ब्रेकिंग न्यूज़
लुगू पहाड़ की तलहटी में नक्सलियों ने दी फिर दस्तक         आज संपादक इवेंट मैनेजर है तो तब वो हुआ करता था बनिये का मुनीम या मंत्र पढ़ता पंडत....         किसी को होश नहीं कि वह किसे गाली दे रहा है...          जेवीएम विधायक प्रदीप यादव और बंधु तिर्की ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी से की मुलाकात         नीतीश का दो टूक : प्रशांत किशोर और पवन वर्मा जिस पार्टी में जाना चाहे जाए, मेरी शुभकामना         लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं        

जब पूरा मुल्क एक "कातिल" को बचाना चाहता था

Bhola Tiwari Sep 09, 2019, 10:24 AM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

मैं जिस घटना का जिक्र कर रहा हूँ वो साल 1959 में घटी थी।नेवी कमांडर कवस मानेकशॉ नानावटी छुट्टी में अपने घर बांबे आता है तो 8उसे महसूस होता है कि उसकी प्यारी पत्नी "सेल्विया" जो उसके तीन बच्चों की माँ है उससे कटी कटी सी है।वह उसे अपनी बांहों में भर लेना चाहता था मगर वह बेरूखी से उसके हाथों को झटक देती है।

वह सेल्विया से इसकी वजह पूछता है तो कुछ संकोच के बाद उसकी पत्नी उसे बता देती है कि उसे बिजनेसमैन प्रेम आहूजा से इश्क हो गया है और दोनों रिलेशनशिप में हैं।दरअसल नेवी कमांडर नानावटी को जहाज के साथ महीनों बाहर रहना पड़ता था,इसी दर्मियान सेल्विया और प्रेम आहूजा की दोस्ती कब हवस में परिवर्तित हो गया इन्हें पता भी नहीं लगा।रईस बिजनेसमैन प्रेम आहूजा सेल्विया पर खूब पैसे खर्च करता और प्यार का नाटक करता।सिल्विया उसके झूठे प्यार में पूरी तरह डूब गई थी और दिनरात उसी के सपने देखने लगी थी।सिल्विया ने ये भी कहा कि जब प्रेम आहूजा ने उनसे शादी का वायदा किया तब मैंने समर्पण किया था।


अपनी प्यारी पत्नी के मुंह से ये बात सुनने के बाद नानावटी कुछ पल के लिए जडवत सा हो गया था मगर तत्काल उन्होंने अपने आप को संभाल।पहले से तयशुदा कार्यक्रम के मुताबिक दोनों अपने तीनों बच्चों के साथ कुत्ते के डाक्टर के पास गए।उन दिनों उनका प्यारा कुत्ता भी बीमार चल रहा था।डाक्टर से मिलने के बाद वे फिल्म देखने पिक्चर हाँल गए।अपनी पत्नी और बच्चों को वहाँ बैठाकर वह पिक्चर हाँल से बाहर आ गया और 

 सीधे वह अपने पोत पर गए और वहाँ से उन्होंने .38 स्मिथ एंड बेसन रिवाल्वर निकाली।रिवाल्वर पतलून में रखकर वह सीधा प्रेम आहूजा के घर पहुंचा,उस समय प्रेम आहूजा नहाने की तैयारी कर रहा था उसके कमर में तोलिया बंधा हुआ था।

नानावटी सीधे प्रेम आहूजा से पूछते हैं कि तुम मेरी पत्नी से शादी कर लो मगर वह बेरूखी से इंकार कर देता है।प्रेम आहूजा गुस्से में नानावटी से कहता है कि मैं बहुत सी औरत के साथ हमबिस्तर होता हूँ इसका मतलब ये नहीं है कि मैं सभी से शादी कर लूँ।उसकी बात से बौखलाए नानावटी ने उसके ऊपर तीन फायर करता है और वहां से निकलकर खुद को पुलिस के हवाले कर देता है।

आपको बता दें केएम नानावटी की मुलाकात सेल्विया से 1949 मे इंग्लैंड में हुई थी।पहली मुलाकात में हीं दोनों एक दूसरे को दिल दे बैठे थे।नानावटी पारसी थे और बहुत पढे लिखे परिवार से थे।पारसी रीतिरिवाज से उनकी शादी हुई और दोनों से तीन प्यारे बच्चे हुऐ।नानावटी सिल्विया से बहुत प्यार करते थे, उसके मुँह से प्रेम आहूजा से रिलेशनशिप की बात सुनकर भी उन्होंने पत्नी को कुछ नहीं कहा,बल्कि उसकी खुशी के लिए वह दोनों की शादी करवाना चाहते थे।

23 सितंबर 1959,खचाखच भरे डिस्ट्रिक्ट और सेशन कोर्ट में केस की सुनवाई शुरू हुई।ये केस सबसे ज्यूरी में चला।सरकार की तरफ से चीफ पब्लिक प्रोसिक्यूटर सी.एम.त्रिवेदी ने नानावटी पर प्रेम आहूजा की इरादतन हत्या का आरोप लगाया।डिफेंस की तरफ से फेमस क्रिमिनल लाँयर कार्ल जे खंडालावाला केस लड रहे थे।

ज्यूरी यानी कोर्ट की ओर से किसी केस की सुनवाई के लिए चुने गए लोग।ये सोसायटी के मानिंद लोग होते थे जिनके सामने कोर्ट की सारी दलीलें रखीं जाती थी,उसी के आधार पर ज्यूरी अपना फैसला सुनाती थी।नानावटी केस में ज्यूरी ने एकतरफा फैसला नानावटी के पक्ष में दिया क्योंकि समाज के सभी लोगों को नानावटी से सहानभूति थी और ज्यूरी लोगों की भावनाओं में बह गया था।तभी से ज्यूरी सिस्टम को खत्म कर दिया गया।

पब्लिक प्रोसिक्यूटर त्रिवेदी इस केस को बेमन से लड रहे थे मगर उनके जुनियर रामजेठमलानी इस केस को लेकर बहुत सीरियस थे।उन्होंने दलील दी कि अगर गोलियां हाथापाई के बाद चलीं थीं तो प्रेम भाटिया का तौलिया गोलियां लगने के बाद भी कमर से बंधा हुआ क्यों था?उनकी दलील की वजह से डिफेंस धराशायी हो गई।हाईकोर्ट ने नानावटी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।11 दिसंबर 1961 को सुप्रीमकोर्ट ने भी इस सजा पर मुहर लगा दी।

नानावटी ने तीन साल जेल में रहने के बाद माफी की अपील महाराष्ट्र के राज्यपाल से की।उस समय महाराष्ट्र की राज्यपाल विजय लक्ष्मी पंडित थीं और उन्होंने तत्काल नानावटी को माफी दे दी।

जेल से छूटने के बाद कुछ हीं दिन नानावटी अपनी पत्नी और बच्चों के साथ भारत में रहे।यहाँ बदनामी बहुत हो चुकी थी इस वजह से नानावटी और उसकी पत्नी सेल्विया ने कनाडा में बसने का निर्णय लिया और वे कनाडा चले गए।2003 में नानावटी की वहीं मृत्यु हो गई, उनकी पत्नी अभी भी जिंदा है।

इस केस ने कानून को भी एक बार भावना में बहने को मजबूर कर दिया था मगर रामजेठमलानी के अथक प्रयास से नानावटी को सजा मिल पाई थी।सारा देश यहाँ तक कि प्रेम आहूजा की बहन ने भी नानावटी क़ो माफ करने की अपील की थी।इस महत्वपूर्ण केस को कानून की पढाई में पढाया जाता है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links