ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में        

हम स्वयं बुला रहे बाड़ की तबाही...

Bhola Tiwari Oct 01, 2019, 7:41 PM IST टॉप न्यूज़
img


भरत झुनझुनवाला

वर्तमान समय में देखा जा रहा है कि किसी क्षेत्र में किसी विशेष समय भारी वर्षा के कारण बाड़ की तबाही हो रही है. वही क्षेत्र एक माह पहले सूखे की चपेट में था. जैसे इस समय मध्यप्रदेश और पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में बाड़ देखी जा रही है. इस परिस्थिति का एक प्रमुख कारण ग्लोबल वार्मिंग है. धरती का ताप बढ़ रहा है जिससे हमारे मानसून के पेटर्न में बदलाव आ रहा है. पहले वर्षा तीन माह तक धीरे धीरे होती थी. खेतों में गिरने वाला पानी जमीन में रुकता था और इसका एक बड़ा हिस्सा जमीन के अन्दर रिस जाता था. लेकिन अब उतना ही पानी 15 दिन में गिर रहा है. वर्षा की गति तीव्र हो गयी है. कुल वर्षा पूर्व की मात्र में ही होती है लेकिन अब वह थोड़े ही समय में ही गिरती है. अब खेतों में गिरने वाले पानी को जमीन के अन्दर रिसने का अवसर नहीं मिलता है. यह पानी नदियों में समा जाता है. नदियों की इतनी क्षमता नहीं है कि वह इस भारी मात्रा में आये हुए पानी को समुद्र तक पहुंचा सके इसलिए बाड़ आ जाती है. इस प्राकृतिक परिवर्तन से निपटने के स्थान पर हमने प्रकृति की मार को और बढ़ाने का कार्य किया है.

इंजीनियरों का मानना है कि बाड़ की समस्या से निबटने के लिए हमें नदियों के पानी को बड़े बांधों में रोक लेना चाहिए जिससे नदियों में कि अधिक मात्रा में पानी न बहे और बाड़ स्वतः रुक जाए. साथ साथ वर्षा के समय यदि नदी के पानी को सिंचाई के लिए निकाल लिया जाय तो नदी में पानी की मात्रा पुनः कम हो जायेगी और तदनुसार बाड़ का प्रकोप भी कम हो जाएगा. लेकिन आज देश में सभी नदियों पर बाँध बनाने एवं सिंचाई के लिए पानी निकालने के बावजूद बाड़ की समस्या बढती ही जा रही है जो की इन्जीनीयारो की सोच की कमी को दर्शाती है. 

समस्या को समझने के लिए हम गंगा को उदाहरण स्वरुप ले सकते हैं. गंगा की प्रकृति है कि वह हर वर्ष हिमालय से भारी मात्रा में गाद लाती है और गाद को अपने पेटे में हरिद्वार से गंगासागर तक जमा करती जाती है. फिर पांच सात वर्षों में एक बड़ी बाड़ आती है जो कि इस जमी हुई गाद को धकेल कर समुद्र में पहुंचा देती है और नदी का पाट फिर अपने पुराने निचले स्तर पर पहुँच जाता है. इस प्रक्रिया में हर साल बाड़ आती है और पांच सात वर्षों में बड़ी बाड़ भी आती है नदी का पेटा पुनः गहरा हो जाता है. उसके आगे वाले वषों में बाड़ थोड़ी कम हो जाती है क्योंकि नदी की पानी को वहन करने की क्षमता बढ़ जाती है. हमने गंगा के इस स्वभाव में दो प्रकार से बाध डाली है. पहला, टिहरी जैसे बाँध बनाकर हमने भागीरथी के पानी को झील में रोक लिया है. दूसरा, हमने हरिद्वार, बिजनोर और नरोरा में बराज बनाकर गंगा के पानी को वर्षा के समय भी निकाला है. इन दोनों कारण से गंगा में अब हर पांच सात वर्षों में आने वाली भारी बाड़ समाप्त हो गयी है. नीचे की गंगा का बहाव पूर्व की तुलना में कम हो गया है. इस बहाव की कमी से तत्काल लाभ होता है क्योंकि पानी की मात्रा कम होती है और बाड़ कम आती है. लेकिन इस कम पानी की मात्रा में भी जो गाद आती है वह गाद निरंतर गंगा के पेटे में बैठती जाती है. अब इस बैठी हुई गाद को

समुद्र तक धकेलने की क्षमता गंगा में नहीं रह जाती है क्योंकि हमने भारी बाड़ को रोक दिया है. इसलिए अब कम वर्षा में भी अधिक बाड़ आती है. गाद के नदी के पेटे में निरंतर बैठते जाने से गंगा का पेटा ऊंचा होता जा रहा है. गंगा को अब पानी वहन करने के क्षमता घट रही है और कम वर्षा में भी अब बाड़ आने लगी है. तेहरी जैसे बांधों को बनाने से नीचे के क्षेत्रों में गाद का आना भी कम हुआ है परन्तु यह तात्कालिक प्रभाव मात्र है. यद्यपि मैंने अन्य नदियों का अध्ययन नहीं देखा है फिर भी मेरा अनुमान है हर नदी की देश में ऐसी ही परिस्थिति है.

नदी के पानी का निश्चित रूप से सिंचाई के लिए उपयोग होना चाहिए. इसके इस उपयोग के दो रास्ते हैं. एक रास्ता यह है कि पानी को बड़े बांधों में रोक लिया जाय और जाड़े और गर्मी के समय छोड़ा जाए जिससे नहर के माध्यम से सिंचाई हो सके. दूसरा उपाय यह है कि हम टिहरी जैसे बांधों को हटा दें और नदी के पानी को बाढ़ के समय फैलने दें. जब बाड़ आती है तो नदी का पानी फैलता है और बड़े क्षेत्र में पानी जमीन में रिसता है और जमीन के नीचे समा जाता है जिसको हम जाड़े और गर्मियों में ट्यूबवेल के माध्यम से निकालकरइस्तेमाल कर सकते हैं. दोनों ही तरह से हम नदी के 

पानी का संग्रहण करते हैं और उसका सिंचाई के लिए उपयोग करते हैं. लेकिन अंतर यह है कि जब हम बाँध में पानी को रोक कर सिंचाई के लिए उपयोग करते हैं तो पानी की 15 से 20 प्रतिशत मात्रा बाँध के जलाशय से वाष्पीकरण से ख़त्म हो जाता है. इसके बाद इस पानी को नहर के माध्यम से खेतों तक पहुंचाने में पुनः 15 से 20 प्रतिशत पानी की बर्बादी होती है. यदि हम बाँध को हटा दें और पानी को फैलने दें तो यह पानी भूमिगत तालाबों में जमा हो जाता है लेकिन वहां इसका वाष्पीकरण नहीं होता है. नहर से भी इसे एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले जाने की जरुरत नहीं होती है क्योंकि इससे आप कहीं पर भी ट्यूबवेल के माध्यम से निकाल सकते हैं. इसलिए इन दोनों ही तरह से हम सिंचाई कर सकते हैं. लेकिन हम बाड़ के माध्यम से नदी की गाद को समुद्र तक पहुंचाने की क्षमता बनी रहती है जिससे अंतत बाड़ भी कम आती है.

हमें सिंचाई की समस्या को ग्लोबल वार्मिंग के साथ जोड़ कर देखना होगा.

उपाय यह है कि हर खेत में गिरने वाली वर्षा को वहीँ पर रोककर के भूमि के अन्दर रिसाने का प्रयास किया जाय. इसके लिए क़ानून अथवा किसानो को इनसेंटिव दिया जाना चाहिए. दूसरा, हमें बाँध हटाकर भारी बाढ़ को बनाये रखना चाहिए जिससे कि भूमिगत जल का पुनर्भरण भी हो और नदी जमी हुई गाद को धकेलकर समुद्र तक ले जाए. तीसरे, हर नदी के पाट पर बाहुबलियों ने कब्ज़ा कर रखा है. उनसे नदी की मुक्ति करानी चाहिए जिससे कि नदी की गाद को समुद्र तक पहुंचाने की क्षमता पुनः स्थापित हो जाए.

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links