ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

मंथन : किस राह को निकल पड़े हम

Bhola Tiwari Oct 01, 2019, 7:25 AM IST टॉप न्यूज़
img


प्रवीण झा

(जाने-माने चिकित्सक नार्वे)

मैं जब गुड़गाँव में था, तो उसके दो हिस्से थे, जैसा कई भारतीय नव-नगरों में है। नया गुड़गाँव नयी-नवेली गगनचुंबी इमारतों से सज रहा था, और पुराना गुड़गाँव भी यथाशक्ति पुरानी इमारतों के ऊपर ही ईंट जोड़ने में लगा था। लेकिन, जिस गति से इमारतें बनती जा रही थी, नाले बन ही नहीं रहे थे। एक बिल्डिंग में फ्लैट देखने गया तो पता किया कि गंदा पानी कहाँ जमा होगा। कहा कि सेप्टिक टैंक में। मैंने पूछा कि दो-तीन सौ मकानों का कचड़ा एक गड्ढे में विलीन हो जाएगा? कहा कि भर जाने पर उस कचड़े को कहीं और ले जाएँगे। यानी, इतनी इमारतें बन गयी, और जल-निकास की व्यवस्था ही नहीं। नतीजा तो खैर मेरे निकलते-निकलते ही दिखने लगा था, अब शायद सुधार हुआ हो।

चंडीगढ़ जैसे सुनियोजित शहरों में पानी जमने लगा। मैं एक बार मैसूर के नव-मोहल्ले में गया, तो वहाँ भी पानी जमा हुआ। मैंने सुन रखा था कि भारत की सबसे सुंदर जल-निकास व्यवस्था अगर कहीं है तो मैसूर में है। मैसूर राजाओं ने ही भूमिगत जल-निकास सिस्टम बना लिया था। लेकिन, यह तो पुराने मैसूर में बना था। नया मैसूर तो उसी गुड़गाँव मॉडल पर है, जहाँ कचड़ा एक अंधी गली में जाकर जमा हो जाता है। जबकि यह ध्यान रहे कि मैसूर या पुणे की मिट्टी ऐसी है, जो जल सोख लेती है। हर जगह ऐसी छन्नीदार मिट्टी नहीं होती।

वैसे अगर यह सारे नाले अंधी गली से न गुजर कर, तमाम पतली धाराओं से बहते हुए नदी में ही चले जाते तो क्या हल निकल जाता? यह बात अब सभी विशाल महानगरों के लोग समझ चुके हैं कि यह प्रायोगिक नहीं। उन्हें नदी में बहने से इतर जल को समाहित करने के रास्ते ढूँढने ही होंगे। न्यूयॉर्क तक को आखिर अपने शहर को दो भागों में विभाजित करना पड़ा। एक हरा, एक कंक्रीट। जबकि वहाँ ड्रेनेज सिस्टम तो भूमिगत है ही, और नदी-समुद्र सब है। लेकिन जितनी तेजी से एक हरित पट्टी जल को सोखती है, उतने कहाँ ये बरसाती नाले कर पाएँगे? यह प्रकृति की छन्नी है। अगरतला जल-जमाव से डूबता है, लेकिन उत्तर-पूर्व के सबसे बड़े वृष्टि-क्षेत्र अगर नहीं डूबते तो इसकी वजह वहाँ की यह हरियाली ही है। लेकिन, एक ऐसे शहर में, जहाँ अब ऐसे इलाके बचे नहीं, यह पूरा इकोसिस्टम खड़ा करने में चार-पाँच दशक लग जाएँगे। तब तक तो बिन पेंदी के काल्पनिक नालों में ही जोड़-घटाव संभव है। प्रकृति का गणित न सही, कन्क्रीट का गणित सही। बड़ी-बड़ी इमारतों के किनारे बहते पतले-पतले नाले, जाएँ तो जाएँ कहाँ?

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links