ब्रेकिंग न्यूज़
अब तानाजी के वीडियो में छेड़छाड़ कर पीएम मोदी को दिखाया शिवाजी         सरकार का नया दांव : जनसंख्या नियंत्रण कानून...         हम भारत के सामने बहुत छोटे हैं, बदला नहीं ले सकते : महातिर मोहम्मद         तीस साल बीतने के बावजूद कश्मीरी पंडितों की सुध लेने वाला कोई नहीं, सरकार की प्राथमिकता में कश्मीर के अन्य मुद्दे         हेमंत सोरेन को मिला 'चैम्पियन ऑफ चेंज' अवॉर्ड         जेपी नड्डा भाजपा के नए अध्यक्ष, मोदी बोले-स्कूटर पर साथ घूमे         नए दशक में देश के विकास में सबसे ज्यादा 10वीं-12वीं के छात्रों की होगी भूमिका : मोदी         CAA को लेकर केरल में राज्यपाल और राज्य सरकार में ठनी         इतिहास तो पूछेगा...         सेखुलरी माइंड गेम...         अफसरों की करतूत : पत्नियों की पिकनिक के लिए बंद किया पतरातू रिजाॅर्ट         गुरूवर रविंद्रनाथ टैगोर की मशहूर कविता "एकला चलो रे" की राह पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव         पत्रकारिता में पद्मश्रियों और राज्यसभा की सांसदी के कलुष...         विकास का मॉडल देखना हो तो चीन को देखिए...         फरवरी में भारत आएंगे ट्रंप, अहमदाबाद में होगा 'हाउडी मोदी' जैसा कार्यक्रम         शर्मनाक : सीएम के आदेश के बावजूद सरकारी मदद पहुंचने से पहले मरीज की मौत         झारखण्ड मंत्रिमंडल लगभग तय ! अन्तिम मुहर लगनी बाकी         ऑस्ट्रेलिया का क्या होगा...         क्या चंद्रशेखर आजाद बसपा सुप्रीमो मायावती का विकल्प बन सकते हैं?         सबसे पहले जनसंख्या नियंत्रण कानून की मांग कीजिए...         जनता की सेवा करें विधायक : सोनिया गांधी         झाविमो कार्यसमिति घोषित : विधायक प्रदीप यादव एवं बंधु तिर्की को कमेटी में कोई पद नहीं         रायसीना डायलॉग में सीडीएस विपिन रावत ने तालिबान से सकारात्मक बातचीत की वकालत की         कवि और सामाजिक कार्यकर्ता अंशु मालवीय पर जानलेवा हमला         डॉन करीम लाला से मुंबई में मिलने आती थी इंदिरा गांधी : संजय रावत         भाजपा में विलय की उलटी गिनती शुरू, हेमंत सरकार से समर्थन वापस लेगा जेवीएम         भारत और सऊदी अरब से तनातनी की कीमत चुका रहा है मलेशिया         हिंदी पत्रकारिता का हाल क्रिकेट टीम के बारहवें खिलाड़ी सा...         बड़ी बेशर्मी से शर्मसार होने का रोग लगा देश को...         लाहौर टू शाहीन बाग : पाकिस्तान के लाहौर में बैठकर मणिशंकर अय्यर ने उड़ाया भारत का मजाक         क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति ?         अलोकप्रिय हो चुके नीतीश कुमार को छोडकर अपनी राहें तलाशनी होगी भाजपा को बिहार में         बाबूलाल जी की जी हजूरी, ये कैसी भाजपाइयों की मजबूरी         भाजपा में विलय की ओर बढ़ रहा झाविमो : प्रदीप यादव        

सपने और हास्य हर तानाशाही का जवाब

Bhola Tiwari Jul 24, 2019, 6:15 AM IST टॉप न्यूज़
img


 दिनेश त्रिनेत

दो फिल्मों की तुलना करना एक दिलचस्प शगल हो सकता है। कई बार इस खेल में दोनों ही फिल्मों की छिपी हुई खूबियां उजागर होने लगती हैं। 'सीक्रेट सुपरस्टार' देखते हुए मुझे लगातार अपनी सबसे प्रिय फिल्मों से एक 'उड़ान' की याद आती रही। 

ऊपरी तौर पर दोनों में बहुत फर्क है। 'उड़ान' एक यथार्थवादी फिल्म है, जबकि 'सीक्रेट सुपरस्टार' अति भावुक, मुस्कान में दबी करुणा वाली। 'उड़ान' में कोई महिला किरदार नहीं हैं, यहां दो सबसे प्रमुख चरित्र स्त्रियां हैं। लेकिन जब भीतर उतरते हैं तो पाते हैं कि बहुत कुछ एक है। सबसे ज्यादा साम्यता है हिंसा में। एक ऐसी हिंसा जो रिश्तों में गुंथी-लिपटी सामने आती है। 

इस हिंसा को पहचानना इतना मुश्किल होता है कि फिल्म में भी पिता के आतंक से सहमी इंसिया यानी जायरा एक जगह उनके बारे में कहती है- "...इतने भी बुरे नहीं हैं वो!" यही वजह है कि नज़मा इस हिंसा भरी दुनिया को ही अपनी दुनिया के रूप में स्वीकार लेती है। इस फिल्म की खूबी है कि यह किसी तरह की बनावट, मल्टी लेयर्ड स्ट्रक्चर, स्टाइलिश कैमरा वर्क का सहारा नहीं लेती। सीधे बिना लाग-लपेट के कहानी कहती है। ऐसी फिल्में लंबे समय तक याद की जाती हैं। 

इस फिल्म को अर्से बात मां बेटी के रिश्तों की खूबसूरत बुनावट के कारण भी याद किया जाएगा। यह रिश्ता हमारी हिन्दी फिल्मों में लगभग गायब सा है। यदि दिखता भी है तो उसमें सच्चाई का अभाव रहता है। अक्सर रोने-धोने में ही इस रिश्ते को निपटा दिया जाता है। रोना-धोना यहां भी है मगर उसके साथ हंसी, शरारत और उम्मीदें भी हैं। जितनी उम्मीदें बेटी को हैं, उससे ज्यादा मां को हैं। वही उड़ने के सपने देखना सिखाती है और फिर सहमकर उसे 'उड़ान' भरने से रोकती भी है। 

विक्रमादित्य मोटवानी की फिल्म 'उड़ान' में भी मां और बेटे का रिश्ता है, मगर वहां मां अदृश्य है। वहां किशोर नायक के साथ छोटे भाई का कोमल रिश्ता है तो यहां एक टीनएज लड़की और उसके छोटे भाई के बीच कोमल संवेदनाओं को दर्शाया गया है। पुरुष या एक वयस्क का वर्चस्ववादी अहंकार, कठोरता और हिंसा 'उड़ान' और 'सीक्रेट सुपस्टार' दोनों में ही देखने को मिलता है। इसी के बरअक्स उम्मीदों की 'उड़ान' भी है। जायरा अपनी मां से कहती है- हम सुबह उठते ही इसलिए हैं कि जो सपने देखे उन्हें जी सकें, उन्हें पूरा कर सकें। 

फिल्म के संवाद बड़े ही खूबसूरत है। जायरा के बचकाने तर्कों में जीवन का पूरा दर्शन छिपा होता है। फिल्म के संवादों में एक किस्म का अंडरकरंट है। जब अपने पति की हिंसा का पहली बार भरे एयरपोर्ट में जवाब देकर नज़मा बाहर निकल रही होती है और सिक्योरिटी गार्ड कहता है - बाहर निकलने के बाद आप वापस भीतर नहीं आ सकतीं... तो उसका जवाब- "इससे अच्छी बात क्या हो सकती है।" एक शानदार संवाद है जो एक कौंध की तरह पूरी फिल्म, उसके चरित्रों और परिस्थितियों को हमारे सामने फिल्म के मूल संदर्भों के साथ रख देता है। 

सपने और हास्य ही हर तानाशाही का जवाब होते हैं। चाहे वह घर के भीतर की तानाशाही हो या किसी देश और समाज की... और फिल्म इन दोनों की आंतरिक ताकत को बखूबी उजागर करती है।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links