ब्रेकिंग न्यूज़
लोहरदगा में कर्फ्यू :  CAA के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर पथराव, कई लोग घायल         पेरियार विवाद : क्या तमिल सुपरस्टार रजनीकांत की बातें सही हैं जो उन्होंने कही थी ?         पत्‍थलगड़ी आंदोलन का विरोध करने पर हुए हत्‍याकांड की होगी एसआईटी जांच, सीएम हेमंत सोरेन दिए आदेश         एक ही रास्ता...         अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक        

जहांगीरी घंटा लोकतंत्र में नादान बजाते हैं किरण..

Bhola Tiwari Aug 17, 2019, 7:39 AM IST पॉलिटिकल
img


 राजीव मित्तल

यह प्रहसन थोड़ा पुराना है लेकिन भारतीय लोकतंत्र में हर समय मौजूं है अब चाहे ताली पीटो या सिर धुनो..

खिसियानी बिल्ली खम्भा नोचे तो सुना था और आगे भी सुनेंगे, लेकिन जब वो खिसियाती हैं तो उन्हें 16 साल की किरण में सपनों को मटियामेट कर देने वाली सोनिया क्यों नजर आती है..

दशकों से पूरे ब्राह्मांड में लोकतंत्र की अलख जगा रहे भारतवर्ष में लोकहित की बात करने लोकतांत्रिक तरीके से मुख्यमंत्री बनीं अपनी नेता से मिलने किरण लखनऊ पहुंच गयी.. लेकिन वो भूल गयी कि यह सन् 2008 का लखनऊ है सन् 1620 का आगरा नहीं..वो जमाना जहांगीर का था..

सलीम को बादशाह जहांगीर बनने के लिये किसी वोटबैंक की जरूरत नहीं पड़ी, किसी गरीब या अमीर से कोई वादा नहीं करना पड़ा. माबदौलत तेरे पास वोट मांगने कभी नहीं आएंगे, हां, तू कुछ भी मांगने हमारे पास कभी भी आ सकता है..तेरे लिये अपने किले के बाहर एक घंटा लगवा दिया है, हमारी तरफ से जब भी कोई परेशानी हो या हमारा कोई अफसर या कर्मचारी तुझे परेशान करे, तू टनटना देना, सब ठीक हो जाएगा..

बताया जाता है कि उस बादशाही घंटे की जद में मलिका नूरजहां तक आ गयी थीं..

अनुमान है कि किरण को इस लोकतंत्र में जहांगीरी घंटे की ही याद रही और वह पहुंच गयी लखनऊ.. लखनऊ भी वह साइकिल से गयी ताकि राजदरबार में हौसलाअफजाई भी हो कि वाह क्या लड़की है..

लेकिन मेरठ से साइकिल चला कर लखनऊ गयी किरण यह क्यों भूल गयी कि भारतीय लोकतंत्र पांच सौ किलोमीटर साइकिल चला कर लखनऊ गयी किरण का नहीं, वोटों का मोहताज है और तब तो किरण के होने या उसके पांच सौ किलोमीटर साइकिल चलाने का वैसे भी कोई अर्थ नहीं, जब चुनाव के तीन साल बाकी हों..सत्ता की कुर्सी को दूर-दूर तक छूने वाला तो दूर, उसकी तरफ देखने का साहस रखने वाला तक कोई न हो..

उत्साह से भरी किरण को राजदरबार में घुसने देना तो दूर, लखनऊ की सड़कों या गलियों तक में कदम धरने की बंदिश लगा दी गयी.. और जब वह अपनी नेता से मिलने के लिये अड़ गयी तो उसे जीप में डाल कर उसके शहर मेरठ पहुंचा दिया गया..

अपनी नेता या मुख्यमंत्री से उसकी मात्र इतनी सी डिमांड थी कि जिस सरकारी मदद से उसने अपनी पढ़ाई पूरी की, अन्य लड़कियों को भी वह मदद मिलती रहे, उसे बंद न किया जाए, जो एक धचके में बंद कर दी गयी.. किरण भूल गयी कि अब जहांगीरी घंटा इतिहास की गर्द में धूल फांक रहा है और लोकतंत्र में बादशाहों की ये सब बकवासें नहीं चला करतीं..

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links