ब्रेकिंग न्यूज़
दुबे के बाद क्या ?         मै हूं कानपुर का विकास...         BIG NEWS : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने 6 पुलों का किया ई उद्घाटन, कहा-सेना को आवाजाही में मिलेगी सुविधा         BIG NEWS : कुख्यात अपराधी विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार         BIG MEWS : चुटुपालु घाटी में आर्मी का गाड़ी खाई में गिरा, एक जवान की मौत, दो घायल         BIG NEWS : सेना ने फेसबुक, इंस्टाग्राम समेत 89 एप्स पर लगाया बैन         BIG NEWS : बांदीपोरा में आतंकियों ने बीजेपी नेता वसीम बारी की हत्या, हमले में पिता-भाई की भी मौत         नहीं रहे शोले के ''सूरमा भोपाली'', 81 की उम्र में अभिनेता जगदीप का निधन         गृह मंत्रालय ने IPS अधिकारी बसंत रथ को किया निलंबित, दुर्व्यवहार का आरोप         BIG NEWS : कुलभूषण जाधव ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने से किया इनकार, पाकिस्तान ने दिया काउंसलर एक्सेस का प्रस्ताव         पुलिस पूछ रही है- कहां है दुबे         झारखंड मैट्रिक रिजल्ट : स्टेट टॉपर बने मनीष कुमार         झारखंड बोर्ड परीक्षा रिजल्ट : कोडरमा अव्वल और पाकुड़ फिसड्डी         BIG NEWS :  मैट्रिक का रिजल्ट जारी, 75 परसेंट पास हुए छात्र         पाकिस्तान की करतूत, बालाकोट सेक्टर के रिहायशी इलाकों में की गोलाबारी, एक महिला की मौत          BIG NEWS : होम क्वारंटाइन हो गए हैं सीएम हेमंत सोरेन, आज हो सकता है कोरोना टेस्ट !         BIG NEWS : मंत्री मिथिलेश, विधायक मथुरा समेत 165 नए कोरोना पॉजिटिव         BIG NEWS : उड़ी सेक्टर में भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद         BIG NEWS : लद्दाख में एलएसी पर सेना पूरी तरह से मुस्तैद         CBSE: नौवीं से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के सिलेबस में होगी 30 फीसदी कटौती         BIG NEWS : पुलवामा आतंकी हमले में शामिल एक और OGW को NIA ने किया गिरफ्तार         BIG NEWS : कल घोषित होगा मैट्रिक का रिजल्ट         BIG NEWS : POK में चीन और पाकिस्तान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन         बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!         BIG NEWS : आतंकियों के साथ मिले जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह के खिलाफ चार्जशीट दायर         BIG NEWS : LAC पर चीनी सेना ने टेंट, वाहन और सैनिकों को 2 किलोमीटर तक पीछे हटाया         BIG NEWS : खालिस्तानी समर्थक संगठन “सिख फॉर जस्टिस” पर बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स बैन         BIG NEWS : चीन का मोहरा बना पाकिस्तान, POK में अतिरिक्त पाकिस्तानी फोर्स तैनात         हुवावे बैन : चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को बड़ा झटका         BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप        

गाड़ी बुला रही है, सीटी बजा रही है

Bhola Tiwari Aug 04, 2019, 9:45 AM IST टॉप न्यूज़
img



 दिनेश त्रिनेत

पिछले दिनों लंबी रेल यात्राओं के दौरान बहुत सी फिल्मी छवियां मन में कौंध गईं। भारतीय फिल्मों का तो रेलगाड़ी से गहरा रिश्ता रहा है। जरा सुपरहिट फिल्म 'शोले' का पहला सीन याद करिए। एक खाली से सूनसान प्लेटफार्म पर धुंआ उगलती ट्रेन रुकती है। एक शख्स उतरता है। इसके बाद से फिल्म के टाइटिल स्क्रीन पर उभरने शुरु होते हैं। निर्देशक बड़ी सहजता से हमें एक दूसरी दुनिया के भीतर लेकर जाता है। फिल्म खत्म होती है तो उसी सूनसान प्लेटफार्म से हम धर्मेंद्र को रामगढ़ से लौटते देखते हैं। घटनाओं की लंबी श्रृंखला के बाद दोबारा ट्रेन देखकर हमें अहसास होता है कि इस बीच कितना कुछ घटित हो गया। कितने नए रिश्ते बने, कितने बिछुड़े, किसी का प्रतिशोध पूरा हुआ, कोई अकेला रह गया। 

'पाकीज़ा' फिल्म की ट्रेन को कोई भूल सकता है। मीना कुमारी और राजकुमार की पहली मुलाकात ट्रेन में होना, राजकुमार का नोट लिखकर जाना - "आपके पांव बहुत हसीन हैं, इन्हें जमीन पर मत उतारिएगा, मैले हो जाएंगे"। मीना कुमारी के लिए वह पूरी जिंदगी का हासिल बन जाता है क्योंकि ये पांव तो कोठों पर नाचने वाली एक तवायफ के थे। ट्रेन की दूर से रुक-रुककर आती सीटी की आवाज़ मानों मीना कुमारी के लिए जीवन में एक नई उम्मीद की किरण बन जाती है। 

ट्रेन में दो अजनबियों का मिलना हमारे बॉलीवुड के लिए एक आइडियल सिचुएशन है। पहली नजर के प्यार से लेकर मीठी नोकझोंक तक के लिए यहां खूब स्पेस होता है। कई खूबसूरत रोमांटिक गीत ट्रेन में ही फिल्माए गए हैं। चाहें देव आनंद की "है अपना दिल तो आवारा..." हो या राजेश खन्ना की "मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू"। 'डीडीएलजे' में सिमरन का राज का हाथ थामने के लिए ट्रेन के साथ-साथ दौड़ना तो बॉलीवुड का एक आइकॅनिक सीन बन चुका है। धर्मेद्र की एक पुरानी फिल्म 'दोस्त' का एक गीत "गाड़ी बुला रही है, सीटी बजा रही है..." तो एक नैरेटर की तरह काम करता है। 


बॉलीवुड की यह ट्रेन ड्रामा भी क्रिएट करती है। घर से भागे हुए डरे-सहमे कोमल हृदय बालकों, लड़कियों या मजबूर स्त्रियों के लिए को कभी मालगाड़ी के डब्बों में शरण मिलती है तो कभी सवारी गाड़ी में। कभी ये परिवार को जोड़ती हैं तो कभी इन्हीं रेलगाड़ियों में परिवार बिछुड़ भी जाते हैं। फिल्म 'शक्ति' में अमिताभ और स्मिता पाटिल छेड़छाड़ के एक हादसे के बाद एक-दूसरे से मुखातिब होते हैं। मुज़रिमों के फरार होने के लिए रेलवे क्रासिंग से बेहतर कोई जगह नहीं होती और किसी ज़माने में खलनायक को मारने का एक आसान तरीका होता था कि उसका पैर पटरियों में फंस जाता था और सामने से ट्रेन आ रही होती थी। 

'द इकोनामिस्ट' ने बीती सदी का लेखाजोखा करते हुए रेल के बारे में कहा था कि इनकी मदद से न सिर्फ लोग एक एक जगह से दूसरी जगह पहुँचे बल्कि इसने विचारों के आदान-प्रदान में भी बड़ी भूमिका निभाई। सिर्फ बॉलीवुड नहीं लीक से हटकर बने सिनेमा में भी ट्रेन का बहुत अहम रोल रहा है। हवा में लहराते कपास के फूलों में बीच टहलते बच्चे, दूर से आती धुंआ उगलती ट्रेन और फिर पूरे स्क्रीन पर छा जाने वाली उसकी धक-धक। 'पाथेर पांचाली' का यह सीन विश्व सिनेमा के महानतम दृश्यों में से एक है। उन्हीं सत्यजीत रे की पूरी फिल्म 'नायक' ट्रेन में फिल्माई गई है। अवतार कौल की फिल्म '27 डाउन' ने मुंबई की लोकल ट्रेन को जैसे एक किरदार में बदल दिया था। हैंड-हेल्ड कैमरे की मदद से इसमें मुंबई के तत्कालीन जीवन के सबसे जीवंत दृश्य फिल्माए गए थे। 'गांधी' फिल्म की चर्चा तो ट्रेन के बगैर नहीं की जा सकती है। गांधी के जीवन में आए हर नए मोड़, उनके हर फैसले और हर नए कदम पर कहीं न कहीं ट्रेन मौजूद है। 

रेलगाड़ियां अभी भी फिल्मों में अक्सर दिख जाती हैं मगर उनका फिल्म की कहानी से और किरदारों से वह रिश्ता नज़र नहीं आता। "शनै: शनै: होती जाती है अब जीवन से दूर/ आशिक जैसी विकट उसासें वह सीटी भरपूर"। वीरेन डंगवाल की कविता 'भाप इंजन' की ये महज एक पंक्ति हमारे समाज से एक पूरे दौर के खत्म होने को बयान करती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links