ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : दिशा सलियान का निर्वस्त्र शव पोस्टमार्टम के लिए दो दिनों तक करता रहा इंतजार          BIG NEWS : टेरर फंडिंग मॉड्यूल का खुलासा, लश्कर-ए-तैयबा के 6 मददगार गिरफ्तार         BIG NEWS : एलएसी पर सेना और वायु सेना को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश         BIG NEWS : राजस्थान का सियासी जंग : कांग्रेस के बाद अब भाजपा विधायकों की घेराबंदी         BIG NEWS : देवेंद्र सिंह केस ! NIA की टीम ने घाटी में कई जगहों पर की छापेमारी         बाढ़ और संवाद हीनता          BIG NEWS : पटना एसआईटी टीम के साथ मीटिंग कर सबूतों और तथ्यों को खंगाल रही है CBI         BIG NEWS : सुशांत सिंह की मौत के बाद रिया चक्रवर्ती और बांद्रा डीसीपी मे गुफ्तगू         BIG NEWS : भारत और चीन के बीच आज मेजर जनरल स्तर की वार्ता, डिसएंगेजमेंट पर होगी चर्चा         BIG NEWS : मनोज सिन्हा ने ली जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल पद की शपथ, संभाला पदभार         BIG NEWS : पुंछ में एक और आतंकी ठिकाना ध्वस्त, AK-47 राइफल समेत कई हथियार बरामद         BIG NEWS : सीएम हेमंत सोरेन ने भाजपा सांसद निशिकांत दुबे के खिलाफ किया केस         BIG NEWS : मुंबई में ED के कार्यालय पहुंची रिया चक्रवर्ती          BIG NEWS : शोपियां में मिले अपहृत जवान के कपड़े, सर्च ऑपरेशन जारी         मुंबई में सड़कें नदियों में तब्दील          BIG NEWS : पाकिस्तान आतंकवाद के दम पर जमीन हथियाना चाहता है : विदेश मंत्रालय         BIG NEWS : श्रीनगर पहुंचे जम्मू-कश्मीर के नये उपराज्यपाल मनोज सिन्हा, आज लेंगे शपथ         सुष्मान्जलि कार्यक्रम में सुषमा स्वराज को प्रकाश जावड़ेकर सहित बॉलीवुड के दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि           BIG NEWS : जीसी मुर्मू होंगे देश के नए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक          BIG NEWS : सीबीआई ने रिया समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया         बंद दिमाग के हजार साल           BIG NEWS : कुलगाम में आतंकियों ने की बीजेपी सरपंच की गोली मारकर हत्या         BIG NEWS : अयोध्या में भूमि पूजन! आचार्य गंगाधर पाठक और PM मोदी की मां हीराबेन         मनोज सिन्हा होंगे जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार         BIG NEWS : सदियों का संकल्प पूरा हुआ : मोदी         BIG NEWS : लालू प्रसाद यादव को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में किया गया स्विफ्ट         BIG NEWS : अब पाकिस्तान ने नया मैप जारी कर जम्मू कश्मीर, लद्दाख और जूनागढ़ को घोषित किया अपना हिस्सा         हे राम...         BIG NEWS : सुशांत केस CBI को हुआ ट्रांसफर, केंद्र ने मानी बिहार सरकार की सिफारिश         BIG NEWS : पीएम मोदी ने अयोध्या में की भूमि पूजन, रखी आधारशिला         BIG NEWS : PM मोदी पहुंचे अयोध्या के द्वार, हनुमानगढ़ी के बाद राम लला की पूजा अर्चना की         BIG NEWS : आदित्य ठाकरे से कंगना रनौत ने पूछे 7 सवाल, कहा- जवाब लेकर आओ         रॉकेट स्ट्राइक या विस्फोटक : बेरूत के तट पर खड़े जहाज में ताकतवर ब्लास्ट, 73 की मौत         BIG NEWS : भूमि पूजन को अयोध्या तैयार         रामराज्य बैठे त्रैलोका....         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत की मौत से मेरा कोई संबंध नहीं : आदित्य ठाकरे         BIG NEWS : दीपों से जगमगा उठी भगवान राम की नगरी अयोध्या         BIG NEWS : पूर्व मंत्री राजा पीटर और एनोस एक्का को कोरोना, कार्मिक सचिव भी चपेट में         BIG NEWS : अब नियमित दर्शन के लिए खुलेंगे बाबा बैद्यनाथ व बासुकीनाथ मंदिर          BIG NEWS : श्रीनगर-बारामूला हाइवे पर मिला IED बम, आतंकी हादसा टला         BIG NEWS : सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी, प्रदीप सिंह ने किया टॉप, झारखंड के रवि जैन को 9वां रैंक, दीपांकर चौधरी को 42वां रैंक         सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुख्यमंत्री नीतीश ने की CBI जांच की सिफारिश         BIG NEWS : आतंकियों ने सेना के एक जवान को किया अगवा          बिहार DGP का बड़ा बयान, विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने के मामले में भेजेंगे प्रोटेस्ट लेटर         BIG NEWS : सुशांत सिंह राजपूत केस में बिहार पुलिस के हाथ लगे अहम सुराग !         BIG NEWS : दिशा सालियान...सुशांत सिंह राजपूत मौत प्रकरण की अहम कड़ी...         BIG NEWS : पटना पुलिस ने खोजा रिया का ठिकाना, नोटिस भेज कहा- जांच में मदद करिए         BIG NEWS : छद्मवेशी पुलिस के रूप में घटनास्थल पर कुछ लोगों के पहुंचने के संकेत         लिव-इन माने ट्राउबल बिगिन... .         

क्रांति का सेंसेक्स : आजाद की मां दो रोटी को तरसे और मंगल पांडे बनने के लिए आमिर ने आठ करोड़ लिए

Bhola Tiwari Aug 12, 2019, 10:02 AM IST टॉप न्यूज़
img

■ जब मुजफ्फरपुर में खुदीराम बोस को याद किया था


राजीव मित्तल

अपने ही अखबार में बारह नंबर पेज पर जा रही खबर से पता चला कि अस्सी साल पहले 27 फरवरी को चन्द्रशेखर आजाद इलाहबाद के अल्फ्रेड पार्क में पुलिस से लड़ते हुए शहीद हुए थे..और मुजफ्फरपुर में इन्हीं आँखों से कम्पनी बाग़ में वो जगह भी देखी है, जहां खुदीराम बोस और प्रफुल्ल चाकी ने अंग्रेज जज को मारने की कोशिश की थी..वहां अब वो ओपन संडास बने हुए हैं .....और देखें हैं दिल्ली में खूब सारे हरे भरे सजे हुए वन, जहां आज़ाद भारत के कई रहनुमा अपनी समाधियों में इतराए पड़े हैं कि देश को आज़ाद उन्हीं ने कराया तो वसूली तो पूरी हो.....मरने के बाद भी...

इस लेख में आजाद की शहादत पर एक शब्द नहीं है क्योंकि दोस्तों, हम बाज़ार के साथ हैं और आजाद की, बिस्मिल की, अशफाक की या उन जैसे हज़ारों की शहादत से बाज़ार को कोई कीमत वसूल नहीं होनी......ज़रा सोचिये, आजाद या बिस्मिल को लेकर केतन मेहता या कोई उन जैसा फिल्म बनाना चाहे तो वो किस हिरोइन को लेगा नाचने गाने के लिए..इन दोनोंशहीदों ने बगैर किसी चोंचलेबाजी के केवल देश से प्यार जो किया था। कोई ठुमका नहीं कोई झुमका नहीं....तो स्स्सला ऐसा देशप्रेम किस भाव बिकेगा.....देश की सात सुन्दरियों को मिस वर्ल्ड और सात को ही मिस यूनिवर्स की उपाधि मिल गयी .....मार्केट पर कब्ज़ा करने के लिए बहुत है .....आइये देखें क्रांति का सेंसेक्स............. 

इसे कहते हैं बाजार का खेल कि 1857 के सैनिक विद्रोह के ठीक 50 साल बाद अंग्रेजी राज को दहशत में डालने वाली खुदीराम बोस और प्रफुल्ल चाकी की शहादत को लेकर देश भर के स्कूली बच्चों का निहायत बेगाना रवैया और 1857 की गदर शुरू होने से ठीक पहले फांसी पर लटके मंगल पांडे का देश भर में इस्तकबाल!!

वैसे देखा जाए तो 1908 के मुजफ्फरपुर बम कांड का क्या असर हुआ, इसकी आज देश भर में कितनों को जानकारी है! खुदीराम बोस और प्रफुल्ल चाकी ने अंग्रेजी सत्ता के खिलाफ बगावत का ऐलान करते हुए इसी मुजफ्फरपुर की धरती पर बम फोड़ा था और इससे भी बड़ी बात यह कि ब्रितानी बादशाहत पर 20 वीं शताब्दी के शुरू में ही यह पहला वार था..और उससे भी बड़ी बात यह कि 1757 के प्लासी युद्ध में जीत हासिल करने के बाद भारत में अपने पैर जमाने और फिर अपनी सत्ता स्थापित कर चुके अंग्रेजों पर यह पहला सुनियोजित गैर सैनिक हमला था..

लेकिन जब हम भारतीय क्रांति के अग्रदूत खुदीराम बोस की मूर्ति पर हर साल फूलमाला पहनाने से ज्यादा कुछ नहीं कर सकते तो हम इतना भी कैसे जान सकते हैं कि फांसी की सजा सुन खुदीराम बोस का वजन बढ़ गया था और जब उनके गले में जल्लाद ने रस्सी डाली तो उनकी उम्र अट्ठारह साल भी नहीं थी..और पुलिस के हाथों पड़ने से बचने के लिए 18 ही साल के प्रफुल्ल चाकी ने अपने को गोली मार ली थी..दोनों को मरते समय बस यही मलाल था कि आतातायी अंग्रेज जज किंग्सफोर्ड उनके बम की मार से बच गया..

अब आइये बाजार की ताकत पर एक नजर डालें..तय मानिये कि अगले कुछ ही दिनों में सारे देश में मंगल पांडे का नाम घर-घर गूंज रहा होगा, इसलिए नहीं कि उन्होंने फांसी पर चढ़ कर कर कोई बहुत बड़ा तीर मारा था, बस इसलिए कि उनके नाम के साथ रानी मुखर्जी और अमीषा पटेल का नाम भी सट गया है और आमिर खान उन्हीं के गेटअप में देश भर के सैंकड़ों सिनेमाघरों में अपनी अदाकारी दिखा रहे हैं.. 

यह बाजार का मीडियायी रूप ही है, जिसने तीन साल पहले ही इस बात को चर्चा का विषय बना दिया था कि मंगल पांडे बनने के लिए आमिर ने आठ करोड़ लिए........नब्बे साल के हिंदी फिल्मों में अभिनय के इतिहास की सबसे ऊंची कीमत.........वल्लाह .....

वास्तविकता यही है कि बाजार ही है जो तय करता है कि किस शहीद का चौखटा किस धातु से मढ़ा जाए.. दो साल पहले भगतसिंह पर फिल्म बनाने की होड़ सी मच गयी थी, और जब कमाई आशानुरूप नहीं हुई तो सन्नी देओल और राजकुमार संतोषी ने पुरानी दोस्ती भुला कर एक-दूसरे की शान में ‘कसीदे’ काढ़े थे..

यह आर्थिक उदारीकरण का वह दौर है जिसमें सब कुछ बिकाऊ है-क्रांति भी, क्रांतिकारी भी, भगवान भी और भगवान के भक्त भी-बस बिकने की तमीज होनी चाहिये और बेचने की कुव्वत..

देश की आजादी के लिए कुर्बान हुए क्रांतिकारियों की शहादत अलग-अलग तराजू पर तोलने की चीज नहीं है..लेकिन जब रामप्रसाद बिस्मिल की बहन अपने भाई की शहादत के बाद लोगों के घरों में बर्तन मांज कर जीवन यापन करे, या चंद्रशेखर आजाद की मां दो रोटी को तरसे, या अशफाकउल्ला, राजेन्द्र लाहिड़ी, रोशन सिंह, राजगुरु, सुखदेव, शचींद्र सान्याल, शचींद्रनाथ बख्शी या 19वीं सदी के अंत में अपने दम पर अंग्रेजों से लोहा लेने वाले बलवंत फड़के, जो जेल में तपेदिक से मरे या फांसी पर झूल गए चाफेकर बंधु या उन जैसे हजारों शहीदों का आज कोई नामलेवा नहीं तो आमिर खान का आठ करोड़ और केतन मेहता का सौ करोड़ वाला ‘मंगल पांडे’ कौन सा संदेश देशवासियों या अपने ग्राहकों को देना चाहता है!

जबकि सच यह है, भले ही कड़वा हो, कि मंगल पांडे देश को अंग्रेजों से आजाद कराने के लिए उनसे लड़ कर फांसी पर नहीं चढ़े थे..अंग्रेजों अफसरों की कमान वाली देशी जवानों की फौज में अगर यह अफवाह जोर न पकड़ती कि अब जो नये कारतूस दिये जाएंगे, उनका खोल गाय या सुअर की चर्बी से बना होगा और उन्हें दांत से काट कर बंदूक में डालना होगा, तो न तो मंगल पांडे के संस्कार को चोट पहुंचती और न वह जुनून जागता, जिसने एक अंग्रेज अफसर की जान ले ली..किसान मंगल पांडे प्रेसीडेंसी डिविजन की 34वीं नेटिव इन्फेंट्री का सिपाही बन कर रिटायर होते और तब तक...या तो परेड-परेड या अपने ही देशवासियों के खिलाफ किसी मोर्चाबंदी में हिस्सेदारी कर रहे होते..

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links