ब्रेकिंग न्यूज़
भारत का बड़ा कदम : हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा के निर्यात से हटा बैन         POK : गिलगित-बल्तिस्तान में पत्रकारों का पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन, पत्रकारों ने कहा- काम करने की चाहिए आजादी         कोरोना वायरस : अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत से फिर मांगी मदद         संकेत खतरनाक हैं...         धन और जीवन के बीच मांडवली...         झारखंड में तमाशा : कोरोना का मरीज आइसोलेशन वार्ड से निकल शहर में घूमता रहा, लिट्टी खायी, चाय पी         बड़ा फैसला: 1 साल के लिए की गई सांसदों के वेतन में 30% की कटौती         बरेली : लॉकडाउन का पालन कराने गई पुलिस टीम पर भीड़ ने किया हमला, SP घायल         भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : पाकिस्तानी सेना के अधिकारी समेत 3 जवान घायल, दर्जनों चौकियां तबाह         न्यूयॉर्क के चिड़ियाघर में एक चार वर्षीय बाघ भी कोरोना वायरस का शिकार         बास मारती बेसिक शिक्षा के रुदन में शामिल मिस संता-बंता..         भारतीय सेना ने केरन सेक्टर में 5 आतंकियों को मार गिराया         कोरोना वायरस : अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रंप ने प्राइम मिनिस्टर मोदी से मांगी मदद         झारखंड : बोकारो में मिला कोरोना का तीसरा मामला          पाकिस्तान को चीन ने दिया 'धोखा', भेज दिया अंडरवेयर से बने मास्क         खुशखबरी : नए डोमिसाइल नियम में संशोधन, स्थायी निवासियों के लिए सरकारी नौकरियां आरक्षित         स्वास्थ्य मंत्रालय : कोरोना के 30% मामले तब्लीगी जमात के मरकज की वजह से फैले         प्रार्थना का क्या महत्व है ?         लॉक डाउन : कुछ शर्तों के साथ खुल सकता है लॉकडाउन, जानें क्या है सरकार की तैयारी         WHO की रिपोर्ट में खुलासा : ऐसे फैलता है कोरोना वायरस         पाकिस्तान : नाबालिग को अगवा कर पहले किया रेप, फिर धर्म-परिवर्तन करा रेपिस्ट से कराई शादी         इस दीए की रोशनी         अनलॉक्ड : खुली हवाओं में सांस ले रहे हैं जीव-जन्तु         सीएम योगी का फरमान : नर्सों से अश्लील हरकत करने वाले जमातियों पर NSA, अब पुलिस के पहरे में इलाज         जमात की करतूत : नर्सों के सामने नंगा होने वाले जमात के 6 लोगों पर FIR         आप इन्फेक्टेड हो गए हैं तो काफिरों को इन्फेक्ट कीजिए : आईएसआईएस          मैं, सरकारी सिस्टम के साथ हूँ         तबलीगी जमात से जुड़े 400 लोग कोरोना पॉजिटिव, 9000 क्वारनटीन : स्वास्थ्य मंत्रालय         BIG NEWS : झारखंड में कोरोना का दूसरा मरीज मिला         सेना की बड़ी तैयारी : युद्धपोत, प्लेन अलर्ट, सेना के 8,500 डॉक्टर भी तैयार         पाकिस्तान में ऐलान : तबलीगी जमात के लोगों से नहीं मिले मुल्क के लोग         सबके राम !         तबलीगी जमात का आतंकवादी संगठनों से अप्रत्यक्ष संबंध : तस्लीमा नसरीन         BIG NEWS : झारखंड के मंत्री पुत्र को आइसोलेशन वार्ड, होम क्वारेंटाइन में मंत्री         BIG NEWS : अब 15 वर्षों से राज्य में रहने वाला हर नागरिक जम्मू कश्मीर का स्थायी निवासी         11 जनवरी से 31मार्च- 80 दिन 1920 घंटे..         

सपने और हास्य हर तानाशाही का जवाब

Bhola Tiwari Jul 24, 2019, 6:15 AM IST टॉप न्यूज़
img


 दिनेश त्रिनेत

दो फिल्मों की तुलना करना एक दिलचस्प शगल हो सकता है। कई बार इस खेल में दोनों ही फिल्मों की छिपी हुई खूबियां उजागर होने लगती हैं। 'सीक्रेट सुपरस्टार' देखते हुए मुझे लगातार अपनी सबसे प्रिय फिल्मों से एक 'उड़ान' की याद आती रही। 

ऊपरी तौर पर दोनों में बहुत फर्क है। 'उड़ान' एक यथार्थवादी फिल्म है, जबकि 'सीक्रेट सुपरस्टार' अति भावुक, मुस्कान में दबी करुणा वाली। 'उड़ान' में कोई महिला किरदार नहीं हैं, यहां दो सबसे प्रमुख चरित्र स्त्रियां हैं। लेकिन जब भीतर उतरते हैं तो पाते हैं कि बहुत कुछ एक है। सबसे ज्यादा साम्यता है हिंसा में। एक ऐसी हिंसा जो रिश्तों में गुंथी-लिपटी सामने आती है। 

इस हिंसा को पहचानना इतना मुश्किल होता है कि फिल्म में भी पिता के आतंक से सहमी इंसिया यानी जायरा एक जगह उनके बारे में कहती है- "...इतने भी बुरे नहीं हैं वो!" यही वजह है कि नज़मा इस हिंसा भरी दुनिया को ही अपनी दुनिया के रूप में स्वीकार लेती है। इस फिल्म की खूबी है कि यह किसी तरह की बनावट, मल्टी लेयर्ड स्ट्रक्चर, स्टाइलिश कैमरा वर्क का सहारा नहीं लेती। सीधे बिना लाग-लपेट के कहानी कहती है। ऐसी फिल्में लंबे समय तक याद की जाती हैं। 

इस फिल्म को अर्से बात मां बेटी के रिश्तों की खूबसूरत बुनावट के कारण भी याद किया जाएगा। यह रिश्ता हमारी हिन्दी फिल्मों में लगभग गायब सा है। यदि दिखता भी है तो उसमें सच्चाई का अभाव रहता है। अक्सर रोने-धोने में ही इस रिश्ते को निपटा दिया जाता है। रोना-धोना यहां भी है मगर उसके साथ हंसी, शरारत और उम्मीदें भी हैं। जितनी उम्मीदें बेटी को हैं, उससे ज्यादा मां को हैं। वही उड़ने के सपने देखना सिखाती है और फिर सहमकर उसे 'उड़ान' भरने से रोकती भी है। 

विक्रमादित्य मोटवानी की फिल्म 'उड़ान' में भी मां और बेटे का रिश्ता है, मगर वहां मां अदृश्य है। वहां किशोर नायक के साथ छोटे भाई का कोमल रिश्ता है तो यहां एक टीनएज लड़की और उसके छोटे भाई के बीच कोमल संवेदनाओं को दर्शाया गया है। पुरुष या एक वयस्क का वर्चस्ववादी अहंकार, कठोरता और हिंसा 'उड़ान' और 'सीक्रेट सुपस्टार' दोनों में ही देखने को मिलता है। इसी के बरअक्स उम्मीदों की 'उड़ान' भी है। जायरा अपनी मां से कहती है- हम सुबह उठते ही इसलिए हैं कि जो सपने देखे उन्हें जी सकें, उन्हें पूरा कर सकें। 

फिल्म के संवाद बड़े ही खूबसूरत है। जायरा के बचकाने तर्कों में जीवन का पूरा दर्शन छिपा होता है। फिल्म के संवादों में एक किस्म का अंडरकरंट है। जब अपने पति की हिंसा का पहली बार भरे एयरपोर्ट में जवाब देकर नज़मा बाहर निकल रही होती है और सिक्योरिटी गार्ड कहता है - बाहर निकलने के बाद आप वापस भीतर नहीं आ सकतीं... तो उसका जवाब- "इससे अच्छी बात क्या हो सकती है।" एक शानदार संवाद है जो एक कौंध की तरह पूरी फिल्म, उसके चरित्रों और परिस्थितियों को हमारे सामने फिल्म के मूल संदर्भों के साथ रख देता है। 

सपने और हास्य ही हर तानाशाही का जवाब होते हैं। चाहे वह घर के भीतर की तानाशाही हो या किसी देश और समाज की... और फिल्म इन दोनों की आंतरिक ताकत को बखूबी उजागर करती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links