ब्रेकिंग न्यूज़
बारामूला में हिजबुल मुजाहिदीन का एक OGW गिरफ्तार, हैंड ग्रेनेड बरामद         अंदरखाने खोखला, बाहर-बाहर हरा-भरा...!         BIG NEWS : आतंकियों के साथ मिले जम्मू-कश्मीर पुलिस के निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह के खिलाफ चार्जशीट दायर         BIG NEWS : LAC पर चीनी सेना ने टेंट, वाहन और सैनिकों को 2 किलोमीटर तक पीछे हटाया         BIG NEWS : खालिस्तानी समर्थक संगठन “सिख फॉर जस्टिस” पर बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स बैन         BIG NEWS : चीन का मोहरा बना पाकिस्तान, POK में अतिरिक्त पाकिस्तानी फोर्स तैनात         हुवावे बैन : चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को बड़ा झटका         BIG NEWS : चीन की शह पर रात के अंधेरे में सरहद पर फौज तैनात कर रहा है पाकिस्तान         गोडसे की अस्थियां अपने मुक्ति को...         दिल्ली-एनसीआर में बार-बार क्यों कांप रही धरती...         इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना की वजह से निधन         BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस        

मध्यस्थता का स्वागत !

Bhola Tiwari Jul 28, 2019, 7:17 AM IST टॉप न्यूज़
img


 ध्रुव गुप्त

सुप्रीम कोर्ट द्वारा राम जन्मभूमि मंदिर और बाबरी मस्जिद के विवाद को मध्यस्थता से सुलझाने की कोशिश एक बेहतरीन कदम है। उसे पता है कि इस मसले को जमीन का विवाद मानकर फैसला देने से विवाद सुलझने के बज़ाय कुछ और उलझेगा। उसका फैसला जिसके पक्ष में भी जाए, बहुत सारे दर्द और सवाल छोड़ जाएगा। हिन्दुओं के पक्ष फैसले के बाद राम मंदिर बन भी जाय तो देश के मुसलमानों में लंबे अरसे तक फैसले की टीस बनी रहेगी। फैसला अगर मुस्लिमों के पक्ष में गया तो मंदिर के लिए संघर्षरत हिन्दुओं का एक बड़ा वर्ग इसे किसी भी हालत में स्वीकार नहीं करेगा। इस स्थिति में तर्क, क़ानून और संविधान पर आस्था को तरज़ीह देने वाले इस देश की सांप्रदायिक स्थिति कैसी भयावह होगी इसकी कल्पना कुछ मुश्किल नहीं है। इस संवेदनशील मामले का हल सभी पक्षों द्वारा मिलकर सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में ही निकाला जाना उचित होगा। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त तीनों मध्यस्थों की कोशिशें तभी सफल होगी जब विवाद से जुड़े सभी पक्ष अपनी हठधर्मिता छोड़कर लचीला रुख अपनाएं। यदि मुस्लिम इस बात पर अड़े रहे कि विवादास्पद जमीन पर उन्हें बाबरी मस्जिद से कम कुछ भी स्वीकार नहीं है तो अब यह मुमकिन नहीं है। हिन्दू अगर इस बात पर कायम रहे कि वहां सिर्फ राम मंदिर बने और मस्जिद को सरयू के पार कहीं स्थानांतरित कर दिया जाय तो यह भी नहीं होने वाला। मेरी समझ में जन्मभूमि मानी जाने वाली जगह पर मंदिर और उसके बगल में मस्जिद बनाने का फार्मूला मध्यस्थता के लिए प्रस्थान-बिंदु हो सकता है। जब ईश्वर और ख़ुदा के बीच कोई फ़ासला नहीं तो उनके मंदिर और मस्जिद एक साथ क्यों नहीं रह सकते ? यह कहना फ़िज़ूल है कि मंदिर और मस्जिद के एक साथ होने से अनंत काल तक विधि-व्यवस्था की समस्या बनी रहेगी। इस देश के कई शहरों और गांवों में मंदिर और मस्जिद का शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व क़ायम है। पटना में जंक्शन के सामने सैकड़ों सालों से शान से अगल-बगल खड़े पुराने महावीर मंदिर और जामा मस्जिद शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का सबसे बड़ा प्रमाण है। यहां किसी त्योहार के वक़्त मुस्लिम हिन्दू श्रद्धालुओं की और ईद-बकरीद के दौरान हिन्दू नमाज़ियों की सेवा का बेहतरीन उदाहरण पेश करते रहे हैं। 

देश के विषैले सियासी माहौल देखते हुए आशंका यह है कि सुप्रीम कोर्ट की मध्यस्थता में सांप्रदायिक सौहार्द्र की मिसाल क़ायम करने की किसी भी कोशिश का साथ देने कोई पक्ष आगे भी आएगा। आखिर राजनीति और धर्म के ठेकेदारों की रोजी-रोटी ऐसे अनसुलझे सवालों से ही तो चलती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links