ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं रहे मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति हुस्नी मुबारक....         हम छीन के लेंगे आजादी....         माल महाराज के मिर्जा खेले होली         भारत और अमेरिका में 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता         सीएए भारत का अंदरुनी मामला : डोनाल्‍ड ट्रंप         लड़खड़ाई धरती पर सम्भलकर आगे बढ़ गए हिम्मती लोग          शाहीन बाग : उपाय क्या है?          भारत में दक्षिणपंथी विमर्श एक चिंतनधारा कम प्रॉपेगेंडा ज्यादा          मिलकर करेंगे इस्लामी आतंकवाद का सफाया : ट्रंप         मोदी ट्रंप की यारी : भारत की तारीफ, आतंक पर PAK को नसीहत         भारत और अमेरिका रक्षा सौदे में बड़ा डील करेगा : डोनाल्ड ट्रंप         "एक्टिव फार्मास्युटिकल इनग्रेडिएंट"(एपीआई) के लिए पूरी तरह चीन पर निर्भर है भारत         कुछ ही देर में प्रेसिडेंट ट्रंप पहुंच रहे हैं इंडिया         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          संभलने का वक्त !          अनब्याही माताएं : नरमुंड दरवाजे पर टांगकर जश्न मनाया करते थे....         ताकि भाईचार हमेशा बनी रहे!          अब शत्रुघ्न सिन्हा पाकिस्तान के राष्ट्रपति से मिलकर कश्मीर मुद्दे पर सुर में सुर मिलाया         सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         खून बेच कर हेरोइन का धुआं उड़ाते हैं गढ़वा के युवा         कब होगी जनादेश से जड़ों की तलाश          'नसबंदी का टारगेट', विवाद के बाद कमलनाथ सरकार ने वापस लिया सर्कुलर         पीढ़ियॉं तो पूछेंगी ही कि गाजी का अर्थ क्या होता है?         मातृ सदन की गंगा !         ओवैसी की सभा में महिला ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए         एक बार फिर चर्चा में हैं सामाजिक कार्यकर्ता "तीस्ता सीतलवाड़",शाहीनबाग में उन्हें औरतों को सिखाते हुए देखा गया         कनपुरिया गंगा, कनपुरिया गुटखा, डबल हाथरस का मिष्ठान और हरजाई माशूका सी साबरमती एक्सप्रेस..         शाहीन बाग में वार्ता विफल : जिस दिन नागरिकता कानून हटाने का एलान होगा, हम उस दिन रास्ता खाली कर देंगे         फ्रांस में विदेशी इमामों और मुस्लिम टीचर्स पर प्रतिबंध         'राष्ट्रवाद' शब्द में हिटलर की झलक, भारत कर सकता है दुनिया की अगुवाई : मोहन भागवत         आतंकवाद के खिलाफ चीन ने पाकिस्तान का साथ छोड़ा         दिमाग में गोबर, देह पर गेरुआ!          त्राल में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया         CAA-NRC-NPR के समर्थन में रिटायर्ड जज और ब्यूरोक्रेट्स ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र         अनब्याही माँ : चपला के बहाने इतिहास को देखा          भारतीय पत्रकारिता को फफूंदी बनाने वाली पत्रकार यूनियनें..         ब्रिटेन और फ्रांस को पीछे छोड़ भारत बना दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था        

जहांगीरी घंटा लोकतंत्र में नादान बजाते हैं किरण..

Bhola Tiwari Aug 17, 2019, 7:39 AM IST पॉलिटिकल
img


 राजीव मित्तल

यह प्रहसन थोड़ा पुराना है लेकिन भारतीय लोकतंत्र में हर समय मौजूं है अब चाहे ताली पीटो या सिर धुनो..

खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे तो सुना था और आगे भी सुनेंगे, लेकिन जब वो खिसियाती हैं तो उन्हें 16 साल की किरण में सपनों को मटियामेट कर देने वाली सोनिया क्यों नजर आती है..

दशकों से पूरे ब्राह्मांड में लोकतंत्र की अलख जगा रहे भारतवर्ष में लोकहित की बात करने लोकतांत्रिक तरीके से मुख्यमंत्री बनीं अपनी नेता से मिलने किरण लखनऊ पहुंच गयी.. लेकिन वो भूल गयी कि यह सन् 2008 का लखनऊ है सन् 1620 का आगरा नहीं..वो जमाना जहांगीर का था..

सलीम को बादशाह जहांगीर बनने के लिये किसी वोटबैंक की जरूरत नहीं पड़ी, किसी गरीब या अमीर से कोई वादा नहीं करना पड़ा. माबदौलत तेरे पास वोट मांगने कभी नहीं आएंगे, हां, तू कुछ भी मांगने हमारे पास कभी भी आ सकता है..तेरे लिये अपने किले के बाहर एक घंटा लगवा दिया है, हमारी तरफ से जब भी कोई परेशानी हो या हमारा कोई अफसर या कर्मचारी तुझे परेशान करे, तू टनटना देना, सब ठीक हो जाएगा..

बताया जाता है कि उस बादशाही घंटे की जद में मलिका नूरजहां तक आ गयी थीं..

अनुमान है कि किरण को इस लोकतंत्र में जहांगीरी घंटे की ही याद रही और वह पहुंच गयी लखनऊ.. लखनऊ भी वह साइकिल से गयी ताकि राजदरबार में हौसलाअफजाई भी हो कि वाह क्या लड़की है..

लेकिन मेरठ से साइकिल चला कर लखनऊ गयी किरण यह क्यों भूल गयी कि भारतीय लोकतंत्र पांच सौ किलोमीटर साइकिल चला कर लखनऊ गयी किरण का नहीं, वोटों का मोहताज है और तब तो किरण के होने या उसके पांच सौ किलोमीटर साइकिल चलाने का वैसे भी कोई अर्थ नहीं, जब चुनाव के तीन साल बाकी हों..सत्ता की कुर्सी को दूर-दूर तक छूने वाला तो दूर, उसकी तरफ देखने का साहस रखने वाला तक कोई न हो..

उत्साह से भरी किरण को राजदरबार में घुसने देना तो दूर, लखनऊ की सड़कों या गलियों तक में कदम धरने की बंदिश लगा दी गयी.. और जब वह अपनी नेता से मिलने के लिये अड़ गयी तो उसे जीप में डाल कर उसके शहर मेरठ पहुंचा दिया गया..

अपनी नेता या मुख्यमंत्री से उसकी मात्र इतनी सी डिमांड थी कि जिस सरकारी मदद से उसने अपनी पढ़ाई पूरी की, अन्य लड़कियों को भी वह मदद मिलती रहे, उसे बंद न किया जाए, जो एक धचके में बंद कर दी गयी.. किरण भूल गयी कि अब जहांगीरी घंटा इतिहास की गर्द में धूल फांक रहा है और लोकतंत्र में बादशाहों की ये सब बकवासें नहीं चला करतीं..

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links