ब्रेकिंग न्यूज़
हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

क्या लिखा था लेफ्टिनेंट जनरल हेंडरसन ब्रूक्स और ब्रिगेडियर प्रेमिंदर सिंह भगत ने अपनी रिपोर्ट में.?

Bhola Tiwari Sep 11, 2019, 6:02 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

भारत चीन के साथ 1962 के युद्ध में बुरी तरह पराजित हुआ था।भारतीय सेना की भूरी भूरी प्रशंसा होती है मगर 1962 के युद्ध में कुछ जगह सेना बिना आदेश के पीछे हट गई थी,ऐसा आत्मरक्षा के लिए भी किया गया होगा मगर सेना की तरफ से इसे अनुशासनहीनता माना गया और 14 दिसंबर,1962 को तत्कालीन थलसेनाध्यक्ष द्वारा भारतीय सेना के युद्ध(विशेष रूप से नेफा के कानेंग डिवीजन)में पीछे हटाने की जाँच हेतु एक सामरिक गतिविधियों का पुनरीक्षण प्रारंभ कराया गया।यह रिव्यू लेफ्टिनेंट जनरल हेंडरसन ब्रूक्स द्वारा किया गया जिसमें ब्रूक्स के सहयोगी ब्रिगेडियर पी.एस.भगत थे।इस रिव्यू का काम प्रशिक्षण, उपकरण, कमान की व्यवस्था, सैन्य दलों की शारीरिक सक्षमता और सभी स्तरों पर कमांडरों द्वारा अपने अधीनस्थों को प्रभावित कर पाने की क्षमता के संदर्भ में हुई गलतियों की जाँच करना था,जिसे हेंडरसन ब्रूक्स रिपोर्ट कहा जाता है।

हेंडरसन और उसके नायाब भगत ने युद्ध में पराजय समेत बहुत से पहलुओं पर जाँच की और रिपोर्ट सेना को सौंपा।सेना से ये रिपोर्ट सरकार के पास गई मगर सरकार ने उस गोपनीय रिपोर्ट को कभी जारी नहीं किया।कारण ये था कि उस रिपोर्ट में राष्ट्रीय नेतृत्व की विफलता का भरपूर वर्णन था।तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निर्णय न ले पाने पर सवाल उठाए गए थे।रक्षामंत्री कृष्णा मेनन जिसपर नेहरू बहुत ज्यादा भरोसा करते थे।वे युद्ध के समय फैसला लेने में असमर्थ साबित हुऐ थे।तत्कालीन आर्मी चीफ जनरल बीएम कौल की अकर्मण्यता की भी खूब पोल खोली गई थी।वे नेहरू को सच से वाकिफ नहीं करा सके।

1962 के युद्ध के समय भारतीय सेना की तैयारी शून्य थी जबकि चीन कई महीनों से तैयारी कर रहा था।आर्मी चीफ को चाहिए था कि वे प्रधानमंत्री को वास्तविकता समझाएं मगर वे विफल साबित हुऐ।नेहरू को बिल्कुल भरोसा नहीं था कि चीन भारत पर आक्रमण भी कर सकता है मगर जब ये युद्ध हुआ तो भारत बैकफुट पर आ गया।भारत डर के मारे एयरफोर्स का इस्तेमाल नहीं किया कि चीन भारतीय शहरों पर बम डालकर व्यापक तबाही मचा सकता है और ये सही भी था।चीन के आक्रमण से भौचक भारतीय नेतृत्व अमेरिका से सहयोग मांगता रहा मगर चतुर अमेरिका भारत के लिए चीन जैसे देश को नाराज नहीं करना चाहता था।नेहरू ने अमेरिकी राष्ट्रपति जाँन फ केनेडी से तत्काल बारह जेट फाइटर्स और आधुनिक रडार सिस्टम देने की मांग की थी मगर अमेरिका इस मामले में चुप हीं रहना बेहतर समझा।

दरअसल नेहरू चीन पर जरूरत से ज्यादा विश्वास करते थे जो भारत की हार का कारण बना।भारत के कारण हीं चीन को वीटो का अधिकार मिला था मगर चीन ने भारत की पीठ में खंजर घोंप दिया था।

चीन का आक्रमण सुनियोजित था और उसने चारों तरफ से भारत पर आक्रमण किया।चीन ने इस युद्ध में अपनी सेना के 80,000 जवान उतारे थे जबकि भारत 20,000 सैनिकों से लड रहा था।उसके पास आधुनिक हथियार थे जबकि भारत के पास वही परंपरागत हथियार।चार दिन की लडाई में चीन अरूणाचल प्रदेश के 60 किलोमीटर अंदर आ गया था।युद्ध विराम के बाद भी चीन अरूणाचल प्रदेश के बहुत से हिस्सों में आज भी काबिज है।

1962 के युद्ध में भारत क्यों हारा इसकी विस्तृत रिपोर्ट दो भागों में तैयार कर ब्रूक्स और भगत ने सेना के माध्यम से सरकार को दी थी मगर आज भी उस महत्वपूर्ण रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया गया।कांग्रेस सरकार को तो इसके ऊपर बात करना भी गवारा नहीं था मगर एनडीए की सरकार ने भी राष्ट्रहित का मसला कहकर टाल दिया।तत्कालीन रक्षामंत्री अरूण जेटली ने 2015 में राज्यसभा में दिये हुऐ बयान में कहा कि इसके महत्वपूर्ण हिस्से कभी भी सार्वजनिक नहीं किये जा सकते क्योंकि ये राष्ट्रहित में नहीं है।

आपको बता दें ये रिपोर्ट केवल कांग्रेस सरकार की विफलता को हीं प्रर्दशित करती तो इसे कब का जारी कर दिया गया रहता मगर इसमें सेना के पीछे हटने, पीठ दिखाने का विस्तृत विवरण है जो कोई भी सरकार सार्वजनिक नहीं करना चाहेगी।यद्यपि इसके कुछ भाग 2014 में मैक्सवेल ने प्रकाशित कर दिया था।अब ये कहना मुश्किल है कि ये वही रिपोर्ट है या फर्जी।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links