्ता         विपक्ष करता रहा हंगामा और मोदी सरकार ने राज्यसभा में भी पास कराए कृषि बिल, किसानों को कहीं भी फसल बेचने की आजादी         पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप         BIG NEWS : एक पत्रकार, चीनी महिला और नेपाली नागरिक गिरफ्तार, चीन को खुफिया जानकारी देने का आरोप         जम्मू कश्मीर में बड़े आर्थिक पैकेज की घोषणा : बिजली-पानी के बिलों पर एक साल तक 50 प्रतिशत की छूट का ऐलान         ऐसा मंदिर जहां चूहों को भोग लगाने से प्रसन्न होती है माता         यहां भोलेनाथ ने पांडवों को दिए शिवलिंग के रूप में दर्शन !         BIG NEWS : राजौरी में लश्कर-ए-तैयबा के 3 आतंकी गिरफ्तार, 1 लाख रुपये समेत AK-56 राइफल बरामद         BIG NEWS : आतंकी संगठन अल-कायदा मॉड्यूल का  भंडाफोड़, 9 आतंकी गिरफ्तार         BIG NEWS : पश्चिम बंगाल और केरल में एनआईए की छापेमारी, अल-कायदा के नौ आतंकी गिरफ्तार         BIG NEWS : दिशा सालियान के साथ चार लोगों ने कियारेप !         अनिल धस्माना को NTRO का बनाया गया अध्यक्ष         जहां शिवलिंग पर हर बारह साल में गिरती है बिजली         BIG NEWS : पाकिस्तान की नई चाल, गिलगित-बल्तिस्तान को प्रांत का दर्जा देकर चुनाव कराने की तैयारी         BIG NEWS : सहायक पुलिस कर्मियों पर लाठीचार्ज, कई घायल, आंसू गैस के गोले छोड़े         BIG NEWS : सर्दी के मौसम में लद्दाख में मोर्चाबंदी के लिए सेना पूरी तरह तैयार          “LAC पर चीन को भारत के साथ मिलकर सैनिकों की वापसी प्रक्रिया पर काम करना चाहिए” :  विदेश मंत्रालय प्रवक्ता         BIG NEWS : जम्मू कश्मीर पहुंचे सेनाध्यक्ष ने सुरक्षा स्थिति का लिया जायजा, उपराज्यपाल से भी की मुलाकात         BIG NEWS : 'मैं भी मारा जाऊंगा'         एक ऐसा मंदिर जहां पार्वतीजी होम क्वारैंटाइन में और महादेव कर रहे हैं इंतजार         अदृश्य भक्त करता है रोज भगवान शिव की आराधना , कौन है वो ?         BIG NEWS : सुरक्षाबलों ने जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी ठिकाना ढूंढ निकाला, भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद         BIG NEWS : “भारत बड़ा और कड़ा क़दम उठाने के लिए तैयार”: राजनाथ सिंह         BIG NEWS : श्रीनगर एनकाउंटर में तीन आतंकियों को मार गिराया         इलाहाबाद में एक मंदिर ऐसा, जहां लेटे हैं हनुमान जी         यहां भगवान शिव के पद चिन्ह है मौजूद         BIG NEWS : दोनों देशों की सेनाओं के बीच 20 दिन में तीन बार हुई फायरिंग         BIG NEWS : मॉस्को में विदेश मंत्रियों की मुलाकात से पहले पैंगोंग सो झील के किनारे चली थी 100-200 राउंड गोलियां- मीडिया रिपोर्ट         BIG NEWS : पाकिस्तानी सेना ने सुंदरबनी सेक्टर में की गोलाबारी, 1 जवान शहीद         CBI को दिशा सलियान की मौत की गुत्थी सुलझाने वाले कड़ी की तलाश !         हर साल बढ़ जाती है इस शिवलिंग की लंबाई, कहते हैं इसके नीचे छिपी है मणि         कलयुग में यहां बसते हैं भगवान विष्णु...         BIG NEWS : देश से बाहर प्याज निर्यात पर प्रतिबंध         BIG NEWS :  LAC पर हालात बिल्कुल अलग, हम हर परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार : राजनाथ सिंह         

...मगर म्यान से निकला हुआ तलवार कब वापस आया है

Bhola Tiwari Oct 02, 2019, 10:37 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

कुलदीप नैयर ने अपनी आत्मकथा "Beyond the Lines" में लिखा है कि उनकी एक खबर ने लालबहादुर शास्त्री को प्रधानमंत्री पद पर पहुँचा दिया था।जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु के बाद कांग्रेस में प्रधानमंत्री पद के लिए शतरंज की बिसात बिछ गई थी।सभी वरिष्ठ लीडर प्रधानमंत्री बनना चाह रहे थे मगर मोरारजी देसाई का नाम सबसे ऊपर था।गुजरात लाँबी पूरी तरह सक्रिय हो गई थी।जयप्रकाश नारायण और लालबहादुर शास्त्री भी रेस में थे मगर मोरारजी देसाई इन दोनों से मीलों आगे थे।

कुलदीप नैयर लिखते हैं कि मैं उन दिनों समाचार एजेंसी एएनआई में कार्यरत था,उस महत्वपूर्ण घडी में मैंने मोरारजी देसाई की दावेदारी की एक सनसनीखेज खबर जारी कर दी।खबर ने बैक फायर कर दिया।इससे पार्टी और बाहर के लोगों में मोरारजी देसाई के प्रति नाराजगी पैदा हो गई और लोग उन्हें महत्वाकांक्षी मानने लगे।एक समय रेस में सबसे आगे रहने वाले देसाई के खिलाफ माहौल बन गया था।उन्हें बेहद नापसंद करनेवाले के.कामराज को तो बस मौके की तलाश थी,उन्होंने लालबहादुर शास्त्री के पक्ष में लोगों को तैयार कर लिया।नैयर लिखते हैं कि कामराज ने संसद भवन में मुलाकात के दौरान उन्हें थैक्यू कहा था।लालबहादुर शास्त्री से भी उनकी मुलाकात संसद भवन में हो गई,उस समय वे नेता चुन लिये गए थे।शास्त्री जी ने सबके सामने उन्हें गले लगा लिया था, वे बेहद खुश थे।

कुलदीप नैयर ने इस बात का जिक्र कई बार किया है कि मोरारजी देसाई ये सोचते थे कि उन्हें नुकसान पहुँचानें के लिए ये लेख लिखा गया था।लालबहादुर शास्त्री भी अंत तक यही समझते रहे कि ये लेख उनके पक्ष में माहौल बनाने के लिए लिखा गया था।

कुलदीप नैयर लिखते हैं कि वे बार बार दोनों को असलियत बताते रहे मगर म्यान से निकला हुआ तलवार कब वापस आया है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links