ब्रेकिंग न्यूज़
BIG NEWS : कुलगाम एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया         BIG NEWS : लेह अस्पताल पर उठे सवाल, आर्मी ने दिया जवाब, "बहादुर सैनिकों की उपचार की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण"         BIG NEWS : JAC ने जारी किया 11वीं का रिजल्ट, 95.53 फीसदी छात्रों को मिली सफलता         कानपुर: चौबेपुर के SHO विनय तिवारी सस्पेंड, विकास दुबे से मिलीभगत का आरोप         राजौरी में आतंकी ठिकाने का पर्दाफाश, कई हथियार बरामद         BIG NEWS : विस्तारवाद पर दुनिया में अकेला पड़ गया चीन, भारत के साथ खड़ी हो गई महा शक्तियां         गुरु पूर्णिमा के दिन 5 जुलाई को लगेगा चंद्र ग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर         BIG NEWS : कराची में आतंकवादी हाफिज सईद के सहयोगी आतंकी मौलाना मुजीब की हत्या         BIG NEWS : भारत ने बॉलीवुड प्रोग्राम के पाकिस्तानी ऑर्गेनाइजर रेहान को किया ब्लैकलिस्ट         क्या रोक सकेंगे चीनी माल         BIG NEWS : सरहद पर मोदी का ऐलान, दुनिया में विस्तारवाद का हो चुका है अंत, PM मोदी के लेह दौरे से चीन में खलबली         BIG NEWS : CRPF जवान और 6 साल के बच्चे को मारने वाला आतंकी श्रीनगर एनकाउंटर में ढेर         भारत में बनी कोविड वैक्सीन 15 अगस्त तक होगी लॉन्च         BIG NEWS : आतंकवादियों से लोहा लेते हुए श्रीनगर में झारखंड का लाल शहीद         BIG NEWS : अचानक सुबह लेह पहुंचे पीएम मोदी, जांबाज जवानों से मिले और हालात का लिया जायजा         बॉलीवुड में फिर छाया मातम, मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का निधन         BIG NEWS : गुंडों ने बरसाई अंधाधुंध गोलियां, सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद         श्रीनगर एनकाउंटर में सुरक्षा बलों ने एक आतंकी को मार गिराया, 1 जवान शहीद         BIG NEWS : चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर ओली गा रहे हैं ओले ओले...         बोत्सवाना में क्यों मर रहे हैं हाथी...         BIG NEWS : पुलवामा हमले का एक और आरोपी गिरफ्तार         झारखंड में हेमंत सोरेन की सरकार गिर जाएगी : सांसद निशिकांत दुबे         BIG NEWS : बीजेपी का नया टाइगर         BIG BREAKING : रामगढ़ के पटेल चौक पर दो ट्रेलर के बीच फंसी कार, दो की मौत, आधा दर्जन लोग कार में फसे         BIG NEWS : चीन को बड़ा झटका; DHL के बाद FedEX ने बंद की चीन से भारत आने वाली शिपमेंट सर्विस         BIG NEWS : ड्रैगन के खिलाफ एक्शन में भारत, कार्रवाई से चीन में भारी नुकसान की आहट         BIG NEWS : भारत की कृतिका पांडे को मिला राष्ट्रमंडल-20 लघुकथा सम्मान         वैसे ये स्लोगन लगा विज्ञापन है किनके लिए भैये..          BIG NEWS : चीन की चाल , LAC पर तैनात किये 20 हजार से ज्यादा सैनिक         BIG NEWS : सोपोर में आतंकियों की गोली का शिकार बना एक और मासूम         BIG NEWS : सोपोर में CRPF पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, 2 जवान शहीद, तीन घायल         BIG NEWS : इमरान ने फिर रागा कश्मीर का अलाप, डोमिसाइल पॉलिसी को लेकर UNSC से लगाई गुहार         BIG NEWS : यूरोपीय संघ, यूएन और वियतनाम के बाद अब ब्रिटेन ने भी लगाया पाकिस्तान एयरलाइंस पर बैन         BIG NEWS : 'ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब' को बैन करने वाला चीन टिक-टॉक बैन पर तिलमिलाया         देश की सीमाओं में ताका झांकी....!         दीपिका कुमारी और अतनु दास ने एक दूसरे को पहनाई वरमाला, अब होंगे सात फेरे         चलो रे डोली उठाओ कहार...पीया मिलन की रुत आई....         अध्यक्ष बदलने की सियासत         BIG NEWS : पांडे गिरोह ने रामगढ़ एसपी को दिखाया ठेंगा, मोबाइल क्रेशर कंपनी से मांगी रंगदारी         BIG NEWS : जानिए किस देश के प्रधानमंत्री का PM मोदी ने किया जिक्र, जिनपर लगा था 13000 रुपये का जुर्माना         80 करोड़ गरीबों को अब नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज : PM         BIG NEWS : अनंतनाग एनकाउंटर में 2 और आतंकी ढेर        

इस रात की सुबह कब होगी

Bhola Tiwari Jul 20, 2019, 5:25 PM IST टॉप न्यूज़
img

1869 के बाद अंग्रेजों ने कभी तटबंध नहीं बनाया

जवाहरलाल नेहरू के आने के बाद बाढ़ के नाम पर इंजीनियरों ने खूब खेल खेला


 दिनेश मिश्रा

मेरी बातों से असहमति आपका अधिकार है पर जो नदियों और बाढ़ का प्रामाणिक इतिहास मुझे उपलब्ध हुआ उसमें दामोदर और कावेरी की चर्चा मिली। जेम्स रेनेल ने 1779 में गंगा की बाढ़ और उस पर बने तटबंधों का हलका सा ज़िक्र किया है और बाद में फ्रान्सिस बुकानन ने कुछ बात कोसी के तटबंधों के बारे में की है जिसे विलियम हंटर ने आगे बढ़ाया।विलियम विल्कॉक्स ने दामोदर की बाढ़ के बारे में बहुत कुछ लिखा है। इन कृतियों में ज़मींदारी और महाराजी छोटी ऊंचाई के बांधों की चर्चा मिलती है जो ज़्यादा सफल इसलिये थे क्योंकि उनके रख-रखाव का जिम्मा स्थानीय था और उसके लिये संसाधन भी स्थानीय सत्ता स्रोतों से मिलते थे। 

अंग्रेज़ों ने शुरू शुरू में बाढ़ सुरक्षा के नाम पर पैसा बनाने की सोची और पूरी तरह से मुंहकी खाई। 1869 में उन्हें दामोदर के तटबंधों को तोड़ना पड़ा और उसके बाद उन्होंने कभी तटबंध नहीं बनाये। उन्हें जब देशज ग्यान का बोध हुआ तब तक बहुत देर हो चुकी थी। इस बीच वो ह्वांग हो और मिस्सिस्सिपी के तटबंधो की समस्या का अध्ययन कर चुके थे और उन्हें लगा कि उन्होंने बाढ़ रोकने का काम भूल कर कोई गलती नहीं की।

भारत छोड़ने के पहले उन्होंने बराहक्षेत्र बांध का शोशा छोड़ा और चले गये। 1952 तक पूरा माहौल बराहक्षेत्र के हक और कोसी पर तटबंध के खिलाफ़ बना रहा मगर नेहरू के 1953 की बाढ़ के बाद के एक वाक्य ने "इन लोगों के लिये तुरंत कुछ करना चाहिये" तटबंघों को राजनैतिक मान्यता दे दी। बाद में इंजीनियरों ने अपना खेल खेला और कोसी पर तटबंध बन गये। बहस समाप्त हो गई और 1979 के बाद उसके नफे-नुकसान का मूल्यांकन नहीं हुआ. 1979 का मूल्यांकन योजना आयोग ने किया था और उसमें पाया गया था कि तटबंधों के अन्दर कृषि उत्पादन में वृद्धि हुई थी जबकि तटबंध के बाहर के बाढ़ सुरक्षित क्षेत्र में इसका उत्पादन घटा था. ऐसा जल-जमाव में वृद्धि के कारण हुआ था. तटबंधों ने बाढ़ से एक हद तक सुरक्षा जरूर दी थी क्योंकि उसद समय तक कोसी का तटबंध केवल नेपाल में डलवा में 1963 में और भटनियाँ (सुपौल) में 1971 में टूटा था.

उसके बाद फिर तटबंधों के बीच रहने वालों और उनके बाहर रहने वालों की किसी भी तकलीफ के बदले रिलीफ देने का प्रचलन बढ़ा और वह भी बहुत से नेताओं के विरोध के बावजूद क्योंकि उनको डर था कि रिलीफ लोगों को सरकार पर आश्रित और अंततः भिखमंगा बनायेगी। बाढ़ के समय कभी TV देखिये तो ये लोग कहीं से एक बूढ़ा या बूढ़ी औरत पकड़ कर लायेंगे और उसका हाल चाल पूछेंगे। वो कहेगा/गी कि हमको कुछ नहीं मिला । मैंनेे आजतक किसी को यह कहते नहीं सुना है कि जो यह कहे कि उसका सब कुछ चला गया।

इस कथन का मर्म राजनीतिग्य समझता है और वो अच्छी तरह जानता है कि अगर किसी बाढ़ पीड़ित को कुछ खैरात मिल जायेागी तो वह चुप हो जायेगा/गी और उसकी राजनीति पर कत्तई कोई आँच नहीं आयेगी।यही वजह थी कि कुसहा त्रासदी के बाद के चुनाव में राजग कोसी क्षेत्र की सभी सीटों पर चुनाव जीत गया था। यह प्रताप उसी एक क्विंटल गेहूँ और 2200 रुपये का था जिसके साथ और भी बहुत से वायदे किये गये थे जो आज तक पूरे नहीं हुए। पीड़ितों ने रिलीफ देने वालों का एहसान उन्हें वोट देकर चुकाया। वो भूल गये कि उनकी बदहाली की वजह वही लोग थे जिसका एहसान उन्होंने वोट देकर चुकाया था। रिलीफ बांटने की यह नई व्यवस्था वित्त आयोग की सिफारिश पर 2005 से लागू हुई और न जाने कब तक चलेगी।

एक तरफ़ रिलीफ का यह करिश्मा और दूसरी तरफ नेपाल के बराहक्षेत्र मे कोसी पर बांध बनाने का प्रस्ताव जो 1937 से अब तक सुर्खियों में बना हुआ है, के आश्वासनों के बीच फंसी कोसी क्षेत्र की जनता के लिये किसी तीसरे विकल्प को खोजने का प्रयास भी नहीं होता। इस रात की सुबह कब होगी किसी को नहीं पता।

Similar Post You May Like

Recent Post

Popular Links