ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस         BIG NEWS : ड्रैगन के खिलाफ एक्शन में भारत, कार्रवाई से चीन में भारी नुकसान की आहट         BIG NEWS : भारत की कृतिका पांडे को मिला राष्ट्रमंडल-20 लघुकथा सम्मान         वैसे ये स्लोगन लगा विज्ञापन है किनके लिए भैये..          BIG NEWS : चीन की चाल , LAC पर तैनात किये 20 हजार से ज्यादा सैनिक         BIG NEWS : सोपोर में आतंकियों की गोली का शिकार बना एक और मासूम         BIG NEWS : सोपोर में CRPF पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, 2 जवान शहीद, तीन घायल         BIG NEWS : इमरान ने फिर रागा कश्मीर का अलाप, डोमिसाइल पॉलिसी को लेकर UNSC से लगाई गुहार         BIG NEWS : यूरोपीय संघ, यूएन और वियतनाम के बाद अब ब्रिटेन ने भी लगाया पाकिस्तान एयरलाइंस पर बैन         BIG NEWS : 'ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब' को बैन करने वाला चीन टिक-टॉक बैन पर तिलमिलाया         देश की सीमाओं में ताका झांकी....!         दीपिका कुमारी और अतनु दास ने एक दूसरे को पहनाई वरमाला, अब होंगे सात फेरे         चलो रे डोली उठाओ कहार...पीया मिलन की रुत आई....         अध्यक्ष बदलने की सियासत         BIG NEWS : पांडे गिरोह ने रामगढ़ एसपी को दिखाया ठेंगा, मोबाइल क्रेशर कंपनी से मांगी रंगदारी         BIG NEWS : जानिए किस देश के प्रधानमंत्री का PM मोदी ने किया जिक्र, जिनपर लगा था 13000 रुपये का जुर्माना         80 करोड़ गरीबों को अब नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज : PM         BIG NEWS : अनंतनाग एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर        

किसान बूढ़ा हो रहा है....

Bhola Tiwari Jul 26, 2019, 8:36 AM IST टॉप न्यूज़
img

 

कबीर संजय

पता नहीं आप लोगों को याद है कि नहीं, बचपन में हमें ‘अधिक अन्न उपजाओ’ विषय पर लेख या निबंध लिखने को आता था। कई बार कला विषय में इस पर कोई सीनरी बनाने को भी कहा जाता था। हम कुछ उल्टा-पुल्टा करते थे। पता नहीं आज क्या हालत है। लेकिन, आज इसकी जरूरत बहुत ज्यादा बढ़ गई है। क्योंकि, हमारा किसान बूढ़ा हो रहा है। नई पीढ़ी उसकी जगह नहीं ले रही है। यही हालत रही तो हमें इस बात की भी चिंता करनी होगी कि हमारा खाना कहां से आएगा। 

दुनिया भले ही चांद पर चली जाए और इंटरनेट की रफ्तार 100 जीबी प्रति सेकेंड हो जाए, लेकिन दुनिया का सबसे कीमती काम खाद्यान्न उपजाना ही रहेगा। यह वो सबसे जरूरी काम है, जिसके बिना हमारी सारी तरक्कियां धरी की धरी रह जाएंगी। भूखे पेट हम चांद और मंगल की कक्षाओं में अपने अंतरिक्ष यान लिए घूम नहीं पाएंगे। भूखे पेट भजन न होए गोपाला। हैरानी की बात यह है कि सबसे ज्यादा जरूरी पेशे में जाने का अब किसी का मन नहीं रहा। किसान अपना पेशा छोड़ रहा है और नई पीढ़ी उसकी जगह नहीं ले रही है। 

आज के समय में चालीस वर्ष से कम आयु के किसान ही हैं। ज्यादातर जो किसानी के पेशे में लगे हुए हैं, उनकी आयु चालीस वर्ष से ज्यादा की हो चुकी है। वर्ष 2016 में भारत के किसानों की औसत आयु 50.1 वर्ष थी। यह इसलिए चिंता की बात है कि क्योंकि नई पीढ़ी को इस पेशे में जाने की कोई रुचि नहीं है। वर्ष 2011 की जनगणना के आंकड़े बताते हैं कि गांवों में रहने वाली 70 फीसदी युवा आबादी के जीवन का आधार खेती ही है। जबकि, इसी में इस बात का खुलासा भी होता है कि हर दिन लगभग दो हजार किसान अपना पेशा छोड़ रहे हैं। जबकि, किसानों की आय किसानी नहीं करने वालों की तुलना में एक बटे पांच ही है। 

वर्ष 2017 में प्रथम नाम की संस्था ने खेती पर निर्भर तीस हजार ग्रामीण युवाओं के बीच सर्वेक्षण किया। इसमें से केवल 1.2 फीसदी युवा ही अपना पुश्तैनी पेशा यानी खेती करने के इच्छुक थे। 18 फीसदी सेना में जाने के इच्छुक थे और 12 फीसदी चाहते थे कि वे इंजीनियर बन जाएं। खेती-किसानी में स्त्रियां महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। लेकन, युवा लड़कियों का 25 फीसदी हिस्सा खेती की बजाय शिक्षक बनकर जीवन बिताने की इच्छा रखती है। 

ऐसा केवल भारत में नहीं है। पूरी दुनिया में ही किसान खेती छोड़ रहे हैं और अन्नदाता बूढ़ा हो रहा है। अमेरिका में किसान की औसत आयु 58 साल और जापान में 67 साल है। हर तीसरा यूरोपीय किसान 65 साल की उम्र का है। भारत की तरह ही दुनिया भर में किसान खेती छोड़ रहे हैं। उदाहरण के लिए जापान में अगले कुछ सालों में 40 फीसदी तक किसान खेती छोड़ देंगे। इसे देखते हुए जापान की सरकार ने खेती में लाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने के उपायों की भी शुरुआत की है। 

जाहिर है कि उस पेशे में कौन जाना चाहेगा, जिसमें ता-जिंदगी अपने ख्वाहिशों पर पैबंद लगाना ही किस्मत बन जाए। जहां पर कर्ज न चुकाने के चलते लोग अपनी जान ले लेते हो। जहां पर पेशे से जुड़ी बीमारियां और जिंदगी पर खतरे सबसे ज्यादा हो। जहां खेत में चारा काटते हुए हाथ कट जाता हो, रात में पानी चलाने के लिए जाते समय सांप काट लेता हो, कीटनाशकों का छिड़काव करते-करते शरीर में कैंसर की गांठे पैंदा हो जाती हो, कठिन परिश्रम के चलते शरीर को लकवा मार जाता हो, हाथ और पैर तक गल जाते हो। 

भारत के किसान की व्यथा कहीं किसी जगह दिखाई नहीं पड़ती। वह घुट-घुट कर जी और मर रहा है। कभी-कभी वह जब लांग मार्च करता है तो उसकी शकल लोगों को याद आती है। अपनी परेशानियों को लेकर वह एकजुट भी नहीं है और अपने खेत की मेढ़ पर बैठा अकेले-अकेले ही अपनी चिंताओं के समाधान के बारे में सोचता रहता है। खेती से उसकी लागत भी नहीं निकल रही है। जबकि, हमारी सरकारें लगातार इस चिंता में डूबी रहती हैं कि कैसे कारपोरेट अपनी लागत का कम से कम बीस-पच्चीस गुना तो कमाए ही। फिर तो अन्नदाता तो बूढ़ा होने से कौन रोक सकता है। 

(इस लेख के कई तथ्य डाउन टू अर्थ पत्रिका में रिचर्ड महापात्रा के लेख से लिए गए हैं, फोटो इंटरनेट से ली गई है)

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links