ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : जैश-ए-मोहम्मद का आईईडी विशेषज्ञ अब्दुल रहमान मारा गया         BIG NEWS : अंकित शर्मा मर्डर केस: ताहिर हुसैन ने रची थी पूरी साजिश, चार्जशीट में पुलिस का दावा         चीनी घुसपैठ: तरीका और पृष्ठभूमि से समझिए मंशा          महबूबा मुफ्ती को राहत नहीं, सरकार ने शाह फैसल समेत 3 नेताओं पर से हटाया PSA          BIG NEWS : मसूद अजहर के रिश्तेदार समेत तीन आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर         जार्ज फ्लाँयड मर्डर         ....खलनायक को पाप से मुक्ति मिले         रामकृपाल कंट्रशन के कार्यालय में एनआईए की छापेमारी         यहाँ से फूटती है उम्मीद की किरण..।         BIG NEWS : पाकिस्तान में 3 और नाबालिग हिंदू लड़कियां अगवा, मौलवियों ने जबरन धर्म परिवर्तन कराकर कराई शादी         ..जब प्रेसिडेंट ट्रंप को बंकर में छिपना पड़ा         त्राल एनकाउंटर में 1 आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी          इतिहासकार विजया रामास्वामी का निधन          BIG NEWS  : वैष्णो देवी कटड़ा में 50 घोड़ों और 50 चालकों का कोरोना टेस्ट         झारखंड में कुचल दी गई राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी की संभावनाएं.. अब सब्जी बेचने को हो गई विवश..         शांति-कपोत आत्महत्या कर लेते हैं !          52 years back : गोरे लोग इसके जिम्मेदार हैं तो यह गोरा आपके बीच खड़ा है...         कोरोना काल में हमारे बच्चे !         BIG NEWS : ISI के लिए काम करते थे पाकिस्तानी जासूस, भारत ने देश से बाहर निकाला         BIG NEWS : झारखंड में खुलेगी सभी दुकानें और चलेंगे ऑटो रिक्शा         पाकिस्तान को सिखाया सबक, कई चौकियां तबाह, छह सैनिक घायल         भारतीय सेना ने घुसपैठ कर रहे 3 आतंकियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी         नेतागिरी चमकाने के लिए बेशर्म होना जरूरी....         BIG NEWS : सिंह मैंशन व रघुकुल समर्थकों में भिड़ंत, लाठी-डंडे व तलवार से हमला, दो की हालत गंभीर          ग्रामीणों और बच्चों को ढाल बनाकर नक्सलियों ने पुलिस पर किया हमला, 2 जवान शहीद         BIG NEWS : जासूसी करते हुए पकड़े गए पाक हाई कमीशन के दो अधिकारी, दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया         POK के सभी टेरर कैंपों में भरे पड़े हैं आतंकवादी : लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू         BIG NEWS : बख्तरबंद वाहन में घुसे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने घेर कर मारा         BIG NEWS : अब 30 जून तक बंद रहेंगे झारखंड के स्कूल ं         BIG BRAKING : पुलिस को घेरकर नक्‍सलियों ने बरसाई गोली, डीएसपी का बॉडीगार्ड शहीद        

सपने और हास्य हर तानाशाही का जवाब

Bhola Tiwari Jul 24, 2019, 6:15 AM IST टॉप न्यूज़
img


 दिनेश त्रिनेत

दो फिल्मों की तुलना करना एक दिलचस्प शगल हो सकता है। कई बार इस खेल में दोनों ही फिल्मों की छिपी हुई खूबियां उजागर होने लगती हैं। 'सीक्रेट सुपरस्टार' देखते हुए मुझे लगातार अपनी सबसे प्रिय फिल्मों से एक 'उड़ान' की याद आती रही। 

ऊपरी तौर पर दोनों में बहुत फर्क है। 'उड़ान' एक यथार्थवादी फिल्म है, जबकि 'सीक्रेट सुपरस्टार' अति भावुक, मुस्कान में दबी करुणा वाली। 'उड़ान' में कोई महिला किरदार नहीं हैं, यहां दो सबसे प्रमुख चरित्र स्त्रियां हैं। लेकिन जब भीतर उतरते हैं तो पाते हैं कि बहुत कुछ एक है। सबसे ज्यादा साम्यता है हिंसा में। एक ऐसी हिंसा जो रिश्तों में गुंथी-लिपटी सामने आती है। 

इस हिंसा को पहचानना इतना मुश्किल होता है कि फिल्म में भी पिता के आतंक से सहमी इंसिया यानी जायरा एक जगह उनके बारे में कहती है- "...इतने भी बुरे नहीं हैं वो!" यही वजह है कि नज़मा इस हिंसा भरी दुनिया को ही अपनी दुनिया के रूप में स्वीकार लेती है। इस फिल्म की खूबी है कि यह किसी तरह की बनावट, मल्टी लेयर्ड स्ट्रक्चर, स्टाइलिश कैमरा वर्क का सहारा नहीं लेती। सीधे बिना लाग-लपेट के कहानी कहती है। ऐसी फिल्में लंबे समय तक याद की जाती हैं। 

इस फिल्म को अर्से बात मां बेटी के रिश्तों की खूबसूरत बुनावट के कारण भी याद किया जाएगा। यह रिश्ता हमारी हिन्दी फिल्मों में लगभग गायब सा है। यदि दिखता भी है तो उसमें सच्चाई का अभाव रहता है। अक्सर रोने-धोने में ही इस रिश्ते को निपटा दिया जाता है। रोना-धोना यहां भी है मगर उसके साथ हंसी, शरारत और उम्मीदें भी हैं। जितनी उम्मीदें बेटी को हैं, उससे ज्यादा मां को हैं। वही उड़ने के सपने देखना सिखाती है और फिर सहमकर उसे 'उड़ान' भरने से रोकती भी है। 

विक्रमादित्य मोटवानी की फिल्म 'उड़ान' में भी मां और बेटे का रिश्ता है, मगर वहां मां अदृश्य है। वहां किशोर नायक के साथ छोटे भाई का कोमल रिश्ता है तो यहां एक टीनएज लड़की और उसके छोटे भाई के बीच कोमल संवेदनाओं को दर्शाया गया है। पुरुष या एक वयस्क का वर्चस्ववादी अहंकार, कठोरता और हिंसा 'उड़ान' और 'सीक्रेट सुपस्टार' दोनों में ही देखने को मिलता है। इसी के बरअक्स उम्मीदों की 'उड़ान' भी है। जायरा अपनी मां से कहती है- हम सुबह उठते ही इसलिए हैं कि जो सपने देखे उन्हें जी सकें, उन्हें पूरा कर सकें। 

फिल्म के संवाद बड़े ही खूबसूरत है। जायरा के बचकाने तर्कों में जीवन का पूरा दर्शन छिपा होता है। फिल्म के संवादों में एक किस्म का अंडरकरंट है। जब अपने पति की हिंसा का पहली बार भरे एयरपोर्ट में जवाब देकर नज़मा बाहर निकल रही होती है और सिक्योरिटी गार्ड कहता है - बाहर निकलने के बाद आप वापस भीतर नहीं आ सकतीं... तो उसका जवाब- "इससे अच्छी बात क्या हो सकती है।" एक शानदार संवाद है जो एक कौंध की तरह पूरी फिल्म, उसके चरित्रों और परिस्थितियों को हमारे सामने फिल्म के मूल संदर्भों के साथ रख देता है। 

सपने और हास्य ही हर तानाशाही का जवाब होते हैं। चाहे वह घर के भीतर की तानाशाही हो या किसी देश और समाज की... और फिल्म इन दोनों की आंतरिक ताकत को बखूबी उजागर करती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links