ब्रेकिंग न्यूज़
अमेरिका ने चीन की 33 कंपनियों को किया ब्लैकलिस्ट, ड्रैगन भी कर सकता है पलटवार         BIG NEWS : भारत अड़ंगा ना डालें, गलवान घाटी चीन का इलाका         BIG NEWS : भारत की आक्रामक नीति से घबराया बाजवा बोल पड़ा "कश्मीर मसले पर पाकिस्तान फेल"         BIG NEWS : डोकलाम के बाद भारत और चीन की सेनाओं के बीच हो सकती है सबसे बड़ी सैन्य तनातनी         BIG NEWS : झारखंड के 23वें जिला खूंटी में पहुंचा कोरोना, सोमवार को राज्य में 28 नए मामले         BIG NEWS : कश्मीर के नाम पर पाकिस्तानी ने इंग्लैंड के गुरुद्वारा में किया हमला         BIG NEWS : बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट में किसने लगाई आग! लाखों का नुकसान          BIG NEWS : इंडिया और इज़राइल मिलकर खोजेंगे कोविड-19 का इलाज         CBSE : अपने स्कूल में ही परीक्षा देंगे छात्र, अब देशभर में 15000 केंद्रों पर होगी परीक्षा         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में कमांडर आदिल वानी समेत दो आतंकी ढेर         BIG NEWS : लद्दाख बॉर्डर पर भारत ने तंबू गाड़ा, चीन से भिड़ने को तैयार         ममता बनर्जी को इतना गुस्सा क्यों आता है, कहा आप "मेरा सिर काट लीजिए"         GOOD NEWS ! रांची से घरेलू उड़ानें आज से हुईं शुरू, हवाई यात्रा करने से पहले जान लें नए नियम         .... उनके जड़ों की दुनिया अब भी वही हैं         आतंकियों को बचाने के लिए सुरक्षाबलों पर पत्थरबाज़ी, जवाबी कार्रवाई में कई घायल         BIG NEWS : पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर तौफीक उमर को कोरोना, अब पाकिस्तान में 54 हजार के पार         महाराष्ट्र में खुल सकते है 15 जून से स्कूल , शिक्षा मंत्री ने दिए संकेत         BIG NEWS : सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप आतंकी सहयोगी वसीम गनी समेत 4 आतंकी को किया गिरफ्तार         आतंकी साजिश नाकाम : सुरक्षाबलों ने पुलवामा में आईईडी बम बरामद         BREAKING: नहीं रहे कांग्रेस के विधायक राजेंद्र सिंह         पानी रे पानी : मंत्री जी, ये आप की राजधानी रांची है..।         BIG NEWS : कल दो महीने बाद नौ फ्लाइट आएंगी रांची, एयरपोर्ट पर हर यात्री का होगा टेस्ट         BIG NEWS : भाजपा के ताइवान प्रेम से चिढ़ा ड्रैगन, चीन ने दर्ज कराई आपत्ति         सिर्फ विरोध से विकास का रास्ता नहीं बनता....         सीमा पर चीन ने बढ़ाई सैन्य ताकत, मशीनें सहित 100 टेंट लगाए, भारतीय सेना ने भी सैनिक बढ़ाए         BIG NEWS : केजरीवाल सरकार ने सिक्किम को बताया अलग राष्ट्र         महिला पर महिलाओं द्वारा हिंसा.... कश्मकश में प्रशासन !         BIG NEWS : वैष्णों देवी धाम में रोज़ाना 500 मुस्लिमों की सहरी-इफ्तारी की व्यवस्था         विस्तारवादी चीन हांगकांग पर फिर से शिकंजा कसने की तैयारी में, विरोध-प्रर्दशन शुरू         BIG NEWS : स्पेशल ट्रेन की चेन पुलिंग कर 17 मजदूर रास्ते में ही उतरे         भक्ति का मोदी काल ---         अम्फान कहर के कई चेहरे, एरियल व्यू देख पीएम मोदी..!         महिला को अर्द्धनग्न कर घुमाया गया !         टिड्डा सारी हरियाली चट कर जाएगा...         'बनिया सामाजिक तस्कर, उस पर वरदहस्त ब्राह्मणों का'         इतिहास जो हमें पढ़ाया नहीं गया...         झारखंड : शुक्रवार को 15 कोरोना         BIG NEWS : जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा प्लेन, कई घरों में लगी आग, जीवन बचाने के लिए भागे लोग         BIG NEWS : पाकिस्तान की फ्लाइट क्रैश, विमान में सवार सभी 107 लोगों की मौत        

कब तक अनेकों "पहलू खान" यूँ बेमौत मरते रहेंगे

Bhola Tiwari Aug 15, 2019, 3:38 PM IST टॉप न्यूज़
img


अजय श्रीवास्तव

01 अप्रैल 2017,हरियाणा के नूर मेवात के जयसिंहपुरा ग्राम निवासी पहलू खान जो पेशे से डेयरी व्यवसायी थे जयपुर से दो दूध देने वाली गाय खरीदकर वापस अपने गाँव लौट रहे थे।उस पिकअप वैन में पहलू खान के साथ उनके दो पुत्र अजमत और रफीक के अलावा ड्राइवर अर्जुन यादव भी सवार थे।शाम सात बजे जब गाड़ी बहरोड़ पुलिया से आगे निकलती है तब कुछ लोग जबरजस्ती पिकअप को रोक देते हैं और उनपर आरोप लगाते हैं कि वे "गोतस्कर" हैं और वे गाय को बेचने के लिए बुचड़खाने ले जा रहें हैं।पहलू खान और उनके दोनों पुत्र लाख मिनती कर कहते हैं कि वे अपने गाँव में डेयरी का काम करते हैं, इसवजह से वे दूध देने वाली गाय को खरीदकर अपने गाँव जा रहें हैं।भीड़ में शामिल तथाकथित गोरक्षक पहलू खान और उनके पुत्रों की बात नहीं सुनते और उनकी पिटाई शुरू हो जाती है।पहलू खान गिड़गिड़ाते हुए कहते हैं कि मुझे अगर गाय को माँस के लिए ही बेचना-खरीदना होता तो मैं बुढ़ी गाय खरीदता जो दूध नहीं देती हैं।मगर भीड़तंत्र उनकी नहीं सुनती, पुलिस के आने तक पहलू खान को मारकर अधमरा कर दिया जाता है।पुलिस उन्हें लाद-फांदकर पास के कैलाश हाँस्पिटल में इलाज के लिए ले जाती है मगर दो दिन जीवन और मौत से संघर्ष के बाद जीवन हार जाता है और मौत अट्टहास करती है और कहती है देखो मैं जीत गई।

इस हत्याकांड में दो एफआईआर दर्ज होते हैं पहला उन नौ आरोपियों पर जिसने पहलू खान को पीट पीटकर मार डाला था,दूसरा एफआईआर पहलू खान और उसके दो पुत्रों पर गोतस्करी के मामलों में होती है।पहलू खान और उसके दो पुत्रों पर पुलिस इस आधार पर एफआईआर दर्ज करती है कि उन्होंने बिना कलेक्टर के आदेश से पशुओं को ले जा रहे थे।आरोपी में तीन नाबालिग भी थे,जिनपर केस किशोर न्यायालय में चल रहा है।आरोपियों के नाम क्रमशः विपिन यादव,रविंद्र कुमार, कालूराम, दयानंद, योगेश कुमार और भीम राठी हैं जो तथाकथित गोरक्षा समिति के सदस्य हैं।

दो साल ये मामला अलवर के डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में चलता है।पहलू खान के बेटे इरशाद की याचिका पर फैसला सुनाते हुए अलवर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट की जज सरिता स्वामी ने सबूतों के अभाव में सभी अभियुक्तों को बरी कर दिया।

कोर्ट के फैसले पर एडिशनल मुख्य सचिव(गृह)राजीव स्वरूप ने कहा है कि राज्य सरकार फैसले के खिलाफ अपील करेगी।अपर लोक अभियोजक योगेंद्र सिंह खटाणा ने अलवर के अतिरिक्त सत्र न्यायालय(संख्या एक)के बाहर संवाददाताओं को बताया,"अदालत ने छह आरोपियों को संदेश का लाभ देते हुए बरी कर दिया है।उन्होंने कहा,"फैसले की प्रति अभी हमें नहीं मिली है,फैसले का अध्ययन करने के बाद हम निश्चित रूप से उच्च न्यायालय में अपील करेंगे।"

आपको बता दें उस समय इस घटना ने काफी तुल पकडा था,इसे मजहबी और राजनीतिक रंग देने की काफी कोशिशें की गई थी।आरोपियों को बचाने के लिए पुलिस पर काफी दवाब था और शायद उनकी मेहनत रंग दिखा गई।पुलिस ने सत्तारूढ़ दल के लोकल नेताओं के दवाब में केस को कमजोर कर दिया।पहलू खान हत्याकांड का सबसे अहम सबूत वह वीडियो था,जिसमें पूरी घटना की रिकार्डिंग थी मगर पुलिस ने उस वीडियो की एफएसएल जाँच नहीं करवाई जिसकी वजह से डिस्ट्रिक्ट जज ने उस वीडियो सबूत को खारिज कर दिया।कोर्ट ने यह भी कहा कि वीडियो को ऐडमिसेबल सबूत नहीं माना जा सकता।कोर्ट ने अपने जजमेंट में ये भी कहा कि आरोपियों की शिनाख्त परेड जेल में नहीं कराई गई है ऐसे में गवाहों पर पूरी तरह से भरोसा नहीं किया जा सकता।विद्वान जज ने ये भी कहा कि मोबाइल की सीडीआर को भरोसेमंद सबूत के तौर पर नहीं माना जा सकता है।कैलाश अस्पताल के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी मारपीट की बात स्पष्ट नहीं है।

कोर्ट ने कहा सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि पहलू खान ने जिन छह लोगों का नाम "डाईंग डिक्लेरेशन" में बताया था,वे लोग आरोपियों में शामिल नहीं थे।इसके अलावा कोर्ट ने यह भी कहा कि पहलू खान का बेटा कोर्ट के अंदर भी अपराधियों की पहचान नहीं कर सका।

जज साहिबा आपके जजमेंट पर कोई सवाल नहीं है मगर ये तो आप भी अच्छी तरह जानती हैं कि ये सारे हीं अपराधी हैं,अगर किसी हत्यारे ने पुलिस को खरीद लिया तो क्या वो हत्यारा नहीं है?कोर्ट एफएसएल जाँच के आदेश दे सकती थी,पुलिस को और एविडेंस जुटाने के लिए कह सकती थी मगर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने ऐसा नहीं कहा।जो मामला बिल्कुल साफ था उसपर धुंध की चादर आपने फैला दी।इतने साफ केस में भी अगर अभियुक्त बरी हो जाए तो पीड़ित न्याय की उम्मीद कहाँ से करेगा।सभी तो हाईकोर्ट और सुप्रीमकोर्ट नहीं जा सकते,डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में मिले न्याय हीं उसका सहारा होता है।

अगर विभिन्न कोर्ट से इस प्रकार माँब लीचिंग के हत्यारे बचते रहे तो न्याय पर से तो लोगों का विश्वास उठ जाएगा।अल्पसंख्यकों को यूँहीं झूठे इल्जाम लगाकर कब तक मारा जाएगा?आखिर किसी चीझ की भी इंतहा होती है, बर्दाश्त की एक सीमा होती है।मैं ये नहीं कहता हूँ कि गोतस्करी नहीं होती है और इसमें 70% मुसलमान शामिल रहते हैं मगर उसके लिए जो अल्पसंख्यक निर्दोष है उसे सजा क्यों?भीड द्वारा सजा दिया जाना बिल्कुल गलत है और इससे समाज में अविश्वास बढ़ेगा।अगर कोई गोतस्कर है तो उसे सजा देने का अधिकार कोर्ट को है,आप पुलिस में सूचना देकर उसे पकडवा सकते हैं।

कभी डायन कहकर, कभी बच्चा चुराने वाला कहकर भीड द्वारा उसी जगह पर सजा देने की कोशिशों को बलपूर्वक रोकना होगा, नहीं तो यह एकदिन समाज के लिए बडा सिरदर्द हीं साबित होने वाला है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links