ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में        

उसने कहा, आपके प्रधानमंत्री की हालत गंभीर है...

Bhola Tiwari Oct 02, 2019, 10:34 PM IST टॉप न्यूज़
img



 अजय श्रीवास्तव

10 जनवरी 1966,सोवियत संघ के ताशकंद शहर में भारत के प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री और पाकिस्तान के अयूब खान लंबी मशक्कत के बाद एक समझौता करते हैं जिन्हें "ताशकंद" समझौता कहा जाता है।

समझौते के लिए भारत की तरफ से वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर भी ताशकंद गए थे।वे अपनी किताब "Beyond the Lines" में लिखते हैं कि "आधी रात के बाद अचानक मेरे कमरे की घंटी बजी,दरवाजे पर एक महिला खडी थी।उसने कहा कि आपके प्रधानमंत्री की हालत गंभीर है।मैं करीबन भागते हुए उनके कमरे में पहुँचा,लेकिन तब तक देर हो चुकी थी।कमरे में खडे एक शख्स ने इशारा से बताया कि पीएम की मौत हो चुकी है।"

भारतीय प्रतिनिधिमंडल जो ऐतिहासिक समझौते के बाद गहरी नींद में सो रहे थे,वे स्तब्ध थे।तुरंत ये खबर भारत भेजी गई।कहा जाता है कि परिवार के आग्रह पर वहाँ भी पोस्टमार्टम नहीं हुआ और भारत में भी नहीं हुआ।यद्यपि सोवियत सरकार ने पोस्टमार्टम की पेशकश की थी।

शास्त्री जी की संदिग्ध मौत ने लोगों के मन में कुछ सवाल उठाए थे, जिसका जवाब आज तक नहीं मिला।

पहला सवाल ये था कि उनका पोस्टमार्टम क्यों नहीं कराया गया?इंदिरा गांधी ने संसद में कहा था कि सरकार पोस्टमार्टम करवाना चाहती थी मगर शास्त्री जी की पत्नी ललिता शास्त्री इसके लिए तैयार नहीं हुईं।

दूसरा एक सवाल जिसने सभी को शंका में डाल दिया वो ये था कि उस रात उनके निजी रसोइया रामनाथ के बजाय उस समय रूस में भारत के राजदूत टी.एन.कौल के शेफ जान मोहम्मद ने खाना बनाया था।खाना खाकर वो सोने चले गए और उसके बाद वो नहीं उठे।

तीसरी बात ये थी कि उस समय लीडर्स जिस कमरे में रूकते थे वहाँ एक घंटी लगी होती थी,जो आपातकाल के समय बेहद महत्वपूर्ण हो जाती थी, मगर शास्त्री जी के कमरे में कोई घंटी नहीं पाई गई।

चौथा शास्त्री जी की मौत के दो अहम गवाह पहला उनके निजी चिकित्सक डा.आर.एन.चुग और रसोइया रामनाथ की संदिग्ध परिस्थितियों में रोड एक्सीडेंट में मारा जाना।

आपको बता दें लालबहादुर शास्त्री की मौत के एक दशक बाद 1977 में सरकार ने उनकी मौत की जाँच के लिए राज नारायण समिति का गठन किया।इस समिति ने तमाम बिंदुओं पर जाँच की मगर इसकी फाइनल रिपोर्ट कभी प्रकाशित नहीं हो सकी।

अपनी आत्मकथा में कुलदीप नैयर लिखते हैं कि इंदिरा गांधी दिवंगत प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की समाधि दिल्ली में बनाने की इच्छुक नहीं थीं मगर ललिता शास्त्री ने इंदिरा गांधी को आमरण अनशन करने की धमकी दे दी।पेशोपेश में पडी इंदिरा गांधी को तब दिल्ली में समाधि बनाने का निर्णय करना पडा था।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links