ब्रेकिंग न्यूज़
ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है !         BIG NEWS : जनाज़े पर मेरे लिख देना यारों, मोहब्बत करने वाला जा रहा है...         BIG NEWS : दुनिया का पहला कोरोना वैक्सीन तैयार, पुतिन ने कोरोना वैक्सीन का टीका बेटी को लगवाया         BIG NEWS : मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन         BIG NEWS : प्रवर्तन निदेशालय ने जब्त किए रिया चक्रवर्ती के मोबाइल फोन और लैपटॉप         BIG NEWS : रिया चक्रवर्ती करती थीं सुशांत के वित्तीय और प्रोफेशनल फैसले : श्रुति मोदी         BIG NEWS : राजस्थान की बदली सियासत, पायलट नाराज विधायकों के साथ आज करेंगे "घर" वापसी         BIG NEWS : बेटियों को भी पिता की संपत्ति में बराबरी का हक         BIG NEWS : जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा शुरू करने की तैयारी, 15 अगस्त के बाद दो जिलों में होगा ट्रायल         BIG NEWS : कुपवाड़ा में तीन संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार बरामद         BIG NEWS : बीजेपी नेता के घर ग्रेनेड हमला         जिसने अपने कालखंड को अपने इशारों पर नचाया...         जब मोहन ने पहली बार गोपिकाओ को किया परेशान         भगवान कृष्ण के जन्म लेते ही जेल की कोठरी में फैल गया प्रकाश ...         BIG BREAKING : रांची में सरेराह मार्बल दुकान में चली गोली, अपराधियों ने एक व्यक्ति को गोली मारी         BIG NEWS : झारखंड के शिक्षा मंत्री अब करेंगे इंटर की पढ़ाई...          BIG NEWS : सभी मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेन 30 सितंबर तक रद्द         BIG NEWS : राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी की अटकलें तेज         BIG NEWS : आतंकी हमले में घायल बीजेपी नेता की मौत         आदिवासी विकास का फटा पोस्टर...         BIG NEWS : नक्सली राकेश मुंडा को लाखों का इनाम और पत्तल बेचती अंतर्राष्ट्रीय फुटबॉलर संगीता सोरेन को दो हजार         पाखंड के सिपाही कम्युनिस्ट लेखक...         BIG NEWS : देवघर में सेप्टिक टैंक में दम घुटने से 6 लोगों की मौत         BIG NEWS : अब भाजपा गुजरात गए विधायकों को वापस बुला रही, सभी विधायक होटल जाएंगे         BIG NEWS : पालतू कुत्ते फज की बेल्ट से गला घोंटकर सुशांत सिंह राजपूत की, की गई थी हत्या : अंकित आचार्य          BIG NEWS : सरकार का 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक, इसके पीछे क्या है मकसद?          BIG NEWS : बडगाम में आतंकवादियों ने बीजेपी नेता को गोली मारी          BIG NEWS : कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 2 से 3 आतंकी घिरे         BIG NEWS : सुशांत सिंह केस का राजदार कौन !         BIG NEWS : फिल्म स्टार संजय दत्त लीलावती हॉस्पिटल में भर्ती          BIG NEWS : दिशा सलियान का निर्वस्त्र शव पोस्टमार्टम के लिए दो दिनों तक करता रहा इंतजार          BIG NEWS : टेरर फंडिंग मॉड्यूल का खुलासा, लश्कर-ए-तैयबा के 6 मददगार गिरफ्तार         BIG NEWS : एलएसी पर सेना और वायु सेना को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश         BIG NEWS : राजस्थान का सियासी जंग : कांग्रेस के बाद अब भाजपा विधायकों की घेराबंदी         BIG NEWS : देवेंद्र सिंह केस ! NIA की टीम ने घाटी में कई जगहों पर की छापेमारी         बाढ़ और संवाद हीनता          BIG NEWS : पटना एसआईटी टीम के साथ मीटिंग कर सबूतों और तथ्यों को खंगाल रही है CBI         BIG NEWS : सुशांत सिंह की मौत के बाद रिया चक्रवर्ती और बांद्रा डीसीपी मे गुफ्तगू         BIG NEWS : भारत और चीन के बीच आज मेजर जनरल स्तर की वार्ता, डिसएंगेजमेंट पर होगी चर्चा         BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार        

ब्रिटिश सर्वदलीय संसदीय समूह की विजिटिंग चेयरमैन से शेख हसीना ने कहा "बांग्लादेश पर बोझ हैं रोहंगिया शरणार्थी"

Bhola Tiwari Sep 21, 2019, 1:12 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

इन दिनों ब्रिटिश सर्वदलीय संसदीय समूह बांग्लादेश की यात्रा पर है।उन्होंने काँक्स बाजार स्थित रोहिंग्या शिवरों का दौरा किया और दो साल पहले के दौरे के मुकाबले इस बार रोहंगियों के हालत बहुत बेहतर होने के लिए बांग्लादेश की तारीफ की और एक लिखित रिपोर्ट भी हसीन सौंपा।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने ब्रिटिश सर्वदलीय समूह की विजिटिंग चेयरमैन एनी मेन से कहा कि बांग्लादेश पर बोझ हैं रोहिंग्या शरणार्थी, म्यांमार सरकार को वापस लेने चाहिए अपने नागरिक।शेख हसीन ने ये भी कहा कि काँक्स बाजार के स्थानीय लोगों को रोहंगियों के कारण काफी परेशानी का सामना करना पड रहा है।


आपको बता दें कि इस समय बांग्लादेश की राहत शिविरों में लाखों रोहिंग्या शरणार्थी रह रहें हैं जो म्यांमार से भागकर बांग्लादेश पहुंचे हैं।रोहंगियों का आरोप है कि म्यांमार की सरकार उनके ऊपर जुल्म कर रही है,उनके घरों को जला दिया गया है।नौजवान लडकों और पुरूषों को वहाँ की सेना बलपूर्वक उठा ले जा रही है और फिर उनका कोई पता नहीं लग रहा है।उन्हें मार दिया जा रहा है।

आपको बता दें म्यांमार की बहुसंख्यक आबादी बौद्ध धर्म को मानने वाली है।म्यांमार में रोहंगियों की आबादी लगभग दस लाख है।कहा जाता है कि वे बांग्लादेश से व्यापार करने म्यांमार आए थे और वहीं बस्ती बनाकर बस गए।म्यांमार सरकार ने पहले भी इन्हें मान्यता नहीं दी थी आज भी वो देश विहीन हैं।बेचारे रोहंगियों को इस पृथ्वी पर भूमि का एक भी टुकडा नसीब नहीं है।


ऐ मेरे हमनशीं चल कहीं और चल,

इस चमन में अब अपना गुजारा नहीं.........

इतिहास की किताब के अनुसार 1400 ई. के आस-पास रोहिंग्या बर्मा(म्यांमार)के ऐतिहासिक अराकान प्रांत(रखाइन)में आकर बस गए थे।इनमें से बहुत से लोग 1430 में अराकान पर शासन करनेवाले बौद्ध राजा नारामीखला के राज दरबार में नौकर थे।इस राजा ने मुस्लिम सलाहकारों और दरबारियों को अपनी राजधानी में प्रश्य दिया था।साल 1948 में बर्मा को अंग्रेजों से स्वत्रंत्रता मिली।बर्मा की आजादी की लडाई में रोहिंग्या मुसलमानों का काफी अहम योगदान था।इसके फलस्वरूप देश की आजादी के बाद रोहंगियों को आधिकारिक पदों पर नौकरियां मिलीं।तब तक सबकुछ ठीक था मगर 1960 आते आते उनपर अत्याचार शुरू हो गए।

साल 1982 में जब बर्मा राष्ट्रीय कानून पारित किया गया तो इसमें रोहंगियों को देश की जनता के रूप में कोई जगह नहीं दी गई।आप ये समझ लें कि 1982 के बाद से हीं वे बिना देश के व्यक्ति हैं।रोहंगिया समुदाय के कुछ गर्म दिमाग के लोगों ने "रोहिंग्या सालवेशन आर्मी" यानी आरसा का गठन किया और 24 अगस्त,2017 को आरसा ने एक साथ बीस पुलिस चौकियों पर हमला कर बीस बाँर्डर गार्डस की निशंस हत्या कर दी।म्यांमार की सरकार ने इस हमले को काफी गंभीरता से लिया और उसी रात सैकड़ों रोहंगियों को मार दिया गया, उनके बस्तियों को जला दिया गया।उस दिन से हीं रोहंगियों का पलायन शुरू हुआ जो आज भी जारी है।

वे छोटी छोटी नौकाओं से भागकर बांग्लादेश आने लगे और बांग्लादेश ने शर्णार्थियों को काँक्स बाजार के उखिया और टेक्नाफ़ के राहत शिविरों में रखा।

26 अगस्त,2017 को बांग्लादेश सरकार ने म्यांमार के राजदूत को तलब किया और रोहिंग्या मुसलमानों के साथ हो रहे व्यवहार पर आपत्ति दर्ज कराई।बांग्लादेश का कहना था कि तीन दिनों के भीतर 27,000 शरणार्थी बांग्लादेश पहुंचे।म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत ने रखाइन के हालत की आलोचना की,उन्होंने म्यांमार की नेता आंग सान सू ची की भी आलोचना की।

गौरतलब है कि म्यांमार की नेता सू ची को मानवाधिकार संरक्षण के लिए नोबल पुरस्कार मिल चुका है।विश्व समुदाय चाहता है कि सू ची रोहंगियों पर हो रहे अत्याचार पर खुलकर बोलें मगर सू ची बेहद सधी हुई प्रतिक्रिया दे रहीं हैं।दरअसल म्यांमार की सर्वोच्च नेता होने के बावजूद उनके हाथ में वास्तविक सत्ता नहीं है।सत्ता पर कंट्रोल सैनिक जनरलों का है यद्यपि सू ची की पार्टी 25 वर्ष बाद हुए चुनाव में बंपर जीत दर्ज की मगर संवैधानिक नियमों के कारण वह चुनाव जीतने के बाद भी राष्ट्रपति नहीं बन पाईं।सू ची स्टेट काउंसलर की भूमिका में हैं।देश की सुरक्षा आर्म्ड फोर्सेज के हाथों में है और इस विषय पर उनके हाथ बंधे हुऐ हैं।वो चाहकर भी बहुत कुछ नहीं कर सकतीं।

आज भी म्यांमार इससे इंकार करता है कि उसकी सेना ने रोहिंग्या मुसलमानों का नस्ली सफाया या जनसंहार किया है।रोहंगियों की वापसी का तो म्यांमार आश्वासन देता है मगर इसके लिए कोई ठोस पहल वो करते नहीं दिखता।बांग्लादेश इतने बडे शरणार्थी समूहों का खर्च उठाने में नाकाम है।इनके खाने और ईलाज में काफी बडी रकम खर्च होता है जो बांग्लादेश को कमजोर कर रहा है।इस समय बांग्लादेश की जीडीपी भारत,पाकिस्तान और बहुत से एशियायी मुल्कों से बहुत अच्छी है और वो लगातार विकास के पथ पर अग्रसर हैं।अब बांग्लादेश रोहंगियों से मुक्ति की अपील सभी देशों से कर रहा है।बांग्लादेश बार बार उन्हें म्यांमार भेजने की कोशिश कर रहें हैं मगर वे खौफ की वजह से वहां जा नहीं रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र और विकसित देशों को इसका हल निकालना होगा नहीं तो ये समस्या यूँहीं बरकरार रहेगी और बांग्लादेश मुफ्त में मारा जाएगा।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links